भूल जाइए हाजमे की गोलियां, खाना हजम करने के लिए अपनाएंं ये 4 बिल्‍कुल प्राकृतिक तरीके

आपके टेस्‍ट बड्स का खामियाजा अगर आपके पेट को भुगतना पड़ता है, तो हम आपके लिए आयुर्वेद के पिटारे से लेकर आए हैं हाजमे के बिल्‍कुल प्राकृतिक उपचार।
Artificial sweetener badhata hai aapki bhookh
आर्टिफिशियल स्वीटनर बढ़ाता है आपकी भूख। चित्र- शटरस्टॉक

सर्दियों का मौसम असल में फूडीज का मौसम है। कभी सेहत, तो कभी स्‍वाद के बहाने हम दिन भर कुछ न कुछ खाते ही रहते हैं। उस पर इस मौसम में आने वाले फेस्टिवल और पार्टियां भी पेट को ओवरलोड कर देते हैं। इस सबके चलते अगर आपको भी हाजमे की गोलियों पर निर्भर रहना पड़ता है, तो हम आपके लिए लेकर आए हैं हाजमे के ऐसे प्राकृतिक उपचार, जो बिना किसी साइड इफैक्‍ट आपको सहज महसू करवाएंगे।

सर्दी के मौसम में हर किसी की इच्छा होती है तरह-तरह के पकवान खाए जाएं। परंतु आलस की वजह से हमारी चहलकदमी कम हो जाती है, जिससे खाना पच नहीं पाता और हमें कई छोटी- बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है| जैसे:

  1. पेट में सूजन
  2. गैस
  3. कब्ज़
  4. दस्त
  5. जी मिचलाना
  6. उल्टी
  7. पेट में जलन

पाचन तंत्र भोजन को पोषक तत्वों और ऊर्जा में बदल, शरीर को लाभ पहुंचाता है। लेकिन सर्दियों में हमारी पाचन क्रिया कमज़ोर पड़ सकती है। जिसमे कुछ प्रकार के भोजन या उपाय करने से इस प्रक्रिया को दुरुस्त रखा जा सकता हैं। साथ ही अपने रोज़ के आहार में कुछ चीजों को जोड़ने से अपच की समस्याएं दूर हो सकती हैं।

सर्दियों में ब्लोटिंग की समस्या बहुत आम है। चित्र: शटरस्टॉक
सर्दियों में ब्लोटिंग की समस्या बहुत आम है। चित्र: शटरस्टॉक

ज़रूरी नही है कि हर व्यक्ति का पाचन तंत्र मज़बूत हो। इसलिए, दादी-नानी के बताये इन नुस्खों को फिर से आजमाने का समय आ गया है :

1 हींग है हाजमे का रामबाण इलाज

हींग कई प्रकार से पेट की समस्याओं का समाधान करती है। इसमें एंटी- ऑक्‍सीडेंट और एंटी- इन्फ्लेमेटोरी गुण होते हैं, जो अपच, ख़राब पेट और गैस जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं। अगर आप हींग का तड़का अपने रोज़ की दाल में लगाती हैं, तो खाने में स्वाद तो बढ़ेगा ही साथ ही पेट की सभी परेशानियां भी हल हो जाएंगी।

2 पोषण से भरपूर दही

दही आपके पेट के कई रोगों का इलाज कर सकता है। इसलिए इसे अमृत समान माना गया है। पेट में गर्मी या जलन होने पर, दही या दही से बनी लस्सी पीने से पेट की गर्मी शांत होती है। इतना ही नही दही से बनी छाछ रोज़ खाने के साथ लेने पर खाना जल्दी पचता है।

बेहतर होगा कि आप सादे दही का सेवन करें। चित्र: शटरस्‍टॉक
बेहतर होगा कि आप सादे दही का सेवन करें। चित्र: शटरस्‍टॉक86

दही में कई प्रकार के गुड-बैक्टीरिया पाए जाते हैं जो आपके पाचन तंत्र को मज़बूत कर चयापचय को दुरुस्‍त करते हैं। आपको इससे बदहजमी भी नही होती और हाजमा दुरुस्त रहता है।

3 खाने में अदरक कर सकती है चमत्कार

सभी मसालों में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, लेकिन अदरक उनमें सबसे ज्यादा प्रभावशाली है। इसमें अपनी 25 अलग-अलग एंटीऑक्सीडेंट विशेषताएं हैं, जिसके कारण यह शरीर के अलग-अलग हिस्सों में अत्यंत लाभदायक है।

इसे आप अपने रोज़ के खाने में शामिल कर सकती हैं। खाने में अदरक का इस्तेमाल करने से खाने का स्वाद तो बढ़ेगा ही, साथ ही आपका हाजमा भी दुरुस्त रहेगा।

4 सौंफ और अजवायन चूर्ण

खान के बाद सौंफ और अजवायन का चूर्ण खाएं। इसे खाने से आपका खाना जल्दी ही पच जायेगा और आपको भारीपन की समस्‍या नहीं होगी। सौंफ और अजवायन का चूर्ण बनाने के लिए, अपनी ज़रुरत अनुसार ये दोनों चीजें लें और 5 मिनट तक धीमी आंच पर भून लें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
अजवायन गैस के साथ-साथ पेट दर्द की समस्‍या से भी राहत दिलाती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

फिर इस मिश्रण को ग्राइंड करें और चाहें तो स्वादानुसार काला नमक भी मिला लें। आपका चूर्ण तैयार है। रोज़ रात को खाना खाने के बाद इस चूर्ण का सेवन करने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहेगा।

यह भी पढ़ें – ये 3 ड्रिंक्स बन सकते हैं कब्ज का कारण, जानें कहीं आप भी तो नहीं कर रहीं ये गलती

  • 104
लेखक के बारे में

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं। ...और पढ़ें

अगला लेख