गुर्दे की पथरी

UPDATED ON: 19 Jan 2024, 11:00 AM
मेडिकली रिव्यूड

गुर्दे की पथरी या किडनी स्टोन (Kidney Stone) एक कठोर, क्रिस्टलीय खनिज जमाव है, जो गुर्दे में बनता है। यह मूत्र में पाए जाने वाले कैल्शियम, ऑक्सालेट और यूरिक एसिड जैसे खनिजों से बनता है। गुर्दे की पथरी तब विकसित होती है, जब इन पदार्थों की सांद्रता में असंतुलन होता है। जिससे उनका क्रिस्टलीकरण होता है और बाद में वे सख्त हो जाते हैं और एक पत्थरनुमा आकार ले लेते हैं।

क्या होता है गुर्दे की पथरी

एक बार बनने के बाद, गुर्दे की पथरी का आकार अलग-अलग हो सकता है, जो रेत के दाने जितने छोटे से लेकर गोल्फ की गेंद जितना बड़ा तक हो सकता है। पथरी मूत्र पथ के माध्यम से फैल सकती है, जिससे अत्यधिक दर्द और परेशानी हो सकती है, क्योंकि वे मूत्र के प्रवाह को अवरुद्ध कर देती है।

गुर्दे की पथरी : कारण

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी बनने का सटीक कारण अक्सर अज्ञात होता है, लेकिन कुछ कारक इसके जोखिम को कई गुना तक बढ़ाते हैं।

अधिक कैल्शियम

ज्यादा कैल्शियम आपके यूरिन में जमा होकर किडनी स्टोन्स के रूप में पथरी बनाने के लिए कारण बन सकता है।

निर्जलीकरण

अपर्याप्त पानी के सेवन से मूत्र गाढ़ा हो जाता है, जिसके कारण पथरी बनने की संभावना बढ़ जाती है।

गुर्दे का संक्रमण

किडनी में संक्रमण या बैक्टीरियल इंफेक्शन भी पथरी की उत्पत्ति का कारण बन सकता है।

ऑक्सालेट युक्त आहार

उच्च नमक, पशु प्रोटीन और ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थ (जैसे पालक, चॉकलेट, नट्स और कुछ फल) वाला आहार लेने से पथरी बनने की समस्या जो सकती है।

पारिवारिक इतिहास

यदि किसी व्यक्ति के पास गुर्दे की पथरी का पारिवारिक इतिहास है तो उसे गुर्दे की पथरी होने का खतरा अधिक हो सकता है।

कुछ चिकित्सीय स्थितियां

हाइपरकैल्सीयूरिया, सिस्टीनुरिया और हाइपरपैराथायरायडिज्म जैसी स्थितियां गुर्दे की पथरी के खतरे को बढ़ा सकती हैं।

मूत्र पथ संक्रमण

कुछ प्रकार के बैक्टीरिया ऐसे पदार्थ उत्पन्न कर सकते हैं जो पथरी के निर्माण को बढ़ावा देते हैं।

अन्य कारण

अन्य कारण जैसे कि गुर्दे की समस्याएँ, ज्यादा प्रोटीन खाने, विशेष रूप से पर्याप्त जल की आवश्यकता की अभाव, और अन्य मेडिकल समस्याएँ भी पथरी के उत्पत्ति के कारण बन सकते हैं।

यह भी पढ़ें – क्या टमाटर और बैंगन के बीज बन सकते हैं पथरी का कारण? चलिये पता करते हैं

गुर्दे की पथरी : महत्वपूर्ण तथ्य

उपचार

उपचार के बाद की देखभाल:

उपचार के बाद, आपको अपने डॉक्टर के सुझावों के अनुसार जीवनशैली में बदलाव करने की सलाह दी जा सकती है, जैसे कि पानी की पर्याप्त मात्रा में पीना और खानपान में सुधार करना।

यदि आपको किडनी स्टोन्स के लक्षण हैं या आपको इस समस्या से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या हो, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए, क्योंकि उपचार और बचाव के लिए सही रूप से जांच की आवश्यकता होती है।

गुर्दे की पथरी : लक्षण

किडनी में होने वाली पथरी के कई लक्षण देखने को मिलते है, जिसमें पीठ और पेट के नीचे की ओर दर्द होना और पेशाब के साथ दर्द का बढ़ जाना सबसे आम लक्षण हैं। इसके साथ ही इसके कई अन्य लक्षण भी हैं, जो पथरी की मौजूदगी का संकेत देते हैं-

पेट और पीठ के नीचे दर्द :

सबसे प्रमुख लक्षण में से एक है पेट और पीठ के नीचे दर्द, जो काफी आकस्मिक और तेज होता है। यह दर्द अक्सर पेट की निचली ओर महसूस होता है और बार-बार हो सकता है.

पेशाब के साथ दर्द होना :

गुर्दे की पथरी के साथ-साथ पेशाब करते समय दर्द का अहसास हो सकता है। यह सामान्य किडनी स्टोन्स के लक्षण होते हैं, जिसे मेडिकल भाषा में “उरेट्रिक कोलिक” कहा जाता है। इसका मतलब होता है कि किडनी स्टोन्स किडनी से निकलते समय मूत्रपेशी (यूरेटर) में फंस जाते हैं, जिससे यूरिन का दबाव बढ़ सकता है और यूरिन पास करते समय दर्द हो सकता है।

पेशाब में रक्त आना :

पेशाब में रक्त आना (हेमैटूरिया) किडनी स्टोन्स के मौजूद होने का एक संकेत होता है, किडनी स्टोन्स के साथ-साथ पेशाब में रक्त आने के बारे में यदि बात की जाए, तो यह लक्षण बार-बार हो सकते हैं और इसमें यूरिन का रंग हल्का गुलाबी या लाल होता है। वही, जब स्टोन्स किडनी से निकलकर पेशाब के साथ आते हैं, तो उसके कारण मूत्र में रक्त मिल जाता है और इसके संक्रमण के कारण हेमैटूरिया हो जाता है.

उल्टी आना या उल्टी जैसे महसूस होना :

किडनी स्टोन्स के होने पर व्यक्ति को उल्टी की भावना हो सकती है। यह भी किडनी स्टोन्स के लक्षणों में से एक हैं और अगर इसका उपयुक्त समय पर उपचार नहीं किया जाता है तो इससे उल्टी की समस्या हो सकती है। किडनी स्टोन्स के कारण स्टोन्स ‘यूरिटर’ में फंस जाते हैं और वहां दबाव डालते हैं। इसके परिणामस्वरूप, यूरिन का पैसेज बढ़ सकता है और व्यक्ति को उलटी की भावना हो सकती है।

गुर्दे की पथरी : निदान

ब्लड टेस्ट

किडनी स्टोन के बारे में पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट करना बहुत जरूरी है। ब्लड टेस्ट में यह पता चलता है कि ब्लड में कहीं बहुत अधिक कैल्शियम या यूरिक एसिड की मात्रा है या नहीं। ब्लड टेस्ट के परिणाम आपके गुर्दे के स्वास्थ्य की निगरानी करने में मदद करते हैं और आपके डॉक्टर को अन्य चिकित्सीय स्थितियों की जांच करने के लिए भी बाध्य करते हैं।

यूरिन टेस्ट

किडनी स्टोन के लिए यूरिन टेस्ट कराना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए 24 घंटे का मूत्र संग्रह परीक्षण किया जाता है, जिससे यह पता चलता है कि शरीर में बहुत अधिक पथरी बनाने वाले खनिज या बहुत कम पथरी रोकने वाले पदार्थ उत्सर्जित कर रहे हैं या नहीं। इस परीक्षण के लिए, आपका डॉक्टर आपसे लगातार दो दिनों तक यूरिन टेस्ट करवाने का अनुरोध कर सकता है, ताकि इस मामले में डॉक्टर को पूरी तरह से क्लैरिटी मिले।

इमेजिंग करना

इमेजिंग परीक्षण आपके यूरिनरी ट्रैक्ट में गुर्दे की पथरी दिखा सकते हैं। सीटी स्कैन के जरिये किडनी या यूरिनरी ट्रैक्ट में मौजूद छोटे पत्थर दिखाई पड़ सकते हैं । साधारण पेट के एक्स-रे का उपयोग कम बार किया जाता है क्योंकि इस प्रकार के इमेजिंग परीक्षण से छोटे गुर्दे की पथरी छूट सकती है।

अल्ट्रासाउंड

किडनी स्टोन के बारें में पता लगाने का एक और साधन ‘अल्ट्रासाउंड’ है। एक गैर-आक्रामक परीक्षण जो त्वरित और आसान है। यह भी एक तरह का इमेजिंग विकल्प है, जिसमें यह देखा जा सकता है कि गुर्दे या यूरिनरी ट्रैक्ट में स्टोन है या नहीं।

गुर्दे की पथरी : उपचार

गुर्दे की पथरी का उपचार उसके प्रकार और आकार के आधार पर विभिन्न हो सकता है। यह उपचार डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया जाता है, और यहां कुछ सामान्य गुर्दे की पथरी के उपचार के प्रकार हैं

दवाओं के माध्यम से :

आमतौर पर छोटी गुर्दे की पथरी के लिए, जैसे कि छोटे साइज के स्टोन्स, डॉक्टर आमतौर पर दवाओं की सलाह देते हैं, जो आम दवाओं का प्रयोग करने से गुर्दे से बाहर निकाल सकती हैं। यह दवाएँ आमतौर पर पानी के साथ ली जाती हैं, ताकि स्टोन को बाहर निकालने में मदद मिल सके।

लेप्रोस्कोपिक सर्जरी :

बड़े स्टोन्स के लिए, चिकित्सक ऑपरेशन द्वारा स्टोन्स को गुर्दे से बाहर निकाल सकते हैं। यह तकनीक चिकित्सक द्वारा अपनाई जाती है और अक्सर स्टोन को क्रश करके या उसे छोटे टुकड़ों में कटकर हटाया जाता है।

लेजर द्वारा स्टोन हटाना :

उल्लेखनीय साइज के स्टोन्स को लेजर थूपाई जा सकता है, जिससे वे छोटे टुकड़ों में बाहर आते हैं और फिर पानी के साथ बाहर निकल सकते हैं।

सर्जरी:

बड़े और जटिल स्टोन्स के लिए, सर्जरी की सलाह दी जा सकती है। इसमें किडनी स्टोन को निकालने के लिए किडनी सर्जरी, विद्युत शॉक लिथोट्रिप्सी (ESWL), परकट्टन, या बाहरी स्टेंट का प्रयोग किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – क्या बियर पीने से टूटकर बाहर निकल जाते हैं ‘किडनी स्टोन’, एक्सपर्ट से जानते हैं यह सच है मिथ

यह भी पढ़ें

जापान में फैल रहा है 48 घंटे में जान ले लेने वाला बैक्टीरिया, डायबिटीज और कमजोर इम्युनिटी वालों को है ज्यादा खतरा

smoking

स्मोकिंग बन सकती है अर्ली मेनोपॉज का कारण, एक्सपर्ट बता रहे हैं सेक्सुअल और मेंस्ट्रुअल हेल्थ पर इसके साइड इफेक्ट्स

bacha hua basi khana apke swasthye ko nuksan pahucha sakta hai

Side effects of leftover foods : कितनी भी बिज़ी हों, इन समस्याओं से बचना है, तो हरगिज न खाएं बासी खाना

Maltodextrin ke nuksaan

Maltodextrin Side Effects : जानिए क्या है माल्टोडेक्सट्रिन, जो डायबिटीज के साथ कई गंभीर समस्याओं का कारण बन सकता है

Air condition ke side effects

दिन भर एयर कंडीशनर में रहना आपकी सेहत को दे सकता है ये 5 जोखिम

lehsun ko sukhakar garlic powder banakar khaya ja sakta hai.

Mountain Garlic : कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल कर कई गंभीर बीमारियों से बचाता है पहाड़ी लहसुन, जानिए इसके 5 फायदे

गुर्दे की पथरी : संबंधित प्रश्न

गुर्दे की पथरी को कैसे निकालें?

गुर्दे की पथरी का समाधान और उपचार उसके आकर पर निर्भर होता है। यदि पथरी बहुत अधिक बड़ी है, तो डॉक्टर से परामर्श करके ही इसका इलाज संभव होता है।

क्या 9mm की किडनी स्टोन घुल सकती है?

अगर विशेषज्ञों की मानें, तो इतनी बड़ी पथरी दवाइयों या प्राकृतिक तरीकों से नहीं घुल सकती। इसके लिए डॉक्टर से उचित इलाज कराना बेहद आवश्यक है।

किडनी में स्टोन होने से क्या दिक्कत होती है?

किडनी स्टोन होने के कारण व्यक्ति को यूरिन पास करने में दर्द, पेट में दर्द, बार-बार यूरिन पास करने की इच्छा, पेशाब में जलन, यूरिन के रंग में बदलाव आदि जैसी समस्याएं देखने को मिलती हैं।

किडनी में पथरी बनने का मुख्य कारण क्या है?

पानी कम पीना, यूरिक एसिड ज्यादा बनना, जेनेटिक सहित किडनी स्टोन के कई मुख्य कारण है।

किडनी स्टोन के लक्षण क्या है ?

पेट और पीठ के नीचे दर्द, उल्टी आना या उल्टी जैसे महसूस होना, पेशाब के साथ दर्द होना, पेशाब में रक्त आना, जैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं।