AIDS Awareness : एचआईवी-एड्स को रोकने में कम्युनिटी कर सकती है योगदान, जानिए कैसे

ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस के प्रति जागरूक करने के लिए हर साल वर्ल्ड एड्स डे मनाया जाता है। इस वर्ष इस ख़ास दिवस की थीम कम्युनिटी वर्क्स करने के लिए जोर देती है। जानते हैं कम्युनिटी कैसे एड्स के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए काम कर सकती है?
aids se bachaav ke prati jaagrookta jaroori hai.
एड्स जैसी लाइलाज बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World Aids Day) मनाया जाता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 29 Nov 2023, 11:00 am IST
  • 125

पिछले 40 वर्षों से भी अधिक समय से विश्व भर के लोग ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (HIV) जैसे भयानक वायरस का सामना कर रहे हैं। इसके कारण होने वाला एड्स (Acquired Immune Deficiency Syndrome) इम्यून सिस्टम के बेहद कमजोर होने (AIDS) का कारण बनता है। यदि उपचार न किया जाए, तो यह मृत्यु का कारण बन जाता है। एड्स जैसी लाइलाज बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World Aids Day) मनाया जाता है। एड्स अवेयरनेस (AIDS Awareness) के लिए कम्युनिटी अधिक कारगर हो सकती है।

वर्ल्ड एड्स डे (World Aids Day-1 December)

वर्ष 1988 से हर साल 1 दिसंबर को वर्ल्ड एड्स डे मनाया जाने लगा। यह एक अंतरराष्ट्रीय दिवस है, जो एचआईवी संक्रमण (HIV Infection) के प्रसार के कारण होने वाली एड्स महामारी के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए आयोजित किया जाता है। यह दिवस बीमारी से मरने वालों के प्रति शोक व्यक्त करने के लिए भी समर्पित है। हर साल इस ख़ास दिन के लिए थीम निर्धारित किया जाता है। इस वर्ष (World Aids Day 2023) भी एक ख़ास थीम (World Aids Day 2023 Theme) निर्धारित है।

क्या है वर्ल्ड एड्स डे 2023 की थीम (World Aids Day 2023 Theme)

वर्ल्ड एड्स डे 2023 की थीम (World Aids Day 2023 Theme) है – समुदायों को नेतृत्व करने दें (let communities lead)। यह सच है कि यदि एड्स को ख़त्म करना है, तो समुदायों यानी कम्युनिटी की मदद लेनी है। समुदाय की मदद से ही एड्स से पीड़ित लोगों के जरूरी उपचार, सेवाओं और जागरूकता के लिए काम किया जा सकता है। एड्स से पीड़ित लोगों के प्रति सद्भावना और एकजुटता प्रकट करने के लिए रेड रिबन (Red Ribbon for AIDS) लगाया जाता है। वर्ल्ड एड्स डे का स्लोगन भी वैश्विक एकजुटता और साझा जिम्मेदारी (Global solidarity, shared responsibility) है ।

क्या कहते हैं एड्स के आंकड़े (World Health Organization Data on AIDS)

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के आंकड़ों के अनुसार, 2022 में 39 लाख लोग एचआईवी के साथ जी रहे थे। सरकार की एचआईवी अनुमान रिपोर्ट (2019) के अनुसार, भारत में 2019 में लगभग 23 लाख से भी अधिक लोगों के एचआईवी/एड्स से पीड़ित होने का अनुमान है। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के अनुसार, एड्स महामारी को समाप्त करने के लिए एचआईवी के प्रति सामुदायिक कार्य सबसे अधिक प्रभावी (AIDS Awareness) होंगे।

hiv sambadhi uchit jankari honi chahiye
र्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के अनुसार, एड्स महामारी को समाप्त करने के लिए एचआईवी के प्रति सामुदायिक कार्य सबसे अधिक प्रभावी होंगे। चित्र- अडोबी स्टॉक

समुदायों की महत्वपूर्ण भूमिका

एड्स को समाप्त करने के लिए 2016 के संयुक्त राष्ट्र राजनीतिक घोषणा पत्र में भी सदस्यों ने समुदायों की महत्वपूर्ण भूमिका की पुष्टि की। इसके अलावा, यह माना गया कि फास्ट-ट्रैक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एचआईवी के प्रति सामुदायिक प्रतिक्रियाओं को बढ़ाया जाना चाहिए। 2030 तक कम से कम 30% सेवाओं को समुदाय के नेतृत्व में करने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए।

कैसे प्रभावी है कम्युनिटी (How does community work)

इंडियन जर्नल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (Indian Journal of Medical Research) के अनुसार, सामुदायिक कार्रवाई परिणामों में तब्दील होती है। इसकी मदद से बेहतर स्वास्थ्य परिणाम प्राप्त किये जा सकते हैं। कम्युनिटी के मदद से उन लोगों तक पहुंचा जा सकता है, जहां तक उपचार और सेवा पहुंचने में कठिनाई होती है। इसके माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा सकता है। सामाजिक दृष्टिकोण और मानदंडों (AIDS Awareness) को बदला जा सकता है। सक्षम वातावरण बनाया जा सकता है, जिससे पीड़ितों के प्रति भेदभाव खत्म किया जा सके।

एचआईवी से पीड़ितों की व्यापक भागीदारी (Participation of HIV Patient)

सोशल साइंस एंड मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित शोध निष्कर्ष के अनुसार, एचआईवी से संबंधित स्वास्थ्य सेवाओं, रोकथाम, यौन और प्रजनन स्वास्थ्य, मानवाधिकार सेवाओं में प्रत्यक्ष भागीदारी कम्युनिटी की मदद (AIDS Awareness) से हो सकती है।

HIV ke prati jaagrookta jaroori hai.
यूएन की संस्था यूएनएड्स एचआईवी से पीड़ित लोगों की व्यापक भागीदारी बनाने के लिए कार्य करता है। चित्र : अडोबी स्टॉक

इससे समुदाय-आधारित अनुसंधान में भी भागीदारी हो सकती है। यूएन की संस्था यूएनएड्स एचआईवी से पीड़ित लोगों की व्यापक भागीदारी बनाने के लिए कार्य करता है। यह सच है कि एड्स महामारी को समाप्त करने के लिए एचआईवी के प्रति सामुदायिक प्रतिक्रिया (AIDS Awareness) जरूरी है।

यह भी पढ़ें :- Antibiotics Awareness Week : गंभीर बीमारियों का जोखिम बढ़ा देता है एंटी बायोटिक का बेवजह सेवन

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख