सिजोफ्रेनिया

UPDATED ON: 25 Sep 2023, 16:32 PM
मेडिकली रिव्यूड

स्कित्सोफ़्रीनिया अथवा सिज़ोफ्रेनिया एक जटिल और अक्सर गलत समझा जाने वाला मानसिक विकार है, जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करता है। हिंदी में इसे मनोविदलता या विखंडित मानसिकता के तौर पर संदर्भित किया जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसका व्यक्तियों और उनके परिवारों पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। इस स्थिति में मरीज को और ज्यादा देखभाल की  जरूरत होती है। जबकि समाज में इसके बारे में फैली गलतफहमियां स्थिति को और जटिल बना देती हैं। इसलिए यह जरूरी है कि आप इस बीमारी के कारण, ट्रिगर पाॅइंट और समाधान के बारे में जानें। 

 

सिजोफ्रेनिया

सिजोफ्रेनिया (Schizophrenia) एक मानसिक विकार है जिसमें व्यक्ति की सोच, भावनाएं, और व्यवहार काबू में नहीं रहते हैं। यह एक गंभीर और प्राकृतिक रूप से दीर्घकालिक स्थिति होती है। जो उनके दैनिक जीवन को प्रभावित करती है। इसमें आपको कई तरह के अलग-अलग लक्षण नजर आ सकते हैं। जो कभी तेज हो सकते हैं, तो कभी कम हो सकते हैं। ये लक्षण आमतौर पर किशोरावस्था या वयस्कता के शुरुआती समय में दिखाई देना शुरू होते हैं। महिलाओं में ये लक्षण किसी भी उम्र में हो सकते हैं। 

सिजोफ्रेनिया वास्तव में ग्रीक शब्द “सिज़ो” से आया है, जिसका अर्थ है विभाजन, और “फ्रेनिया”, जिसका अर्थ है मन, लेकिन यह स्प्लिट पर्सनैलिटी के बजाय अपने आसपास के माहौल और लोगों के बारे में व्यक्ति के मन में बन रही अलग-अलग धारणाओं के बारे में बताता है। भारत में, लगभग 1.1 अरब लोग रहते हैं, जिसमें से  3/1000 व्यक्ति सिजोफ्रेनिया से ग्रसित हैं। 

इस बीमारी में मरीज कई अलग-अलग तरह के भ्रम की स्थिति में रहता है। इसे कई लोग स्प्लिट पर्सनैलिटी भी कहते हैं, लेकिन ये वह नहीं होता है। इसमें पीड़ित में कई लक्षण देखने को मिलते हैं। जिसमें वह अपने आप को परिवार या दोस्तों से अलग कर लेता है। उसे अलग तरह का भ्रम रहता है, डर रहता है। जिसके कारण वो बहकी-बहकी सी बातें भी कर सकता है। 

सिजोफ्रेनिया : कारण

सिज़ोफ्रेनिया का सटीक कारण अज्ञात है, लेकिन विभिन्न शोधों से पता चलता है कि यह आनुवांशिक, पर्यावरणीय और न्यूरोडेवलपमेंटल कारकों के कारण हो सकता है।

आनुवंशिकी

सिजोफ्रेनिया के पारिवारिक इतिहास वाले व्यक्तियों में विकार विकसित होने का खतरा अधिक होता है।

मस्तिष्क की संरचना और कार्य

सिजोफ्रेनिया वाले लोगों में मस्तिष्क में संरचनात्मक और कार्यात्मक असामान्यताएं, जैसे बढ़े हुए वेंट्रिकुलर और परिवर्तित न्यूरोट्रांसमीटर गतिविधि देखी गई हैं।

पर्यावरणीय कारक

जन्म से पहले संक्रमण, कुपोषण, या तनाव, साथ ही बचपन की चोट के कारण सिज़ोफ्रेनिया विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है।

न्यूरोडेवलपमेंटल कारक

मस्तिष्क के विकास के दौरान समस्याएं, जैसे न्यूरल माइग्रेशन या सिनैप्टिक प्रूनिंग में व्यवधान, विकार के विकास में योगदान कर सकते हैं।

सिजोफ्रेनिया : महत्वपूर्ण तथ्य

उपचार

क्या करें (Dos)

सिज़ोफ्रेनिया की स्थिति को बेहतर ढंग से जानने के लिए और समझने के लिए इसके बारे में पढ़ें और जानकारी लें। आपका ज्ञान किसी पीड़ित की सहायता करने में और आपकी क्षमता में सुधार करने में मदद कर सकता है।

व्यक्ति को उनकी उपचार योजना का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करें, जिसमें आमतौर पर दवा और चिकित्सा शामिल है। यदि आवश्यक हो तो उसकी दवा प्रबंधन में सहायता कर सकते है।

एक अच्छे श्रोता बनें। व्यक्ति को बिना किसी जजमेंट के अपने विचार और भावनाएं व्यक्त करने दें। उनके प्रति अपनी सहानुभूति और समझ दिखाएं।

एक दैनिक दिनचर्या को फॉलो करने के लिए प्रोत्साहित करें जिसमें नियमित भोजन, व्यायाम और नींद लेना शामिल हो।

क्या न करें (Dont)

पीड़ित को अपमानित करने वाली भाषा का प्रयोग करने या व्यक्ति की स्थिति के बारे में नकारात्मक निर्णय लेने से बचें। सिज़ोफ्रेनिया एक चिकित्सीय स्थिति है, किसी के पर्सनैलिटी का कोई दोष नही है।

व्यक्ति को उसके लक्षणों या व्यवहार के लिए दोष न दें या आलोचना न करें। समझें कि उनके कार्य उनकी बीमारी से प्रभावित हो सकते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया के व्यक्ति को अलग-थलग करने से बचें। सामाजिक संपर्क और उन गतिविधियों में भागीदारी को प्रोत्साहित करें जिसमें उन्हें मजा आता है।

पीड़ित पर उन चीजों को करने के लिए दबाव डालने से बचें जिनमें वे असहज हैं या उन्हें ऐसी स्थितियों में डालने से बचें जो परेशानी का कारण बन सकती हैं।

सिजोफ्रेनिया : लक्षण

आवाजें सुनने का भ्रम (Hallucinations)

सिजोफ्रेनिया के लक्षणों में सबसे आम है कुछ खास तरह की आवाजों के सुनाई देने का आभास होना। जो कि वास्तव में नहीं होती हैं। जिनमें उन चीजों को देखना, सुनना, महसूस करना, सूंघना या चखना शामिल हो सकता है, जो वास्तव में मौजूद नहीं हैं। सिज़ोफ्रेनिया में आवाज़ें सुनना सबसे आम है।

किसी चीज का भ्रम होना (Delusions)

भ्रम होना वास्तव में वह चीज है जिसका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं है। इनमें कुछ तर्कहीन बातें शामिल हो सकती हैं, जिनका सच्चाई से कोई संबंध नहीं होता है। कभी-कभी सच्चाई से संबंधित कुछ और बातें भी व्यक्ति का मन गढ़ने लगता है। जो सुनने में वास्तविक लग सकती हैं। जबकि ये केवल आभासी बातें होती है। सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित व्यक्ति उन चीज़ों पर विश्वास कर सकते हैं जो तर्कहीन या असंभव हैं, जैसे बाहरी ताकतों द्वारा नियंत्रित होना या विशेष शक्तियों की उपस्थिति।

कंफ्यूजन की स्थिति (Disorganized thinking)

सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित लोगों को अक्सर अपने विचारों को व्यवस्थित करने में कठिनाई होती है और वे बिना किसी तर्क के या संबंध के एक विषय से दूसरे विषय पर जा सकते हैं। उनकी कई बातें असंगत हो सकती हैं, जिन्हें माना या उनका अनुसरण नहीं किया जा सकता।

नकारात्मक लक्षण (Negative symptoms)

ये सामान्य भावनात्मक और व्यवहारिक स्थिति है, जिसमें व्यक्ति का कामकाज प्रभावित होता है। नकारात्मक लक्षणों में प्रेरणा की कमी, सामाजिक अलगाव, और आनंद का अनुभव करने में कठिनाई शामिल हो सकती है। इसमें व्यक्ति हर काम को लेकर नकारात्मक महसूस करता है।

संज्ञानात्मक समस्या (Cognitive impairments)

सिजोफ्रेनिया से पीड़ित व्यक्तियों को याद रखने, ध्यान लगाने और समस्या का समाधान करने जैसी क्षमताओं में कमी का अनुभव महसूस हो सकता है। ये संज्ञानात्मक कमी आपके रोज के काम को कई तरह से प्रभावित कर सकती है।

सिजोफ्रेनिया : निदान

पहले चरण में लक्षणों का अनुभव करने वाले व्यक्ति के साथ गहन डाइग्नोस्टिक बातचीत की जा सकती है। डॉक्टर व्यक्ति के चिकित्सीय इतिहास, लक्षण और मानसिक बीमारी के पारिवारिक इतिहास के बारे में जानकारी जुटाते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया की विशेषता कई प्रकार के लक्षण हैं, जिनमें मतिभ्रम (झूठी संवेदी धारणाएं), भ्रम (झूठी मान्यताएं), अव्यवस्थित सोच और नकारात्मक लक्षण (जैसे, भावनात्मक उदासी, सामाज से कटना) शामिल हैं। चिकित्सक इन लक्षणों की उपस्थिति और गंभीरता का आकलन कर सकते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया के लक्षण काफी समय तक बने रहने चाहिए, आमतौर पर कम से कम छह महीने, और इसमें सक्रिय चरण के लक्षण भी शामिल होते हैं। जो कम से कम एक महीने तक रहते हैं। यह सिज़ोफ्रेनिया को समान लक्षणों वाली अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से अलग करने में मदद करता है।

व्यक्ति की मानसिक स्थिति के बारे में अधिक जानकारी जुटाने के लिए मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन, जैसे संज्ञानात्मक परीक्षण और व्यक्तित्व मूल्यांकन भी किया जा सकता है।

सिजोफ्रेनिया : उपचार

दवाओं के जरिए

लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए अक्सर एंटीसाइकोटिक दवाएं निर्धारित की जाती हैं, जो मुख्य रूप से मतिभ्रम और भ्रम जैसे सकारात्मक लक्षणों के लिए होती हैं।

मनोचिकित्सा

कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी (CBT) और पारिवारिक थेरेपी सिज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्तियों को उनके लक्षणों को प्रबंधित करने, सामाजिक कार्यप्रणाली में सुधार करने और समामज का मुकाबला करने के कौशल को बढ़ाने में मदद कर सकती है।

सहानुभूति और समझ

चिकित्सा उपचार के अलावा, सिज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्तियों को अपने प्रियजनों और समाज से समझ, समर्थन और सहानुभूति की आवश्यकता होती है। उन पर आरोप लगाना या भेदभाव इसमें बाधा पैदा कर सकता है। इस स्थिति के बारे में खुद को शिक्षित करना और गलत धारणाओं से बचना और उन्हें हटाना बहुत जरूरी है।

सहायत करें

समुदाय-आधारित सहायता कार्यक्रम, व्यावसायिक पुनर्वास और आवास सहायता सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित व्यक्तियों को पूर्ण जीवन जीने और इसके दोहराने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें

सिजोफ्रेनिया : संबंधित प्रश्न

सिजोफ्रेनिया बीमारी में क्या होता है?

स्किज़ोफ्रेनिया एक मानसिक विकार है, जिसमें व्यक्ति की विचार करने की शक्ति, भाषा, भावनाओं, और व्यवहार में गंभीर परिवर्तन होते हैं। यह एक गंभीर मानसिक रोग होता है, जिसके कारण व्यक्ति की व्यक्तिगत, पेशेवर और सामाजिक जीवन में समस्याएं हो सकती हैं।

सिजोफ्रेनिया के 3 लक्षण क्या हैं?

1 मतिभ्रमइसमें व्यक्ति को ऐसी चीजों का आभास होता है जो वास्तविक नहीं है। सिज़ोफ्रेनिया में, श्रवण मतिभ्रम (जब कोई नहीं बोल रहा हो तो आवाज सुनना) काफी आम है।2 भ्रमसिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों में भ्रम हो सकता है जिसमें थोड़े अजीब से विचार शामिल होते हैं (यह विश्वास करना कि अन्य लोग उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं), (यह सोचना कि उनके पास विशेष शक्तियां हैं)।3 अव्यवस्थित सोचयह लक्षण विचार विकार के रूप में प्रकट हो सकता है। उन्हें ध्यान केंद्रित करने, विचारों को तार्किक रूप से जोड़ने या एक सही वाक्य बनाने में परेशानी हो सकती है।

सिज़ोफ्रेनिया का मुख्य कारण क्या है?

जीनेटिक फैक्टर- जीनेटिक अंशों में परिवर्तन, खासकर सिज़ोफ्रेनिया का परिवार में किसी सदस्य को होना, इस बीमारी के विकस में भूमिका निभा सकते हैं।ब्रेन केमिस्ट्री- ब्रेन केमिस्ट्री में असंतुलन, जैसे कि डॉपामीन, से सिज़ोफ्रेनिया का संबंध दिखाया गया है। डॉपामीन एक मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित न्यूरोट्रांसमिटर है जो मूड और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।पर्यावरणीय तत्व- शारीरिक या सामाजिक पर्यावरण में स्थायी तनाव, बड़ी मात्रा में दवाओं का सेवन, प्राकृतिक पर्यावरण के कठिनाइया सिज़ोफ्रेनिया का कारण बन सकती है।

सिज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्ति से आप कैसे बात करते हैं?

सिज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्ति से बात करने के लिए समझ, धैर्य और सहानुभूति की आवश्यकता होती है। सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित व्यक्तियों को कई प्रकार के लक्षणों का अनुभव हो सकता है जो बातचीत को चुनौतीपूर्ण बना सकते हैं। लेकिन आपको शांति और समझ के साथ बात करनी चाहिए।