जब आप सोती हैं, क्या तब भी जागता रहता है आपका ब्रेन? समझिए अपने मस्तिष्क का कार्य व्यवहार

Updated on: 4 March 2022, 14:25 pm IST

आपने कभी सोचा है कि सोते समय आपका ब्रेन क्या करता है? क्या ये भी आपकी तरह सो जाता है या एक्टिव रहता है? जानिए इससे जुड़ी जरूरी बातें।

Janiye aapka brain bhi sota hai ya nahi
जानिए आपका ब्रेन भी सोता है या नहीं। चित्र:शटरस्टॉक

नींद आपकी दिनचर्या का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। आप अपना लगभग एक तिहाई समय इस पर खर्च करती हैं। अच्छी नींद यानी इसे सही समय पर पर्याप्त मात्रा में प्राप्त करना जीवित रहने के लिए उतना ही आवश्यक है, जितना कि भोजन और पानी। पर्याप्त मात्रा में नींद के बिना आप अपने मस्तिष्क के साथ काम नहीं सकते हैं। कम या खराब नींद आपकी मेमोरी को प्रभावित करती है। चीजों को याद रखने, फोकस बनाए रखने और स्मृतियों के संग्रहण में नींद का उल्लेखनीय योगदान है। पर क्या जब आप सो जाती हैं, तब आपका मस्तिष्क भी सो जाता है? असल में तब हमारा दिमाग क्या करता है, जब हम सो रहे होते हैं? आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

पहले नींद की भूमिका को समझ लेते हैं

मस्तिष्क के कई कार्यों के लिए नींद महत्वपूर्ण है, जिसमें न्यूरॉन (neurons) एक-दूसरे के साथ कैसे संवाद करती हैं। वास्तव में, सोते समय आपका ब्रेन और शरीर उल्लेखनीय रूप से सक्रिय रहते हैं। हाल के निष्कर्ष बताते हैं कि नींद एक हाउसकीपिंग भूमिका निभाती है, जो आपके ब्रेन में टॉक्सिक पदार्थों को निकालती है। यह आपके जागने पर बनते हैं।

नींद सभी को चाहिए, लेकिन इसका जैविक उद्देश्य एक रहस्य बना हुआ है। यह शरीर में लगभग हर प्रकार के ऊतक और प्रणाली को प्रभावित करती है। ब्रेन, हृदय और फेफड़ों से लेकर चयापचय, इम्युनिटी और मनोदशा तक। रिसर्च से पता चलता है कि नींद की पुरानी कमी, या खराब गुणवत्ता वाली नींद लेने से उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, मधुमेह, अवसाद और मोटापे सहित विकारों का खतरा बढ़ जाता है।

यह एक जटिल और गतिशील प्रक्रिया है, जो इस बात को प्रभावित करती है कि आप किस तरह से कार्य करते हैं।

Nind sabhi ko chahiye
नींद सभी को चाहिए। चित्र:शटरस्टॉक

आपको कितनी नींद की ज़रूरत होती है?

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे आपकी नींद की आवश्यकता और आपके सोने के पैटर्न में बदलाव आता है। लेकिन यह एक ही उम्र के व्यक्तियों में काफी भिन्न होता है। हालांकि ये कोई जादू नहीं है कि “नींद के घंटों की संख्या” जो एक ही उम्र के सभी लोगों के लिए काम करती है। शिशु शुरू में प्रति दिन 16 से 18 घंटे तक सोते हैं, जो विकास विशेषकर ब्रेन डेवलपमेंट को बढ़ावा दे सकता है।

स्कूली उम्र के बच्चों और किशोरों को औसतन प्रति रात लगभग 9.5 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। अधिकांश वयस्कों को रात में 7-9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। लेकिन 60 वर्ष की आयु के बाद, रात की नींद कम, हल्की और कई बार जागने से बाधित होती है। बुजुर्ग लोग भी ऐसी दवाएं लेने की अधिक संभावना रखते हैं, जो नींद में बाधा डालती हैं।

प्रभावित हो रही है सभी की नींद

सामान्य तौर पर, काम के लंबे घंटों और चौबीसों घंटे मनोरंजन और अन्य गतिविधियों की उपलब्धता के कारण लोगों को आवश्यकता से कम नींद आ रही है।

बहुत से लोग महसूस करते हैं कि वे वीकेंड के दौरान छूटी हुई नींद को “पकड़” सकते हैं। लेकिन इसलिए कि वे पूरे सप्ताह ठीक से सो नहीं पाए, वीकेंड की नींद वह कमी पूरी नहीं कर सकती।

रात को अच्छी नींद लेने के टिप्स

पर्याप्त नींद लेना आपके स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। आपकी नींद में सुधार करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  1. एक समय निर्धारित करें। बिस्तर पर जाएं और प्रत्येक दिन एक ही समय पर उठें।
  2. दिन में 20 से 30 मिनट व्यायाम करें, लेकिन सोने से कुछ घंटे पहले नहीं।
  3. दिन में देर से कैफीन और निकोटीन और सोने से पहले मादक पेय से बचें।
  4. सोने से पहले आराम करें। गर्म स्नान, पढ़ने या किसी अन्य आराम की दिनचर्या का प्रयास करें।
  5. सोने के लिए एक कमरा बनाएं। तेज रोशनी और तेज आवाज से बचें। कमरे को आरामदायक तापमान पर रखें, और टीवी न देखें। न ही अपने बेडरूम में कंप्यूटर रखें।
  6. जागते हुए बिस्तर पर न लेटें। अगर आपको नींद नहीं आ रही है, तो कुछ और करें, जैसे पढ़ना या संगीत सुनना, जब तक कि आप थकान महसूस न करें।
  7. अगर आपको नींद न आने की समस्या हो या दिन में असामान्य रूप से थकान महसूस हो तो डॉक्टर से मिलें। अधिकांश नींद विकारों का प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सकता है।

जब आप सोती हैं, तो क्या आपका ब्रेन भी सोता है?

जी नहीं, उस वक्त भी आपका दिमाग सक्रिय होता है। ब्रेन प्लास्टिसिटी थ्योरी कहती है कि ब्रेन फंक्शन के लिए नींद जरूरी है। विशेष रूप से, यह आपके न्यूरॉन्स, या नर्व टिशू को पुनर्गठित करने की अनुमति देता है।

sote samay aapka brain kayi karyo ko prabhavit karta hai
सोते समय आपका ब्रेन कई कार्यों को प्रभावित करता है। चित्र : शटरस्टॉक

जब आप सोते हैं, तो आपके मस्तिष्क की ग्लाइम्फेटिक (glymphatic) प्रणाली सेंट्रल नर्वस सिस्टम से टॉक्सिंस को साफ करती है। यह आपके मस्तिष्क से विषैले उपोत्पादों को निकालता है, जो पूरे दिन जमा होते रहते हैं। जब आप जागते हैं तो यह आपके दिमाग को अच्छी तरह से काम करने की अनुमति देता है।

जर्नल ऑफ सोसाइटी फॉर न्यूरोसाइंस के शोध से पता चलता है कि नींद अल्पकालिक यादों को दीर्घकालिक यादों में बदलने के साथ-साथ मिटाने, या भूलने, अनावश्यक जानकारी को दिमाग से हटाने में योगदान करती है। अन्यथा यह तंत्रिका तंत्र को अव्यवस्थित कर सकते हैं।

सोते समय आपका ब्रेन कई कार्यों को प्रभावित करता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. सीखना
  2. चीजों को याद रखना
  3. समस्या को सुलझाने के कौशल
  4. रचनात्मकता
  5. निर्णय लेना
  6. एकाग्रता

यह भी पढ़ें: कोख में भी हो सकता है ये मस्तिष्क संंबंधी विकार, जिसने माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला के बेटे की ली जान

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें