ये 3 इम्युनिटी बूस्टर ड्रिंक, कोरोनावायरस ही नहीं हर संक्रमण से बचा सकती हैं, नोट कीजिए रेसिपी

संक्रमण के खतरे से बचने के लिए अपनी इम्युनिटी पर काम करना बेहद आवश्यक है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको बताएंगे इम्युनिटी बूस्टर 3 ड्रिंक्स की रेसिपी।

immyunity booster drinks
यहां जानिए इम्युनिटी बूस् करने वाले 3 आसान पेय। । चित्र : एडोबीस्टॉक
ईशा गुप्ता Published on: 30 December 2022, 21:00 pm IST
  • 143
इस खबर को सुनें

चीन में लगातार बढ़ते संक्रमण ने अब भारत में भी पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। सूत्रों की मानें तो ओमिक्रॉन बीएफ 7 वेरिएंट ( Omicron BF. 7 variant) और पहले से भी ज्यादा तेजी से फैल सकता है। ऐसे में अपनी सेहत का ख्याल रखना और भी ज्यादा आवश्यक हो जाता है। क्योंकि एक स्ट्रांग इम्यून सिस्टम ही बीमारियों के खतरें से बचाने में मदद कर सकता है। ऐसे में जंक को अवॉइड करके हेल्दी हेल्दी डाइट फॉलो करना और भी ज्यादा आवश्यक हो जाता है। इसी समस्या का समाधान देते हुए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं इम्युनिटी बूस्टर ड्रिंक्स (Immunity booster drinks) की रेसिपीज। जो आपकी इम्युनिटी (Immunity) बनाए रखने के साथ सर्दियों की समस्याओं से भी राहत देनें में मदद करेगी।

यहां जानिए इम्युनिटी बूस्टर ड्रिंक्स की रेसिपी

1. तुलसी और अजवाइन की चाय

सामग्री ( दो लोगों के लिए)

गुड या शहद – एक से दो चम्मच
तुलसी – 10 से 12 पत्ते
अजवाइन – 1 चम्मच
काली मिर्च – आधा चम्मच

बनाने की विधि

सबसे पहले एक बर्तन में 2 गिलास पानी गर्म करने के लिए रख दें। अब इसमें अजवाइन और काली मिर्च डालकर 3-4 मिनट तक धीमी आंच पर पकाएं। आखिर में तुलसी के पत्तें डालें और जब पानी आधा रह जाए, तो चाय छानकर इसमें गुड या शहद मिलाए और गरमागर्म ही सर्व करें।

जानिए इसके फायदे

तुलसी और अजवाइन की चाय बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ संक्रमण से बचने में मदद कर सकती है। यह चाय बदन दर्द, खांसी, जुखाम के साथ बढ़ते वजन को कंट्रोल करने में भी मदद कर सकती है।

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन की एक रिसर्च के अनुसार अजवाइन में एंटी इंफ्लामेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जिससे यह बदलते मौसम में खांसी-जुखाम से बचाव करवा में मदद कर सकते हैं।

आयुर्वेद में तुलसी को सूखी खांसी और गले से जुड़ी समस्याओं के लिए फायदेमंद माना गया है। वही काली मिर्च में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लामेटरी, एंटीबैक्टीरियल गुण शरीर में बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने है। यह चाय पेट की समस्याओं से लड़ने के साथ इम्युनिटी बनाए रखने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़े – एक्सपर्ट से जानिये, जब आप एंटीबायोटिक्स लेती हैं, तो आपको क्यों होने लगते हैं दस्त

Giloy kadha
पोषक तत्वों से भरपूर गिलोय में मौजूद पोषक तत्व कई स्वास्थ्य जोखिमो का समाधान हो सकते हैं। चित्र शटरस्टॉक।

2. गिलोय और लौंग का काढ़ा

इसके लिए आपको चाहिए (2 लोगों के लिए)

गिलोय जूस – 1 कप
नींबू का रस – 1 चम्मच
अदरक – 1 चम्मच
तुलसी – 6 से 8 पत्ते
लौंग – 2 से 3

बनाने की विधि

गिलोय और लौंग का काढ़ा बनाने के लिए एक बाउल में दो गिलास पानी डालकर गर्म करना शुरू करें। अब इसमें लौंग और अदरक डालकर 3 से 4 मिनट तक पकाएं। आखिर में तुलसी के पत्ते डालकर 5 मिनट के लिए पकने दें। आप ध्यान देंगी कि पानी आधा रह गया है। अब इसे छानकर इसमें नींबू का रस मिलाएं। अगर जरूरत लगे तो एक से दो चुटकी काला नमक भी मिला लें।

जानिए इसके फायदे

गिलोय और लौंग का काढ़ा पेट से जुड़ी समस्याओं में राहत देने के साथ इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद कर सकता है। खांसी, जुखाम, तेज बुखार में इस काढ़े का सेवन शरीर से इंफेक्शन खत्म करके एनर्जी बनाए रखने में मदद कर सकता है।

गिलोय को आयुर्वेद में औषधि माना गया है, यह बुखार को तेजी से कम करने के साथ कफ और गले से जुड़ी समस्याओं में राहत दे सकता है। लौंग में मिनरल्स, विटामिन्स, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीवायरल गुण होते हैं, जो इम्युनिटी को बूस्ट करने के साथ पेट दर्द, कोलेस्ट्रॉल, दांत की समस्या में आराम देते हैं।

adrak ke fayde
अदरक पेट की समस्याओं को खत्म करने के साथ बैक्टिरिया से लड़ने में मदद करता है। चित्र : शटरस्टॉक

3. अदरक और धनिया पानी

इसके लिए आपको चाहिए ( दो लोगों के लिए)

अदरक – एक चम्मच
शहद – 2 से 3 चम्मच
धनिया के बीज – 2 चम्मच

बनाने की विधि

एक बर्तन में 3 कप पानी गर्म करें. अब इसमें धनिये के बीज और अदरक डालकर 5 मिनट तक पकाएं। हल्का ठण्डा होने पर इसमें गुड मिलाएं और गरमागर्म ही सेवन करें।

जानिए इसके फायदे

अगर आपको खांसी-जुखाम या एसिडिटी की समस्या है, तो अदरक और धनिया पानी का सेवन आपको जल्द राहत दे सकता है।

पबमेड सेंट्रल के विशेषज्ञों के मुताबिक अदरक में पाए जानें वाला कम्पाउंड जीन्जरोल पेट की समस्याओं को खत्म करने के साथ बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने में मदद करता है। जिससे इंफेक्शन होने का खतरा कम होगा।

शहद में पाए जानें वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल, एंटीइंफ्लामेटरी गुण गले से जुड़ी समस्या से लड़कर खराश और सूखी खांसी में भी जल्द राहत देते है। इसलिए ही लम्बे समय से शहद और अदरक को खांसी का रामबाण इलाज माना जाता है। वही धनिये के बीच शरीर को डिटॉक्स करने के साथ वजन घटानें और इंफेक्शन से बचाने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़े – Sneezing : क्या आपको पता है कि हमें छींक क्यों आती है? जानिए छींक के बारे में कुछ मजे़दार तथ्य

  • 143
लेखक के बारे में
ईशा गुप्ता ईशा गुप्ता

यंग कंटेंट राइटर ईशा ब्यूटी, लाइफस्टाइल और फूड से जुड़े लेख लिखती हैं। ये काम करते हुए तनावमुक्त रहने का उनका अपना अंदाज है।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें