छुट्टियों की सुस्ती उतारने में मदद करेंगे ये 4 योगासन, जानिए अभ्यास का सही तरीका

थकान और आलस्य से मुक्ति पाने के लिए दिनभर में कुछ वक्त योग और मेडिटेशन के लिए अवश्य निकालना चाहिए। जानते हैं वो 4 योगासन जो बॉडी स्टेमिना को बढ़ाने में करते हैं मदद (Yoga poses to increase body stamina )।
Energy level ko yoga se badhaayein
जानते हैं वो 4 योगासन जो बॉडी स्टेमिना को बढ़ाने में करते हैं मदद (Yoga poses to increase body stamina)। चित्र : अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Updated: 3 Oct 2023, 11:14 am IST
  • 141

दिनभर की दौड़भाग से शरीर पूरी तरह से थक जाता है। ऐसे में बॉडी को एनर्जेटिक बनाने के लिए कई प्रकार के सप्लीमेंटस और पेयपदार्थों का सेवन किया जाता है। शरीर का स्टेमिना बढ़ाने के लिए योगासन एक बेहतरीन विकल्प है। इनकी मदद से न केवल शरीर का इम्यून सिस्टम मज़बूत होता है बल्कि स्टेमिना भी बढ़ने लगता है। बार बार होने वाली थकान और आलस्य से मुक्ति पाने के लिए दिनभर में कुछ वक्त योग और मेडिटेशन के लिए अवश्य निकालना चाहिए। जानते हैं वो 4 योगासन जो बॉडी स्टेमिना को बढ़ाने में करते हैं मदद (Yoga poses to increase body stamina)।

बॉडी के स्टेमिना को बढ़ाने के लिए इन 4 योगासनों को रोज़ाना करें (Increase body stamina with 4 yoga poses)

1. बालासन (Child Pose)

बॉडी को हेल्दी रखने और माइंड को रिलैक्स करने के लिए चाइल्ड पोज़ यानि बालासन एक बेहतरीन विकल्प है। इसे करने से मस्तिष्क का ब्लड फ्लो बेहतर होने लगता है। इससे शरीर का तनाव कम होता है और एनर्जी का लेवल नियमित बना रहता है। इससे बॉडी का स्टेमिना (body stamina) भी बढ़ता है।

इस योग मुद्रा को करने के लिए मैट पर सीधे खड़े हो जाएं। दोनों पैरों के मध्य दूरी न रखें और उन्हें आपस में जोड़ लें।

इसके बाद बाजूओं को उपर की ओर लेकर जाएं और घुटनों के बल बैठ जाएं। अब दोनों बाजूओं को आगे की ओर फैला कर रखें।

दोनों पंजों को जोड़े रखें। अब हिप्स को एड़ियों पर टिका लें और माथे को ज़मीन पर लगाएं। आप चाहें, तो इस योग को करते वक्त सिर के नीचे तकिया भी रख सकते हैं।

30 सेकण्ड से लेकर 1 मिनट तक इसी मुद्रा में बैठे रहें। इसके बाद सिर को उठा लें और शरीर को ढ़ीला छोड़ दें।

energy level badhaane ke liye balasan karein
इससे शरीर का तनाव कम होता है और एनर्जी का लेवल नियमित बना रहता है। चित्र : अडोबी स्टाॅक

2. उत्कट कोणासन (Goddess Pose)

इस योगासन का करने से मांसपेशियों को मज़बूती मिलती है। साथ ही पैरों और टांगों में होने वाली ऐंठन से भी मुक्ति मिल जाती है। व्यक्ति के मन पर नियंत्रण बनने लगता है। साथ ही आपकी पीठ में होने वाली स्टिलेस दूर हो जाती है। अगर आप इस योग को रोज़ाना करते हैं, तो पूरा शरीर मज़बूत बन जाता है।

इस योग को करने के लिए मैट पर सीधे खड़े हो जाएं दोनों पैरों के मध्य 6 से 8 कदमों की दूरी बना लें और पीठ को एकदम सीधा रखें।

इसके बाद दोनों टांगों को घुटनों से मोड़ लें। अब दोनों घुटनों को बाहर की ओर करें। इससे शरीर का पूरा वज़न पैरों पर आने लगता है।

अब दोनों हाथों को जोड़ें और नमस्कार की मुद्रा बना लें। इस योग को करने के दौरान दोनों आंखों को बंद कर लें और गहरी सांस लें।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

कुछ देर बाद सांस को छोड़ें। इस प्रक्रिया को 2 से 3 बार दोहराएं। इस योग को करने के बाद टांगे सीधी करके शरीर को आराम दें।

3. सेतुबंधासन (Bridge pose)

पेल्विक फ्लोर मसल्स (pelvic floor muscles) को मज़बूती प्रदान करने के लिए ये योगासन बेहद फायेदमंद साबित होता है। इससे पीरियड पेन में भी राहत मिलती है। इस योग को करने में कंधों और बाजूओं की स्टिनेस दूर होती है और पाचनतंत्र को मज़बूती मिलती है।

इसे करने के लिए पीठ के बल ज़मीन पर लेट जाएं। अब दोनों टांगों को घुटनों से मोड़ लें। इस दौरान कमर को बिल्कुल सीधा रखें और गहरी सांस लें।

अब दोनों बाजूओं को कमर से चिपकाकर रखें। इसके बाद शरीर को धीरे धीरे उपर की ओर उठाने का प्रयास करें। धड़ से लेकर कमर तक उपर उठाएं।

सिर को मज़बूती से जमीन पर टिकाएं। इसके बाद दोनों बाजूओं को कमर के नीचे खाली जगह पर ले आएं और दोनों हाथों को इंटरलॉक कर लें।

1 से 2 मिनट तक इस मुद्रा में रहने के बाद शरीर को कुछ देर आराम दें।

Bridge pose ke fayde
इस योग को करने में कंधों और बाजूओं की स्टिनेस दूर होती है। चित्र : शटरस्टॉक

4. हनुमानासन (Monkey pose)

ये योग एक ऐसा एनर्जाइज़र हैं। अगर आप इसे सही तरीके से करते हैं शरीर के निचले हिस्से से लेकर माइंड तक हर चीज़ को मज़बूती मिलती है। इस योग से पेल्विक मसल्स, कमर व थाइज़ में दबाव आता है। जो शरीर में होने वाले दर्द दूर करता है। इसके अलावा बॉडी स्टेमिना बिल्ड हो जाता है।

इसे करने के लिए मैट पर बैठ जाएं और दोनों टांगों को आगे की ओर फैलाकर रखें। इसके बाद कमर को सीधा कर लें और गहरी सांस भरें।

अब दाहिनी टांग को आगे की ओर ही रखें और बाहिनी टांग को पीछे की ओर ले जाएं। अगर आप पहली बार इस योग को कर रही हैं, तो किसी प्रशिक्षक की देखरेख में करें।

दोनों हथेलियों को ज़मीन से चिपका लें और धीरे धीरे सांस को छोड़ें। इसी प्रकार सांस लें और छोड़ें। जितना संभव हो उतनी देर तक इस पो़ज को करें।

इस योगासन को करने से हैमस्ट्रिंग में मसल्स में खिंचाव आने लगता है। इससे शरीर एनर्जी से भरपूर हो जाता है।

ये भी पढ़ें-  लंबी और यंग लाइफ चाहिए तो आज ही छोड़ दें डेली रुटीन की ये 8 आदतें

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख