वैलनेस
स्टोर

फूड्स का ये इंद्रधनुष कर सकता है आपको सेहत से मालामाल, जानें क्‍यों जरूरी है रेनबो डाइट

Updated on: 10 December 2020, 12:36pm IST
अगर आप खुद को स्वस्थ रखने के लिए किसी खास डाइट की तलाश में हैं तो रेनबो डाइट आपके लिए ही है। हम बताते हैं इसके बारे में सब कुछ।
विदुषी शुक्‍ला
  • 78 Likes
आपकी प्लेट में जितने ज्यादा हो सकें, रंग शामिल करें। चित्र- शटरस्टॉक।

फिटनेस के लिए तरह-तरह की डाइट मौजूद हैं, कुछ असरदार हैं और कुछ बकवास! कीटो डाइट, पैलियो डाइट से लेकर इंटरमिटेंट फास्टिंग जैसी कई डाइट हैं, लेकिन कोई भी आपको फिटनेस का आश्वासन नहीं देती। पर रेनबो डाइट (Rainbow Diet) इन सबसे अलग है।

इंद्रधनुषी रंगों से सजी रेनबो डाइट आपको स्वस्थ रखने का आश्वासन ही नहीं देती, बल्कि कारगर सिद्ध भी हो चुकी है। यह बहुत साधारण सा कॉन्सेप्ट है जिसमें आपको अपनी डाइट में इंद्रधनुष के हर रंग को शामिल करना होता है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

असल में हर रंग का भोजन अलग पोषक तत्वों से भरपूर होता है और उसका अपना महत्व है। जर्नल न्यूट्रिशनल साइंस में प्रकाशित स्टडी के अनुसार प्लांट बेस्ड फूड में, भोजन का प्राकृतिक रंग उसमें मौजूद पोषक तत्वों के कारण ही होता है। हर रंग आपके शरीर पर अलग प्रभाव डालता है। यही कारण है कि हर दिन सभी रंगों को आपकी डाइट का हिस्सा होना चाहिए।

1. लाल और गुलाबी फूड

अनार, रास्पबेरी, स्ट्राबेरी, तरबूज, सेब, टमाटर, लाल शिमला मिर्च, चुकंदर जैसे लाल रंग के फल लायकोपीन से भरपूर होते हैं। ‘लायकोपीन’ सबसे शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है। यह कैंसर, कार्डियोवस्कुलर बीमारियों और सूरज की हानिकारक UV किरणों से बचाता है।
लाल रंग के लिए एंथ्रॉसाइनिन नामक कंपाउंड जिम्मेदार होता है। यह मांसपेशियों को होने वाले डैमेज को कम करता है और उन्हें मजबूत बनाता है।

2. नारंगी फूड

पीच, संतरे, कीनू, कद्दू और गाजर इस रंग की श्रेणी में आते हैं। नारंगी रंग के लिए फाइटोकेमिकल ‘कारटेनॉइड’ जिम्मेदार होता है। यह आंखों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। इसके साथ ही कारटेनॉइड शरीर की सभी म्यूकस परत को स्वस्थ बनाए रखता है।

हर दिन खाएं रेनबो- जानिए क्या है रेनबो डाइट और इसके सेहत के लिए फायदे। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. पीले फूड

आम, नींबू, पपीता, अनानास, केसर, खरबूजा, भुट्टा, खुबानी इत्यादि पीले रंग के होते हैं। पीले फूड में ल्युटीन और जेक्सनतिन नामक पिग्मेंट होते हैं जो उम्र से जुड़ी बीमारियों के प्रति सबसे असरदार होते हैं। यह फूड कमजोर आंखों के लिए भी फायदेमंद होते है। इसके साथ ही यह ldl यानी बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करते हैं और त्वचा को स्वस्थ बनाते हैं। पीले फूड प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को भी कम करते हैं।

4. हरे फूड

यह तो आप जानते ही हैं कि हरे रंग के लिए क्लोरोफिल जिम्मेदार होता है। खीरा, सेलरी, ग्रीन एप्पल, अंगूर, कीवी, पालक, पुदीना, मेथी, भिंडी, मटर, शिमला मिर्च, पत्तागोभी, बीन्स इत्यादि सभी हरी सब्जियां और फल बहुत हेल्दी होते हैं। इनमें फॉलेट और आयरन भरपूर मात्रा में होता है। हरे फूड्स में विटामिन सी भी होता है जो इम्युनिटी बढ़ाने में कारगर होता है। अच्छे इम्यून सिस्टम और खून में ऑक्सीजन के लिए हरे फूड आवश्यक हैं। प्रेगनेंसी के दौरान इनका सेवन सबसे ज्यादा किया जाना चाहिए।

हर दिन खाएं रेनबो- जानिए क्या है रेनबो डाइट और इसके सेहत के लिए फायदे. चित्र: शटरस्‍टॉक

5. नीला और बैंगनी

ब्लैकबेरी, ब्लूबेरी, अंगूर, आलूबुखारा, बैंगन, जामुन, रेड कैबेज इत्यादि गहरे रंग के फल और सब्जी फ्लेवनॉयड्स से भरपूर होते हैं। इनमें एंथोसायनिन होते हैं जो शरीर मे इंफ्लामेशन कम करते हैं। फ्लेवनॉयड्स पाचन दुरुस्त करते हैं, कैल्शियम के सोखने की क्षमता बढ़ाते हैं और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं। ये शरीर मे ट्यूमर बनने से भी रोकते हैं।

ब्लूबेरी में भी रेसवेराट्रॉल पाया जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

6. सफेद फूड

नाशपाती, केले, खजूर, प्याज, लहसुन, मशरूम, आलू, अदरक और शलजम जैसे सफेद फूड क्वरसेटिन नामक एंटीऑक्सीडेंट का भंडार होते हैं। ये ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और दिल सम्बंधी बीमारियों को खत्म करते हैं। साथ ही यह पेट के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। सफेद फूड्स में सबसे अधिक फाइबर होता है, पोटेशियम होता है और ये पेट के कैंसर का जोखिम कम करते हैं।

हर दिन, इन सभी रंगों को अपने भोजन में किसी न किसी तरह शामिल करने की कोशिश करें। ये आपके शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और आपकी सेहत के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। आपकी प्लेट में जितने ज्यादा हो सकें, रंग शामिल करें। इस आसान डाइट के पालन से आप स्वस्थ और तंदुरुस्त रह सकती हैं।

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।