वेट लॉस के बाद भी करना पड़ सकता है स्ट्रेच मार्क्स का सामना, जानिए इनसे कैसे बचना है

जब आप वजन कम करते है तो बॉडी से फैट एकदम से कम होता है और आपका स्किन लटक जाती है या स्ट्रेच मार्क्स आ जाते है तो चलिए जानते है इससे कैसे बचना है।
strech marks
स्‍ट्रैच मार्क्‍स के लिए आपका मोटापा जिम्मेदार हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
संध्या सिंह Published: 23 Sep 2023, 02:00 pm IST
  • 145

जब वजन बढ़ा हुआ होता है तो शरीर में फैट होता है जिससे स्किन नॉर्मल रहती है। लेकिन जैसे ही हम अपने वजन को कम करते है तो बॉडी से फैट कम हो जाता है तो स्किन में स्ट्रेच मार्क्स हो जाते है। ये बिल्कुल उसी तरह होता है जैसे महिलाओं को प्रेगनेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स का होना।

एक्ट्रेस जरीन खान ने कुछ समय पहले अपने इंस्टाग्राम पर अपनी एक फोटो शेयर की थी। लोगों ने उनके पेट के स्ट्रेच मार्क्स को लेकर उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। उन्होंने जवाब देते हुए कहा, “यह एक ऐसे व्यक्ति का प्राकृतिक पेट है जिसका वजन 50 किलोग्राम से अधिक कम हो गया है। यह इस तरह दिखता है।”

कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में स्ट्रेच मार्क्स होने का खतरा अधिक होता है। जब आपका वजन घटता या बढ़ता है, जब आप व्यायाम करते हैं, वजन कम करते हैं और मांसपेशियां बनाते हैं, तो त्वचा में परिवर्तन होता है और उसकी लोच कम हो जाती है। खासकर यदि आप अपनी त्वचा में सर्कुलेशन को बेहतर बनाने पर ध्यान नहीं देते हैं।

डॉ. अंकुर सरीन जो की एक डर्मेटोलॉजिस्ट है वो बताते है कि अगर आप अचानके से एक साथ बहुत सारा वजन कम कर लेंगे तो ये आफके स्ट्रेच मार्क्स की वजह बन सकता है लेकिन कुछ तरीके है जिससे आप इससे बच सकते है।

stretch marks ko kaise kaam karein
वजन कम करते समय हो सकते है स्ट्रेच मार्क्स चित्र- अडोबी स्टॉक

चलिए जानते है वजन कम करने के दौरान स्ट्रेच मार्क्स से कैसे बचें

धीरे-धीरे वजन घटाएं

तेजी से वजन घटाने से स्ट्रेच मार्क्स की समस्या बढ़ सकती है। संतुलित और टिकाऊ डाइट और एक्सरसाइज रूटिन अपनाकर धीरे-धीरे, स्थिर वजन घटाने का लक्ष्य रखें। स्वस्थ गति से वजन कम करने से नए स्ट्रेच मार्क्स बनने से रोकने में मदद मिल सकती है।

डॉ. अंकुर सरीन बताते है कि आपको 0.5kg वजन ही हर हफ्ते घटाने का लक्ष्य रखना चाहिए। इससे ज्यादा या बहुत अधिक वजन अगर आप कम समय में घटाते है तो इससे स्ट्रेच मार्क्स की समस्या हो सकती है। तेजी से वजन कम करने से स्किन की लोच भी खत्म होने लगती है।

अपनी त्वचा को हाइड्रेट करें

अपनी त्वचा को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखने से इसकी लोच में सुधार हो सकता है और स्किन में खिंचाव के निशान यानि स्ट्रेच मार्क्स दिखना कम हो सकता है। अंदर से हाइड्रेटेड रहने के लिए खूब पानी पिएं और प्रभावित क्षेत्रों पर स्ट्रेच मार्क्स के लिए विशेष रूप से बनाए गए मॉइस्चराइज़र या क्रीम का उपयोग करें। कोकोआ बटर, शिया बटर, हायल्यूरोनिक एसिड या विटामिन ई जैसे तत्व युक्त उत्पाद सहायक हो सकते हैं।

आप जिस भी क्षेत्र का वजन कम कर रहें है उस जगह पर मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल कर सकते है इससे आपकी स्किन हाइड्रेट रहेगी। और आपको स्ट्रेच मार्क्स से बचने में भी मदद मिल सकती है।

strech marks se kaise nijaat paen
जानिए आप घर पर ही कैसे पा सकती हैं स्ट्रैच मार्क्स से छुटकारा। चित्र : शटरस्टॉक

माइक्रोनीडलिंग और लेज़र थेरेपी

माइक्रोनीडलिंग एक न्यूनतम इनवेसिव कॉस्मेटिक प्रक्रिया है जिसमें त्वचा में माइक्रो इंजरी पैदा करने के लिए बारीक सुइयों वाले एक उपकरण का उपयोग किया जाता है। यह प्रक्रिया कोलेजन उत्पादन को प्रोत्साहित कर सकती है और स्ट्रेच मार्क्स की उपस्थिति में सुधार कर सकती है।

लेज़र ट्रिटमेंट, जैसे फ्रैक्शनल लेज़र थेरेपी, कोलेजन उत्पादन को उत्तेजित करके और त्वचा में सुधार करके स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद कर सकते हैं। लेजर थेरेपी एक योग्य त्वचा विशेषज्ञ या कॉस्मेटिक सर्जन द्वारा की जानी चाहिए।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- चेहरे पर भाप लेना है एक हेल्दी ब्यूटी ट्रेंड, जानिए इसके फायदे और ज्यादा करने के नुकसान भी

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख