गर्मियों में भी अपने पेट और मस्तिष्क को रखना है कूल, जो रेगुलर डाइट में शामिल करें ये 5 आयुर्वेदिक हर्ब्स

चिलचिलाती गर्मी में पसीना, घमोरियां और एसिडिटी से बचने के लिए आयुर्वेदिक औषधियां बेहद कारगर साबित होती है। अगर आप गर्मी या उमस भरे मौसम में फ्रेश और एक्टिव महसूस करना चाहते हैं, तो इन कूलिंग हर्ब्स का करें इस तरह से प्रयोग।
Cooling herbs ke fayde
कूलिंग हर्ब्स न केवल रोगों को ठीक करती हैं बल्कि नए रोगों को पनपने से भी रोकने का काम करती हैं। चित्र अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Updated: 3 Apr 2023, 02:25 pm IST
  • 141

गर्मियों की शुरूआत के साथ ही शरीर को ठंडक की आवश्यकता होती है। एयर कंडीशनर शरीर को बाहरी तौर पर तो ठंडा रखता है। वहीं अंदरूनी तौर पर खुद को कूल और फ्रेश रखने के लिए कुछ आयुर्वेदिक हर्ब्स हमारे लिए फायदेमंद हो सकती हैं। ये हर्ब्स न केवल रोगों को ठीक करती हैं बल्कि नए रोगों को पनपने से भी रोकने का काम करती हैं (5 Cooling Ayurvedic Herbs for summer)।

सदियों से व्यजंनों में हर्ब्स और स्पाइसीज़ का इस्तेमाल हो रहा है। इनकी मदद से न केवल भोजन स्वादिष्ट बनता है बल्कि ये अपने स्वाद, सुगंध और रंग के साथ साथ तीव्र और पुरानी बीमारियों से भी बचाने का काम करता हैं। एनसीबीआई के मुताबिक अमेरिका में अधिकतर लोग औषधीय और चिकित्सीय उपचार के लिए मसालों और जड़ी बूटियों का ही प्रयोग करते हैं।

जानते हैं, प्राकृतिक चिकित्सक अनिल बंसल से कि वो कौन सी हर्ब्स है, जिनका सेवन हम गर्मियों में कर सकते हैं।

rasoi ke masale ke fayde
एंटी ऑक्सीडेंटस और एंटीमाइक्रोबिय गुणों से भरपूर पुदीना शरीर को डिटॉक्स करने का काम करता है। चित्र: शटरस्टॉक

1. पुदीना

आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल होने वाला पुदीना गर्मियों में शरीर को ठंडक प्रदान करन का काम करता है। एंटी ऑक्सीडेंटस और एंटीमाइक्रोबिय गुणों से भरपूर पुदीना शरीर को डिटॉक्स करने का काम करता है। इसका तेल खुजली और रैशेज की समस्याओं को दूर करने का काम करता है।

स्मूदीज़ और लेमनेड में मिन्ट लीव्स मिलाकर पी सकते हैं। इससे शरीर को ठंडक मिलती है।
पुदीने की चटनी बनाकर अपनी थाली में एड कर सकते हैं। इसे खाने से खाना आसानी से पच जाता है।
स्वाद में कसैली पुदीने की पत्तियों को चाय के तौर पर पानी में उबालकर पीने से शरीर में एंटी ऑक्सीडेंटस की प्राप्ति होती है।

2. धनिया

कोई भी व्यंजन हो ध्यानिया की पत्ती उसमें खुशबू और फ्रेशनेस को एड करने का काम करती हैं। इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंटस फ्री रेडिकल डैमेज से लड़ने का काम करते हैं। इसके सेवन से शरीर को ठंडक मिलती है। इसे चटनी के रूप में खा सकते है। साथ ही इसका पानी भी इसे सकते है। इसके पौधे को आसानी से घर में लगाया जा सकता है। इसके सेवन से शरीर में फ्लेवोनोइड, फाइबर, आयरन और पॉलीफेनोल समेत बी.कैरोटीनोइड की कमी पूरी होती है। इसमें मौजूद एंटी एजिंग प्रापर्टीज स्किन को माइचराइज्ड रखने का काम करती है।

3. एलोवेरा

फिटनेस एक्सपर्ट पूनम दूनेजा के मुताबिक एलोवेरा जेल में 80 फीसदी पानी पाया जाता है। ये हमारी बॉडी को हाइड्रेटेड रखने का काम करता है। एंटी.बैक्टीरियल और एंटी.इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर एलोवेरा शरीर के इम्यून सिस्टम को मज़बूत करने का काम करता है। इस लाभकारी पौधे को काटकर निकलने वाली जेल को आप पीने के साथ साथ चेहरे पर भी लगा सकते हैं। इसे पीने से मोटापा भी कम होता है। तासीर में ठंडी एलोवेरा जेल के एक कप जूस में दो चुटकी गिलोए पाउडर मिलाकर पीने से मोटापा कम होता है। इसके नियमित सेवन से हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहता है।

Jaanein aloe vera ke fayde
एलोवेरा में हमारे शरीर को रोगों से मुक्त रखने और इम्यून सिस्टम को मज़बूत करने समेत कई गुण पाए जाते हैं। चित्र अडोबी

4. छोटी इलायची

चाय से लेकर डेज़र्टस तक हर जगह छोटी इलायची अपनी खास जगह बना लेती है। एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर छोटी इलायची तासीर में ठंडी होती है और हमारी स्किन का भी ख्याल रखती है। विटामिन सी से भरपूर इस तत्व में फाइटोन्यूट्रिएंट्स की बहुत सी लेयरस पाई जाती हैं। इससे ब्लड सर्कुलेशन पूर्ण रूप से होने लगता हैं। इसे खाने से मुंह की दुर्गंध भी दूर हो जाती है।

5. मुलेठी

खांसी और जुकाम में मुलेठी का पाउडर बेहद फायदेमंद साबित हेता है। हल्की मिठास से भरपूर मुलेठी इम्यून सिस्टम को मज़बूत करने का काम करती है। याददाश्त सुधारने से लेकर वेट रिडक्शन में भी मददगार साबित होने वाली मुलेठी गर्मियों में पेट के लिए बेहद फायदेमंद साबित होती है।

मुलेठी और मिसरी को एक साथ पीसकर खाने से पेट संबधी समस्याएं हल होती हैं। इसके अलावा इसे चबाने से मुंह में जमा बैक्टीरिया और गर्मी में अक्सर होने वाले छालों को दूर कर गले को साफ करती है। साथ ही ब्लॉटिंग, जलन और कब्ज से मुक्ति दिलाती है। इसे आप चाय में उबालकर भी पी सकते हैं। इसके अलावा इसे गर्मी में घमोरियों से छुटकारा पाने के लिए फेसपैक के तौर पर भी अप्लाई कर सकते है।

ये भी पढ़ें- Homophobia : ये दुनिया अलग-अलग रंगों से सजी है, किसी खास वर्ग के लोगों से डरना हो सकता है होमोफोबिया का संकेत

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख