EXPERT SPEAK

सेहत के लिए रिस्की हो सकती हैं सोशल मीडिया की आधी-अधूरी सूचनाएं, 5 तरह से करें खुद को प्रोटेक्ट

हर दिन आपको ऐसा बहुत सारा कंटेंट रील्स और वीडियो के माध्यम से मिलता है जो आपकी सेहत के लिए कई दावे करता है। जरूरी नहीं है कि ये सभी जानकारियां सही हों। इसलिए सोच-समझकर और जांच-परख कर ही इन पर भरोसा करें।
सभी चित्र देखे bimar padne par socia media ka prayog badh jata hai.
सोशल मीडिया पर मौजूद आधी-अधूरी जानकारी आपकी सेहत को फायदा पहुंचाने की बजाए नुकसान भी कर सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
Updated: 28 Mar 2024, 04:40 pm IST
  • 157

डिजिटल युग में, ऑनलाइन स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों की भरमार है। इसने व्यक्तियों के हृदय संबंधी स्वास्थ्य के प्रबंधन के तरीके को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया है। इंटरनेट की व्यापक पहुंच हेल्थ डेटा, स्टडी रिजल्ट्स और वेलनेस सलाह तक आसान और व्यापक पहुंच प्रदान करती है। जो अपने हृदय स्वास्थ्य को सुधारने या बनाए रखने के इच्छुक लोगों के लिए एक मूल्यवान संसाधन प्रदान करती है। मगर सूचना का यह भंडार और लगातार आता प्रवाह काफी चुनौतियां भी प्रस्तुत करता है। सूचनाओं की इस बाढ़ में काफी सारी गलत सूचनाएं (wrong information about health) भी आ रही हैं। इन चुनौतियों के लिए विश्वसनीय स्वास्थ्य जानकारी को प्रभावी ढंग से समझने और लागू करने के लिए एक रणनीतिक दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है।

स्वास्थ्य सूचना में डिजिटल क्रांति (Digital content on health)

डिजिटल प्लेटफॉर्म ने मेडिकल वेबसाइट, ऑनलाइन फोरम, हेल्थ एप्स और सोशल मीडिया जैसे विविध संसाधनों की पेशकश करके स्वास्थ्य जानकारी के परिदृश्य को बदल दिया है। इन टूल्स में हृदय स्वास्थ्य के लिए आवश्यक निवारक उपायों, रोग प्रबंधन और जीवनशैली में संशोधन के बारे में जानकारी प्रदान करके व्यक्तियों को सशक्त बनाने की क्षमता है।

gut health wajan ghatane me madad karte hain.
कभी-कभी सूचनाएं फायदा देने की बजाए नुकसान पहुंचा सकती हैं। चित्र : अडोबी स्टॉक

इसके अलावा, डिजिटल हेल्थ ट्रैकर और एप्स शारीरिक गतिविधि, आहार और हृदय गति पर पर्सनलाइज्ड डेटा प्रदान करते हैं, जिससे उपयोगकर्ता वास्तविक समय में अपने हृदय स्वास्थ्य की निगरानी कर सकते हैं। यह पर्सनलाइज्ड दृष्टिकोण हृदय स्वास्थ्य के प्रति एक सक्रिय रुख बढ़ाता है, जिससे व्यक्तियों को अपनी भलाई की जिम्मेदारी लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

सूचनाओं की ओवरलोडिंग की चुनौतियां (Overloading of information)

डिजिटल युग ने स्वास्थ्य संबंधी जानकारी तक पहुंच को काफी व्यापक और लोकतांत्रिक बना दिया है। यह सूचनाओं की बाढ़ की चुनौती भी प्रस्तुत करता है। उपलब्ध कंटेंट की विशाल मात्रा व्यक्तियों को अभिभूत कर सकती है, जिससे यह निर्धारित करना मुश्किल हो जाता है कि क्या प्रासंगिक, सटीक और वर्तमान में संभव है।

यह ओवरफ्लो भ्रम और चिंता पैदा कर सकता है। संभावित रूप से व्यक्तियों को सूचित स्वास्थ्य निर्णय लेने से रोक सकता है। चुनौती सूचना के इस सागर में नेविगेट करके विश्वसनीय स्रोतों को खोजना भी है। जो वैज्ञानिक रूप से समर्थित सलाह और नए स्टडी परिणाम प्रदान करते हैं।

गलत सूचना और उसके परिणाम (Effects of wrong information)

गलत सूचना का प्रसार हृदय स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है। यूट्यूब जैसे डिजिटल प्लेटफॉर्म, संसाधनों का एक मिला-जुला भंडार इसमें योगदान करता है। हालांकि वे बड़ी मात्रा में स्वास्थ्य संबंधी जानकारी होस्ट करते हैं, लेकिन इसके सारे कंटेंट पर आप भरोसा नहीं कर सकते।

दर्शकों को अक्सर वैज्ञानिक समर्थन के बिना स्वास्थ्य संबंधी सलाह देने वाले वीडियो मिलते हैं।इनमें से कुछ का लक्ष्य स्वास्थ्य समाधानों के लिए दर्शकों की खोज का फायदा उठाकर उत्पाद बेचना होता है। यह विशेष रूप से उच्च रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर) जैसे सामान्य हृदय संबंधी विकारों के क्षेत्र में देखा गया है। जहां कई वीडियो तार्किक या वैज्ञानिक आधार के अभाव में निराधार समाधानों का प्रचार करते हैं।

हार्ट हेल्थ के बारे में रहें सावधान (Beware about heart health)

हृदय स्वास्थ्य के संदर्भ में, सूचना के स्रोतों का गंभीर मूल्यांकन करना बहुत जरूरी है। ऐसे कंटेंट की तलाश करना महत्वपूर्ण है, जो साक्ष्य-आधारित हो और स्थापित मेडिकल गाइडलाइंस के अनुरूप हो। ऑनलाइन मिले असंख्य सुझावों में से, योग सबसे ज्यादा मिलने वाला सुझाव है। यह उच्च रक्तचाप को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करना का साइंटिफिकली प्रूवन तरीका बन गया है।

पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन न लेना स्वास्थ्य के लिए बुरा है
हार्ट हेल्थ के मामले में आपको डबल चेक करना
जरूरी है। चित्र- अडोबी स्टॉक

बार-बार सामने आने वाले ऑनलाइन समाधानों के विपरीत, योग, जिसमें व्यायाम और ध्यान शामिल है, तनाव को कम करके उच्च रक्तचाप को कम करने में सिद्ध हुआ है। यह वैज्ञानिक प्रमाण द्वारा समर्थित प्रक्रियाओं को चुनने, ऑनलाइन स्वास्थ्य सलाह को सावधानीपूर्वक नेविगेट करने के महत्व पर प्रकाश डालता है।

सूचनाओं की भरमार में कैसे रखें अपनी सेहत का ध्यान (How to protect health from wrong and half baked information)

1 विश्वसनीय स्रोतों की तलाश करें :

प्रतिष्ठित संगठनों, जैसे अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन, विश्व स्वास्थ्य संगठन, या मान्यता प्राप्त चिकित्सा संस्थानों से जानकारी को प्राथमिकता दें। ये स्रोत साक्ष्य-आधारित सलाह और नए स्टडी परिणाम प्रदान करने की अधिक संभावना रखते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

2 हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स से कंसल्टेशन लें : 

हालांकि ऑनलाइन संसाधन जानकारीपूर्ण हो सकते हैं, लेकिन उन्हें प्रोफेशनल मेडिकल सलाह का स्थान नहीं लेना चाहिए। व्यक्तिगत मार्गदर्शन और व्यक्तिगत स्वास्थ्य आवश्यकताओं के अनुरूप सटीक जानकारी के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के साथ नियमित परामर्श महत्वपूर्ण है।

3 क्रिटिकल थिंकिंग स्किल्स विकसित करें :

लेखक की साख की जांच करके, दावों का समर्थन करने वाले सबूतों की जांच करके, और कई प्रतिष्ठित स्रोतों में क्रॉस-रेफरेंसिंग जानकारी द्वारा स्वास्थ्य जानकारी का गंभीर मूल्यांकन करना सीखें।

time table ke anusar khana khana chahiye.
सोचें-समझें और उसके बाद ही किसी चीज पर भरोसा करें। चित्र : अडोबीस्टॉक

4 डिजिटल उपकरणों का बुद्धिमानी से उपयोग करें :

स्वास्थ्य एप्स और ट्रैकर्स को प्रोफेशनल मेडिकल कंसल्टेशन के विकल्प के बजाय उनको सप्लीमेंट्स के रूप में अपनाएं। ऐसे टूल्स चुनें जिन्हें स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा मान्य किया गया हो और जो आपके विशिष्ट स्वास्थ्य लक्ष्यों के अनुरूप सुविधाएं प्रदान करते हों।

5 कन्फर्मेशन पूर्वाग्रह से सावधान रहें :

पहले से मौजूद मान्यताओं की पुष्टि करने वाली जानकारी खोजने की प्रवृत्ति से सावधान रहें। स्वास्थ्य संबंधी जानकारी को खुले दिमाग से देखें और कई दृष्टिकोणों पर विचार करने के लिए तैयार रहें।

अंत में:

डिजिटल दौर में हृदय संबंधी स्वास्थ्य के प्रबंधन के लिए व्यापक अवसर और महत्वपूर्ण चुनौतियां दोनों प्रदान करता है। ऑनलाइन संसाधनों के प्रति एक समझदार दृष्टिकोण अपनाकर आप सूचनाओं की बाढ़ और  गलत सूचना के जोखिमों से बच सकते हैं।

यह भी पढ़ें – हृदय को कमजोर कर सकते हैं ये 5 हार्ट डैमेजिंग फूड्स, इनसे पूरी तरह रखें परहेज

  • 157
लेखक के बारे में

 डॉ इंद्रनील बासु रे कार्डियक इलेक्ट्रोफिजियोलॉजिस्ट और मेम्फिस, टेनेसी, यूएसए में कार्डियोलॉजी और पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर हैं। वे अमेरिकन एकेडमी फॉर योगा इन मेडिसन के संस्थापक चेयरमैन हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख