वेट लाॅस ही नहीं, अपनी स्किन और मूड के लिए भी जरूरी है 40 की उम्र में एक्टिव रहना, जानिए कुछ जरूरी एक्सरसाइज के बारे में

बहुत सी महिलाएं चाय की चुस्की से ही दिन की शुरूआत करती है। मगर उससे पहले किया गया कुछ देर का वर्कआउट आपके लिए वरदान साबित हो सकता है।
Workout se karein din ki shuruwat
वर्कआउट रूटीन में स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ को शामिल करें। इससे शरीर में लचीलापन बना रहता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 6 Jul 2023, 06:23 pm IST
  • 141

उम्र बढ़ने के साथ शरीर में कई बीमारियों का जोखिम बढ़ने लगता है। मगर दिनभर के बाकी कामों को पूरा करने के चलते अपनी बॉडी को अवॉइड करने लगते हैं। शरीर में जल्दी थकान और कमज़ोरी महसूस होने लगती है। इसके चलते हम कई कार्यों को पूण रूप से नहीं कर पाते हैं। अगर आप 40 की उम्र में भी 25 के समान एक्टिव और फ्लैक्सिबल बनी रहना चाहती हैं, तो वर्कआउट को रूटीन में शामिल करना बहुत ज़रूरी है। बहुत सी महिलाएं चाय की चुस्की से ही दिन की शुरूआत करती है। मगर उससे पहले किया गया कुछ देर का वर्कआउट आपके लिए वरदान साबित हो सकता है (Workout after 40’s)।

वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) और सीडीसी (Centres for disease control and prevention) के अनुसार 64 वर्ष की आयु तक के लोगों को दिनभर में कम से कम 150 से 300 मिनट तक मॉडरेट एक्सरसाइज़ करनी चाहिए। वहीं 75 से 150 मिनट का समय एरोबिक एक्सरसाइज़ के लिए निकालना चाहिए। इसके अलावा हर सप्ताह पाँच से लेकर सात दिन तक करीब 30 मिनट एक्सरसाइज़ के लिए ज़रूर निकालें। इसके अलावा सप्ताह में दो दिन मांसपेशियों की मजबूती बनाए रखने के लिए विशेष व्यायाम करने चाहिए। वर्कआउट रूटीन में स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ को शामिल करें। इससे शरीर में लचीलापन बना रहता है।

जानते हैं बॉडी को वर्कआउट से क्या फायदे मिलते हैं

1. हृदय रोग का खतरा टल जाता है

अगर आप वर्कआउट करती हैं, तो हृदय रोग का जोखिम कम हो जाता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक अगर आप नियमित तौर पर एरोबिक एक्सरसाइज़ को फॉलो करती हैं, तो इससे हार्ट के मसल्स को तेजी से पंप करने में सहायता मिल जाती है।

2. हड्डियों को मज़बूती मिलती है

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक 40 से लेकर 45 के करीब महिलाओं में मेनोपॉज की कंडीशन में बॉडरी के अंदर एस्ट्रोजन होर्मोन का लेवल कम होना शुरू हो जाता है। इससे बॉडी में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ने लगता हैं। ऐसे में रोज़ाना वर्कआउट करने से शरीर में गठीलापन आने लगता है। साथ ही हड्डियों की कमज़ोरी के अलावा जोड़ों में उठने वाले दर्द की संभावना भी काफी कम हो जाती है।

exercise ke fayde
इससे शरीर में मज़बूती आती है और आप एक्टिव फील करने लगते हैं। चित्र : अडोबी स्टॉक

3. मूड स्विगंस से राहत

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के मुताबिक साल 2019 में हुए एक रिसर्च में पाया गया है कि 50 की उम्र में लोग अक्सर अकेलेपन का शिकार होने लगते हैं। इसका प्रभाव मेंटल हेल्थ पर दिखने लगता है। इसके चलते हम अंदर ही अंदर उदास और मायूस महसूस करते हैं। ऐसे में दिनचर्या में अगर कुछ वक्त वर्कआउट के लिए निकाल लेती हैं, तो इससे न सिर्फ बॉडी में ब्लड फ्लो बेहतर होने लगता है। साथ ही शरीर में एंडोर्फिन होर्मोन में वृद्धि होती है। जो एक हैप्पी होर्मोन है। इससे आप चिंतामुक्त रह पाते हैं।

4. कोलेजन बढ़ने लगता है

उम्र का प्रभाव स्किन पर भी नज़र आने लगता है। दरअसल, 40 की उम्र तक पहुंचते पहुंचते स्किन में नेचुरल कोलेजन प्रोडक्शन घटने लगता है। इसके चलते चेहरे पर झुर्रियां, आंखों के नीचे काला पन और त्वचा की कसावट गायब होने लगती है। कोजेलन एक प्रकार का प्रोटीन है। इसकी मदद से हमारी बॉडी में मसल्स, स्किन और हड्डियों तक हर चीज़ को फायदा मिलने लगता है।

collagen kaise bdhaye
झुर्रियां, जोड़ों की जकड़न और त्वचा की इलास्टिसिटी में कमी आना संकेत है कि काेलेजन का प्राेडक्शन धीमा होने लगा है। चित्र- अडोबी स्टॉक

इन बातों का रखें ख्याल

दिनभर में 15 से 20 मिनट मेडिटेशन के लिए अवश्य निकालें। इससे आत्म नियंत्रण बढ़ने लगता है और तनाव व रोष से मुक्ति मिल जाती है।

अगर आप स्किपिंग या हाई इंटेसिटी एक्सरसाइज़ करना चाहती हैं, तो उसके लिए शरीर को फिठ होना ज़रूरी है। इसके अलावा आप इसमें मॉडरेशन भी कर सकती है।

शुरूआत में ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ अवश्यस करें। इसके अलावा खुद को किसी भी प्रकार के हैवी वर्कआउट से बचाकर रखें।

बॉडी को शेप में लाने के लिए चेयर बेस्ड एक्सरसाइज़ के अलावा कुछ देर तक स्क्वैट्स भी करें। इससे शोल्डर्स और बैली टोने होने लगते हैं।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

अगर आप प्रेगनेंट है या फिर मेनोपॉज से गुज़र रही हैं, तो वेट लिफिंटंग एक्सरसाइज को करने से परहेज करें।

ये भी पढ़ें- Yoga in Monsoon : क्या बरसात के मौसम में नहीं करना चाहिए योगाभ्यास? एक्सपर्ट दे रहीं हैं इस सवाल का जवाब

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख