लंबी और यंग लाइफ चाहिए तो आज ही छोड़ दें डेली रुटीन की ये 8 आदतें

हमारी जीवनशैली में शामिल कुछ गलत आदतें हमें अर्ली एजिंग और बीमारी की तरफ ले जाती हैं। यहां विशेषज्ञ बता रही हैं कि हमें किन 8 बुरी आदतों का अनुसरण नहीं करना चाहिए।
pressure ke saath nhin tehlen.
सूरज की रोशनी के संपर्क में रहने से मस्तिष्क में मेलाटोनिन का उत्पादन भी अच्छी तरह हो पाता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 1 Oct 2023, 18:30 pm IST
  • 126

अपने आप को युवा बनाये रखने के लिए हम कई तरह की कोशिशें करते रहते हैं। ध्यान-योग से लेकर स्किन और हेयर हेल्थ का ख्याल तक। हम कठिन से कठिन एक्सरसाइज भी कर लेना चाहते हैं। इसके लिए हम शरीर पर दवाब भी बनाते हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि इस दौरान हम कई गलतियां कर बैठते हैं, जो हमें फायदा की बजाय नुकसान पहुंचा देता है। हमें अर्ली एजिंग और बीमारी की तरफ धकेल देता है। आइये जानते हैं कि हमें अर्ली एजिंग और बीमारी से बचे रहने के लिए ऐसी कौन सी 8 चीजें नहीं करनी (Tips to stay young) चाहिए।

क्यों होती है एजिंग (Aging causes)

ऑक्सिडेटिव डैमेज (Oxidative damage causes ageing) एजिंग का सबसे बड़ा कारक है । मेटाबोलिज्म का धीमा होना (slow metabolism causes aging) भी उम्र बढ़ने का कारण बनता है। यह स्वाभाविक है। माइटोकॉन्ड्रिया द्वारा ग्रहण किए गए लगभग 2-3% ऑक्सीजन एटम रीएक्टिव ऑक्सीजन स्पेसीज में अपर्याप्त रूप से कम हो जाते हैं।

एजिंग से बचे रहने के लिए इन 8 आदतों को छोड़ देना चाहिए (don’t follow 8 habits to lead early aging and illness)

1 बहुत अधिक चलना ( avoid Too much walking to stay young)

योग टीचर डॉ. स्मृति अपने इन्स्टाग्राम पोस्ट में बताती हैं, ‘ कैलोरी जलाने के लिए हम अपने दिमाग पर बहुत अधिक दबाव डालते हैं। यदि शांत मन के साथ प्रकृति के बीच टहलने जाएं, तो आपके दिमाग पर दवाब नहीं पड़ता है। वही जब आप कैलोरी जलाने के लिए खुद पर दबाव डालती हैं, तो कभी-भी वेट लॉस नहीं हो पाता है। इसलिए दवाब देकर चलना सही नहीं है। चलना सबसे अच्छी दवा है, लेकिन जब हर सांस आपके कदमों के साथ तालमेल बिठाती है, तो यह आपको ऊर्जा से भरपूर कर देती है।’

2 देर रात सोना (avoid Late night sleeping to stay young)

डॉ. स्मृति के अनुसार, देर रात सोने से एजिंग को बढ़ावा मिल सकता है। अगर आप रात 10 बजे के बाद सो रही हैं, तो आप अपने हार्मोन के साथ खिलवाड़ कर रही हैं। कोई भी बाहरी ताकत इसे ठीक नहीं कर सकती। यह एक बहुत खतरनाक स्थिति पैदा कर सकता है। दिल के साथ-साथ दिमाग और पूरे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। जो देर से सोते हैं और जो कम से कम छह- सात घंटे की नींद नहीं ले पाते हैं, उनमें हृदय रोग होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है।

3 देर से जागना (avoid Waking up late to stay young)

देर से सोने पर व्यक्ति देर से जागता भी है। इसके कारण सोने के समय और शरीर की सर्कैडियन लय के बीच गलत तालमेल हो सकती है। सर्कैडियन लय शरीर के 24-घंटे के पैटर्न हैं, जो शरीर में विभिन्न प्रक्रियाओं के समय को नियंत्रित करते हैं। इसमें हार्मोन प्रोड्क्शन भी प्रभावित होता है और शरीर को कई समस्याएं भी होने लगती हैं। हमारी उम्र भी कम हो सकती है।

4 बहुत अधिक सेक्स (avoid Too much Sex to stay young)

बहुत अधिक सेक्स से दर्द, सूखापन, जलन और रेड रैशेज की समस्या हो सकती है। यूरीन ब्लेडर और योनि का संक्रमण भी हो सकता है। हृदय रोग का जोखिम बढ़ सकता है। ये सभी समस्याएं उम्र को घटा भी सकती हैं।

5 यूरीन और स्टूल को रोक कर रखना (avoid controlling urine and stool to stay young)

बार-बार पेशाब रोकने से पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है। इन मांसपेशियों में से एक मूत्रमार्ग दबानेवाला यंत्र (urethral sphincter) है, जो मूत्र को बाहर निकलने से रोकने के लिए यूरीन पाथ को बंद रखता है। इस मांसपेशी के क्षतिग्रस्त होने से यूरीन पर कंट्रोल नहीं रह सकता है। पॉटी रोकने से आंत में समस्या हो सकती है

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
urine ko rokkar nhin rakhna chahiye.
बार-बार पेशाब रोकने से पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

6 गलत तरीके से आसन और एक्सरसाइज करना (avoid wrong practice of yoga asanas to stay young)

जानकारी के अभाव में हम गलत तरीके से योग-आसन और एक्सरसाइज कर लेते हैं। यह फायदा पहुंचाने की बजाय उलटे नुक्सान पहुंचा सकता है। इससे कई गंभीर समस्याएं भी हो सकती हैं। इसलिए इंस्ट्रकटर से अच्छी तरह सीखने के बाद ही किसी भी क्रिया को करें

7 सही ढंग से प्राणायाम नहीं करना (avoid Putting pressure while doing pranayama to stay young)

यदि सही ढंग से प्राणायाम नहीं किया जाता है और शरीर पर दवाब डाला जाता है, तो यह कई समस्याओं का कारण बन सकता है। सांस लेने में समस्या, चक्कर आना, कमजोर पाचन, अनियमित विचार, नींद में गड़बड़ी हो सकती है। प्राणायाम में सांस लेना शामिल है और सांस बिना दवाब के लेना और छोड़ना चाहिए

 pranayam galat dhang se nahin karen.
यदि सही ढंग से प्राणायाम नहीं किया जाता है, तो यह कई समस्याओं का कारण बन सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

8 बहुत अधिक तनाव लेना (avoid so much of stress to stay young)

तनाव के कारण न सिर्फ मेंटल हेल्थ, बल्कि फिजिकल हेल्थ भी प्रभावित हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें :- वजन घटाने के लिए लगातार कर रहीं लैक्सेटिव का प्रयोग, तो जान लें इसके स्वास्थ्य जोखिम

  • 126
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख