ऐप में पढ़ें

नौकरी छोड़ बनीं धावक और अपने नाम किया वर्ल्ड रिकॉर्ड, जानिए कैसा रहा सूफिया खान का सफर

Published on:25 December 2021, 20:00pm IST
सूफिया खान साड़ी में दौड़ने की योजना बना रहीं हैं, ताकि इसके संदर्भ में सकारात्मक संदेश फैलाया जा सके।
World record runner sufiya khan ki success story
वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाली धावक सूफिया खान की सफलता की कहानी। चित्र : शटरस्टॉक

मिलिए सूफिया खान से, जिन्होंने मनाली से लेह अल्ट्रामैराथन को केवल 6 दिनों में पूरा किया। वे अल्ट्रामैराथन को पूरा करने वाली पहली महिला धावक हैं। उन्होंने नौकरी छोड़ कर अपने सपनों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की और विश्व रिकॉर्ड बनाया! हेल्थ शॉट्स के साथ एक खास बातचीत में, उन्होंने अपने इस प्रेरणादायक सफर के बारे में बात की।

कई लोग आज अपनी 9 से 5 की नौकरी छोड़ रहे हैं! उनमें से अधिकांश कुछ अलग करने के लिए करियर से ब्रेक लेते हैं। यह पहली बार में कठिन लग सकता है, लेकिन यह आपके अब तक के सबसे अच्छे फैसलों में से एक हो सकता है! और आज हमारे पास एक ऐसी महिला का जीता जागता उदाहरण हैं, जिन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और पूरी तरह से अलग करियर चुना। लेडीज, मिलिए सूफिया खान से।

कौन हैं सूफिया खान?

सूफिया खान (35) का जन्म और पालन-पोषण अजमेर, राजस्थान में हुआ था। उन्होंने लगभग एक दशक तक विमानन उद्योग में काम किया, लेकिन उनके जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ तब आया जब उन्होंने 2017 में दिल्ली में अपनी पहली हाफ मैराथन दौड़ने का फैसला किया।

बाद में 2018 में, सूफिया ने अपनी नौकरी छोड़ दी और खुद को तनाव मुक्त करने के लिए दौड़ना शुरू कर दिया। 2018 में उन्हें पहली सफलता मिली। जब उन्होंने गोल्डेन ट्राइएंगल (Golden Triangle — 700 km) को कवर करके एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिया – केवल 16 दिनों में 700 किमी। यह उपलब्धि हासिल करने वाली वह पहली महिला धावक बनीं।

इस दौरान उन्होंने महसूस किया कि अपनी सामान्य दिनचर्या को छोड़ देना ही आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है। लेकिन उनका सफर यहीं खत्म नहीं हुआ। हैरान हैं कि उनका नाम दो बार गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में कैसे आया? आइए उनके बारे में और अधिक जानें।

आइये उनकी उपलब्धियों पर एक नज़र डालें

2019 में, खान ने कश्मीर से कन्याकुमारी (87 दिनों में 4000 किमी) तक दौड़ने वाली पहली महिला धावक बनकर विश्व रिकॉर्ड बनाया। अप्रैल 2021 में, वह ‘द इंडियन गोल्डन क्वाड्रिलेटरल रोड’ (110 दिनों में 6002 किमी) को कवर करने वाली दुनिया की सबसे तेज महिला धावक बनीं।

miliye soofiya khan se
मिलिए सूफिया खान से। चित्र : शटरस्टॉक

उनकी उपलब्धियों का सिलसिला यहीं खत्म नहीं होता! सूफिया ने 2021 में मनाली से लेह तक लंबी दूरी की दौड़ पूरी करने वाली दुनिया की पहली महिला धावक बनकर एक बार फिर इतिहास रच दिया। जिसमें 480 किमी की दूरी केवल 156 घंटों में तय की गई थी। यह एक अविश्वसनीय उपलब्धि है!

कैसे हासिल की सूफिया ने यह असंभव उपलब्धि?

25 सितंबर, 2021 को सुबह 7:34 बजे, खान ने अपना अल्ट्रामैराथन “हिमालयन अल्ट्रा रन अभियान” शुरू किया, जो 1 अक्टूबर, 2021 को संपन्न हुआ। उन्होंने 156 घंटे में 480 किमी की दूरी पूरी की। यात्रा 2000 मीटर की ऊंचाई पर शुरू हुई, 5,328 मीटर तक पहुंच गई, और पूरे अभियान में 8,200 मीटर की ऊंचाई हासिल की। साथ ही, तापमान शून्य से -5 डिग्री तक गिर गया, और पर्वतीय दर्रों पर ऑक्सीजन का स्तर 50 प्रतिशत से कम था।

क्या है उनकी सफलता का राज?

खान ने हेल्थ शॉट्स से बात करते हुए बताया, “मेरी सबसे बड़ी सफलता खुद को बदलने की मेरी क्षमता है, जिसके कारण मैंने सकारात्मक मानसिकता हासिल की है।”

अंडर आर्मर एथलीट कहती हैं, “मैं हर अभियान के माध्यम से आम लोगों को यह संदेश देने की कोशिश करता हूं, ताकि वे अपने जीवन और दैनिक दिनचर्या को बदल सकें, और एक उद्देश्य के साथ आगे बढ़ सकें। और अगर मैं ऐसा कर पाता हूं तो यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है। इसलिए इस दौड़ के पीछे का विचार एकता, मन की शांति और सकारात्मक जीवन का संदेश फैलाना था।”

जानिए कैसी थी उनकी तैयारी

हिमालय में हर कोई जीवित नहीं रह सकता, क्योंकि इसके लिए कठोर प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। इसलिए जब हमने खान से उनके प्रशिक्षण के बारे में पूछा, तो उनका यही कहना था, “कश्मीर से कन्याकुमारी’ और ‘गोल्डेन ट्राइएंगल’ दौड़ पूरी करने के बाद, मैं इस चुनौती को स्वीकार करना चाहती थी, क्योंकि यह अस्तित्व और सीमाओं को आगे बढ़ाने के बारे में है।

मनाली से लेह मार्ग दुनिया का सबसे कठिन मार्ग है, इसलिए मैंने इसके बारे में और बाधाओं के बारे में भी विस्तार से अध्ययन किया। इसके बाद मैंने 15 से 20 दिनों तक पहाड़ों में रहकर ठंड के मौसम और कम ऑक्सीजन के स्तर के लिए खुद को ढालने के लिए प्रशिक्षण लिया।

milye sufiya khan se
मैं रोजाना प्राणायाम और योग करती थी – सूफिया खान

इस दौरान उन्हें किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा, तो उन्होनें मनाली से लेह मैराथन करने का फैसला किया!

लगातार दौड़ का हिस्सा होने के कारण, उनका शरीर काफी हद तक तैयार था, लेकिन उन्हें अधिक ताकत और कोर वर्कआउट करने की आवश्यकता थी। खान ने उन्हें अपनी दैनिक फिटनेस दिनचर्या का हिस्सा बना लिया, और साथ ही, अपने फेफड़ों को मजबूत करने पर काम किया, ताकि वह कम ऑक्सीजन वाले वातावरण में जीवित रह सकें।

“मैं रोजाना प्राणायाम और योग करती थी। कोई विशेष आहार नहीं था जिसका मैंने पालन किया, लेकिन मैंने प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट को शामिल किया और मसालेदार और तैलीय भोजन से परहेज किया।”

अंत में

एक मध्यमवर्गीय परिवार का हिस्सा होने के नाते, उन्होंने हमेशा अपने माता-पिता को संघर्ष करते देखा, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। यही बात उन्हें जीवन में हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती रही है!

वह कहती हैं “सिर्फ इतना ही नहीं, वे हमेशा मेरे सपनों और जीवन जीने के मेरे विकल्पों के प्रति सहायक रहे हैं। मेरे माता-पिता के बाद, यह मेरे पति हैं जिन्होंने इस यात्रा में मेरा सबसे अधिक समर्थन किया है।”

विश्व रिकॉर्ड स्थापित करने के बाद भी, सूफिया का कहना है कि उन्हें और भी बहुत कुछ हासिल करना है! “मैं हर यात्रा को पूरा करने के बाद मजबूत महसूस करती हूं, इसलिए यह मेरे जीवन की शुरुआत है। मेरे पास ऐसे कई प्रोजेक्ट हैं, जिन्हें मुझे पूरा करना है। मैं अपनी सीमाओं को और आगे बढ़ाना चाहती हूं। मैं साड़ी में दिल्ली से मुंबई दौड़ने की योजना बना रही हूं ताकि मैं महिला सशक्तिकरण का संदेश फैला सकूं।”

यह भी पढ़ें : Year Ender 2021 : मिलिये उन 6 पावर गर्ल्स से, जिन्होंने दुनिया के देखने का नजरिया बदल दिया

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।