वैलनेस
स्टोर

स्तनपान करवाने वाली महिलाएं इन 8 खाद्य पदार्थों का गलती से भी न करें सेवन

Published on:7 June 2021, 10:41am IST
ब्रेस्ट फीडिंग शिशुओं के लिए पोषण का माध्यम है। इसलिए यदि आप स्तनपान करा रही हैं, तो आपको अपने खानपान पर ध्यान देने की सख्त जरूरत है और आपको इन सब खराब खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
दूध पिलाने वाली मांएं भी वैक्सीन ले सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

ब्रेस्ट फीडिंग (मां का दूध) वह फार्मूला है जिसका हर बच्चा हकदार होता है। ये कहना गलत नहीं होगा कि अगर आप चाहती हैं कि आपका बच्चा सभी प्रकार की बीमारियों से दूर हो, तो बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराने से बहुत फर्क पड़ता है। क्या आप जानती हैं कि स्तनपान भी मां और बच्चे के बीच एक मजबूत बंधन बनाने में मदद करता है।

ऐसा इसलिए क्योंकि इस प्रक्रिया के दौरान शरीर में ऑक्सीटोसिन निकलता है। लेकिन दुर्भाग्य से, यदि आप उचित आहार का सेवन नहीं करते हैं, तो सब कुछ व्यर्थ हो जाएगा। डॉक्टरों के अनुसार, कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें स्तनपान कराने के दौरान सबसे खराब खाद्य पदार्थों के रूप में माना जाता है।

अमोदिता आहूजा, जो एक सलाहकार प्रसूति, लेप्रोस्कोपिक सर्जन, बांझपन विशेषज्ञ और स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं, के अनुसार, स्तन का दूध पोषक तत्वों का एक पावर हाउस है, जो आपके नवजात शिशु के भविष्य के स्वास्थ्य का फैसला करेगा। मां के दूध में मौजूद पोषक तत्व नवजात शिशु को आसानी से पच जाते हैं, जो एक बड़ा फायदा है।

आप जो भी खाती हैं, वह बेबी की सेहत को प्रभावित करता है। चित्र : शटरस्टॉक

लेकिन कभी-कभी मां द्वारा खाया गया भोजन स्तन के दूध की मात्रा और गुणवत्ता के साथ-साथ उसके स्वाद को भी प्रभावित कर सकता है। इसलिए मांओं को अपने खान-पान का खास ख्याल रखना चाहिए।

एक स्तनपान कराने वाली मां को किन चीज़ों से बचना चाहिए:

1. गैसीय खाद्य पदार्थ

आमतौर पर कहा जाता है कि अगर मां को गैस की समस्या है, तो बच्चे को भी गैस हो सकती है। ऐसे में हमें यह जानने की जरूरत है कि मां ने क्या खाया है, जिससे ऐसे प्रभाव नजर आ रहे हैं। कुछ खाद्य पदार्थ जो गैस पैदा कर सकते हैं जैसे ब्रोकली, गोभी, राजमा, छोले, काले चने, दाल, मूंगफली, आलू और मकई।

फूलगोभी और ब्रोकोली जैसी सब्जियों से परहेज करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

डॉ आहूजा का सुझाव है, “इसके अलावा, ऐसे खाद्य पदार्थों को मां के आहार से बाहर करने से पहले, यह पता लगाना महत्वपूर्ण है कि बच्चा स्तनपान करते समय बहुत अधिक हवा में हांफ तो नहीं रहा है।”

2. कैफीन से भरपूर खाद्य पदार्थ

कैफीन के सबसे आम स्रोत चाय, कॉफी और सॉफ्ट ड्रिंक हैं। हालांकि कैफीन बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग के माध्यम से स्थानांतरित हो जाता है। ये आमतौर पर कैफीन की दैनिक खपत का 1% से भी कम होता है। समस्या तब शुरू होती है जब ये शिशु के शरीर में जमा होने लगती है। अगर मां दिन में पांच कप से ज्यादा का सेवन करती है। इससे कैफीन की मात्रा काफी ज्यादा हो सकती है।

ये शिशुओं में अत्यधिक रोने के साथ-साथ सोने में असमर्थता का कारण बन सकता है। साथ ही, कैफीन दूध में आयरन की मात्रा को कम कर देता है, जिससे बच्चे में एनीमिया हो जाता है।

3. शराब

शराब से पूरी तरह से बचना चाहिए, लेकिन अगर आप शराब पीने के लिए बहुत ज्‍यादा बेचैन हैं, तो आपको एक से दो पैग से आगे नहीं बढ़ना चाहिए। सुनिश्चित करें कि आप अपने शिशु को अंतिम पेय के कम से कम चार घंटे बाद तक दूध न पिलाएं। हमेशा अपने बच्चे को स्तनपान कराने के बाद ही शराब का सेवन करें। शराब स्तन के दूध में अच्छी मात्रा में प्रवेश करती है और बच्चे को सुला सकती है।

स्‍तनपान के दौरान शराब पीने से परहेज करें। चित्र-शटरस्टॉक।

4. वसा में घुलनशील विटामिन

आहूजा का सुझाव है कि “विटामिन ए और डी जैसे सभी वसा घुलनशील विटामिन स्तन के दूध में मिल सकते हैं, और शिशु में विषाक्तता पैदा कर सकते हैं। इसलिए, सप्लीमेंट्स लेने की सलाह तभी दी जाती है, जब आपको इसकी कमी हो। ऐसे मामलों में अनुशंसित खुराक 1200-1300 एमसीजी / दिन से अधिक नहीं होनी चाहिए”।

5. पारा के संपर्क में आने से बचें

कुछ प्रकार की मछलियां जिनमें पारे की मात्रा अधिक होती है- जैसे किंग मैकेरल, स्वोर्डफ़िश, शार्क और टाइल फ़िश। यदि इसका बड़ी मात्रा में सेवन किया जाता है, तो ये कुछ शिशुओं में पारा विषाक्तता पैदा कर सकता है, जिससे उनकी संज्ञानात्मक (cognitive) और मनोदैहिक क्षमताओं (psychomotor abilities) में देरी हो सकती है। आप सार्डिन, केकड़े, स्क्विड, लॉबस्टर और सैल्मन जैसी विभिन्न मछलियों की प्रति सप्ताह 2-3 सर्विंग्स ले सकती हैं।

6. खट्टे फल

कभी-कभी, संतरे, नींबू और आंवला जैसे खट्टे फलों का सेवन शिशु के पेट में जलन पैदा कर सकता है, जिससे दस्त और डायपर रैशेज हो सकते हैं। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आपको उन्हें अपने आहार से पूरी तरह से खत्म करने की जरूरत है। केवल लक्षणों पर ध्यान दें और यदि आप अपने शिशु के व्यवहार में कोई बदलाव महसूस करते हैं, तो सेवन को 1-2 सर्विंग्स प्रति दिन तक सीमित करें।

7. ट्रांस फैट से भरपूर भोजन

केक, पेस्ट्री, व्हीप्ड क्रीम, पिज्जा, बर्गर और मार्जरीन जैसे खाद्य पदार्थ ट्रांस-फैट से भरपूर होते हैं। जब कुछ खाद्य पदार्थों में ट्रांस फैट की मात्रा बढ़ जाती है, तो डीएचए की मात्रा कम हो जाती है, जिससे शिशु के मस्तिष्क के विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। डब्ल्यूएचओ(WHO) के अनुसार, आपके आहार में 1% से कम ट्रांस वसा रखने और उपरोक्त सभी फास्ट फूड से बचने की सलाह दी जाती है।

8. कृत्रिम मिठास वाले भोजन से बचें

किसी भी कृत्रिम स्वीटनर जैसे एस्पार्टेम, स्टीविया, सुक्रालोज़, सैकरीन और सोर्बिटोल को शिशु को ब्रेस्टफीडिंग के दौरान हस्तांतरित किया जा सकता है। चूंकि बच्चे पर इसके प्रभाव पर दीर्घकालिक अध्ययन उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए सलाह दी जाती है कि स्तनपान कराने वाली माताओं द्वारा इसके सेवन से बचना चाहिए।

किसी भी ऐसे आहार से परहेज करें जिसमें एडेड शुगर है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ये देखा गया है कि जो माताएं स्तनपान के दौरान उच्च चीनी वाले खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन करती हैं, उनके बच्चे वयस्क जीवन में मोटापे और मधुमेह का शिकार हो जाते हैं। ऐसे बच्चों में वयस्कता के दौरान उच्च शर्करा और वसायुक्त भोजन की लालसा होती है। इसलिए उच्च चीनी और वसायुक्त खाद्य पदार्थों से बचने की सलाह दी जाती है।

प्रत्येक भोजन सभी शिशुओं पर समान प्रभाव नहीं डालता। अगर आपको लगता है कि किसी भी प्रकार का भोजन आपके बच्चे को प्रभावित कर रहा है, तो इसे नोट कर लें और इसे पूरी तरह से टालने का प्रयास करें।

भोजन संबंधी मिथकों में न पड़ें और अपने आहार पर ध्‍यान देना शुरू करें। जब तक कि आपके बच्चे पर उस भोजन का ठीक प्रभाव न हो। एक अच्छी तरह से संतुलित और पौष्टिक आहार लें, जिसमें ज्यादातर घर का बना खाना शामिल हो। आपका आहार आपके बच्चे के भविष्य के स्वास्थ्य का फैसला करता है।

इसलिए लेडीज, अपने बच्चे को स्तनपान कराते समय इस बात के प्रति सचेत रहें कि आप क्या खा रही हैं, क्योंकि ये शिक्षु के स्वास्थ्य को बना या बिगाड़ सकता है।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में सोने में कठिनाई महसूस कर रहीं हैं, तो जानिए इसके कारण और समाधान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।