तनाव और ज्यादा स्क्रीन टाइम आपके ब्रेन को बना रहे हैं उम्र से पहले बूढ़ा, जानिए कैसे रखना है इसे यंग

शरीर के बाकी अंगों के समान दिमाग को हेल्दी रखने के लिए भी कुछ बातों का अवश्य ख्याल रखें। जानते हैं किन कामों को करने से ब्रेन को यंग रखा जा सकता है।
Brain ko kaise healthy banayein
किन चीजों को रूटीन में शामिल करके ब्रेन को बनाएं हेल्दी चित्र-अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 14 Jun 2023, 08:00 pm IST
  • 141

कट, कॉपी और पेस्ट। किसी भी काम को निपटाने का बहुत आसान फॉर्मुला है। सरल तरीके से जल्दी काम को करने की ये तकनीक इन दिनों हर कोई अपना रहा है। इससे आप काम तो जल्दी कर लेते हैं। मगर अपने ब्रेन को धीरे धीरे बूढ़ा बना रहे हैं। अब उसे न तो सुनने की आदत है, न पढ़ने की और न ही लिखने की। इससे न केवल हमारा फोकस धीरे धीरे खत्म होने लगता है, बल्कि याददाश्त पर भी प्रभाव पड़ने लगता है। जानते हैं कि किन बातों को अवॉइड करके ब्रेन को यंग (tips to keep your brain young) रखा जा सकता है।

इस बारे में राजकीय मेडिकल कालेज हलद्वानी में मनोवैज्ञानिक डॉ युवराज पंत बताते हैं कि दिनों दिन बदल रहा लाइफ स्टाइल हमारी मेंटल हेल्थ पर गहरा असर डाल रहा है। इन दिनों लोगों में रीडिंग हैबिट खत्म हो रही है। इसका असर याददाश्त पर पड़ने लगता है। किसी भी चीज़ को मोबाइल में सेव करने की प्रैक्टिस के चलते हमें चीजों को याद रखने की आदत नहीं रहती है। इससे दिमाग कमज़ोर बनने लगता है।

किन चीजों को रूटीन में शामिल करके ब्रेन को बनाएं हेल्दी

1 डेली रीडिंग और राइटिंग है ज़रूरी

सुबह उठते ही अखबार ज़रूर पढ़ें। इसके अलावा किताबों को पढ़ने की आदत होना जरूरी है। इससे आप नए विचारों को अपने अंदर एकत्रित कर सकते हैं। इसका असर आपकी मेंटल हेल्थ पर दिखने लगता है। इसके अलावा रूटीन एक्टिविटीज़ को लिखने का प्रयास करें। इससे आपकी याददाश्त गहरी होने लगेगी और बात बात पर चीजें भूलने की आदत से राहत मिलेगी।

2 याद रखने का प्रयास करें

चीजों को किसी डायरी में लिखकर रखने के अलावा आपको दूसरों के फोन नंबर से लेकर अपने ज़रूरी पासवर्डस को याद रखना चाहिए। इससे आपका ब्रेन मज़बूत बनने लगता है। डॉ युवराज के मुताबिक किसी के नंबर को जस का तस फोन में सेव करने के अलावा उसे रिकॉल भी करें, ताकि आपको याद रह सके।

3 ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें

दिन की शुरूआत ब्रीदिंग एक्सरसाइज से करें। इससे ब्रेन में ऑक्सीजन का प्रसार होता है। दिमाग हेल्दी रहता है और सभी चीजें आसानी से याद होने लगती है। कुछ मिनट की ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ से ब्रेन और लंग्स हेल्दी होते हैं। इससे सांस सबंधी समस्याएं भी दूर होने लगती है।

breathing exercise karne ke fayde
ब्रीदिंग एक्सरसाइज हमें कई परेशानियों से बचाने का काम करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4 पज़ल और क्रासवर्ड खेलें

कुछ देर दिमागी खेल खेलने से भी माइंड रिलैक्स होने लगता है। पजल और क्रासवर्ड सुलझाने से न केवल हम कुछ नया सीखते हैं बल्कि तनाव से भी मुक्ति मिल जाती है। खेलों को एजॉय करने से ब्रेन हेल्दी बनता है और तमाम चिंताओं से मुक्त होने लगता है।

दिमाग को हेल्दी और एक्टिव रखने के लिए इन कामों को करने से बचें

1 अल्कोहल के सेवन से बचें

हार्वर्ड एजुकेशन के रिसर्च के मुताबिक शराब आ अतिरिक्त सेवन करने से न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर डिमेंशिया का खतरा बना रहता है। इससे ग्रस्त लोग सोचने की क्षमता का कम होना, नींद न आना, मेमोरी लॉस और बीते वक्त को याद करने में दिक्कत का अनुभव करने लगते हैं। ऐसे में रोज़ाना अल्कोहल के सेवन को अवॉइड करना चाहिए।

2 स्क्रीन टाइम घटाएं

दिनभर फोन की स्क्रीन को सामने रखने से भी दिमाग पर उसका प्रभाव दिखने लगता है। इसका असर हमारे सोचने समझने की शक्ति पर भी दिखने लगता है। घण्टों टीवी या मोबइल की स्क्रीन को देखने से उसका असर हमारी आंखों के अलावा ब्रेन पर भी दिखने लगता है।

Screen time ko ghataayein
दिनभर फोन की स्क्रीन को सामने रखने से भी दिमाग पर उसका प्रभाव दिखने लगता है। चित्र : शटरस्टॉक

3 मल्टी टास्क न करें

एक वक्त में कई प्रकार के काम करने से आप किसी भी काम पर पूरी तरह से फोक्स नहीं कर पाते हैं। इससे अच्छे रिजल्ट नहीं मिल पाते हैं। एक वक्त में एक काम पूरी मेहनत से करें, ताकि उसके अच्छे नतीजे आ पाएं। इससे वर्क प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है और काम की क्वालिटी पर भी उसका असर दिखने लगता है।

4 तनाव में न रहें

दिनों दिन बढ़ रही एंजाइटी से छोटी बातें भी हमारे मन और मस्तिष्क को लंबे वक्त तक प्रभावित कर देती है। इसके चलते कई बार छोटी बातें हमें लंबे वक्त तक परेशान करती है। इस समस्या से खुद को बाहर निकालें और डिटॉक्स लोगों से दूरी बनाएं। दूसरों की बातों को दिल से न लगाएं और रिलैक्स रहें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़ें- वयस्कों में रिश्तों और काम को भी प्रभावित कर सकता है एडीएचडी? जानिए इसे कैसे मैनेज करना है

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख