यदि किसी कारण से आपकी स्किन पर स्कार्स हैं, तो जानिए उन्हें हटाने के 5 घरेलू उपाय

Published on: 9 July 2022, 12:00 pm IST

यदि चोट लगने या स्किन जल जाने के कारण स्कार्स हो गए हैं और ये लंबे समय से बने हुए हैं, तो आजमाएं 5 घरेलू उपाय। नेचुरल होने के कारण ये स्किन के लिए सुरक्षित हैं।

skin scars
यदि स्किन पर लंबे समय तक स्कार्स बने रहते हैं, तो ये बीमारी के संकेत हैं। चित्र: शटरस्टॉक

अक्सर चोट लगने या जल जाने के बाद स्किन पर दाग-धब्बे या स्कार्स हो जाते हैं। कुछ स्कार्स स्थायी होते हैं, तो कुछ अस्थायी। हालांकि इनके रहने से स्किन को कोई समस्या तो नहीं होती, लेकिन ये दिखने में अच्छे नहीं लगते हैं। कई घरेलू उपाय हैं, जिनके माध्यम से इन दाग को हटाया (How to fade skin scars naturally) जा सकता है। यहां हम ऐसे ही 5 उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं। 

स्किन की बायोलॉजिकल रिपेयरिंग करते हैं स्कार्स

स्कार्स (Scars) बनाने के लिए फाइब्रस टिश्यू जिम्मेदार होते हैं। यह डैमेज हो चुकी स्किन को रिमूव कर देते हैं। स्कार्स वास्तव में स्किन की बायोलॉजिकल रिपेयरिंग करते हैं। स्किन रिपेयरिंग की प्रक्रिया बॉडी टिश्यूज द्वारा संचालित की जाती हैं। यदि आपकी स्किन पर निशान हैं, तो यह कहा जा सकता है कि ये प्राकृतिक रूप से आपकी स्किन को ठीक कर रहे हैं।

कुछ बीमारियों के बारे में भी बताते हैं स्कार्स

यदि स्किन पर लंबे समय तक स्कार्स बने रहते हैं, तो इससे शरीर में होने वाली बीमारियों के संकेत भी मिल सकते हैं।

खराब ब्लड सर्कुलेशन: 

यदि लंबे समय तक स्कार्स बने रहते हैं, तो इसका मतलब है कि क्षतिग्रस्त त्वचा की मरम्मत करने वाले ऊतक को पर्याप्त रक्त नहीं मिल रहा है। ब्लड टिश्यूज के लिए ईंधन की तरह हैं। यदि ब्लड सर्कुलेशन ठीक नहीं है, तो हार्ट डिजीज होने की संभावना भी बन सकती है।

संक्रमण: 

घाव के अंदर संक्रमण होने पर भी स्कार्स जल्दी ठीक नहीं होते हैं। हवा में कीटाणु और बैक्टीरिया होते हैं, जो घाव को ठीक नहीं होने देते हैं।

प्रोटीन कुपोषण : 

शरीर में पर्याप्त प्रोटीन नहीं रहने पर शरीर की मरम्मत ठीक तरह से नहीं हो पाती है। इसलिए स्कार्स स्थायी बन जाते हैं।

यहां हैं 5 घरेलू उपाय जिससे स्किन स्कार्स फेड कर सकते हैं

1 एलोवेरा जेल की हीलिंग केपेसिटी

कई स्किन एक्सपर्ट स्किन पर एलोवेरा लगाने की सलाह देते हैं। इसमें जख्म को भरने की क्षमता होती है। दाग के चले जाने तक इसे लगाते रहना चाहिए।

कैसे करें प्रयोग

एलोवेरा की एक पत्ती लें।

ऊपर वाले भाग को छीलकर हटा दें।

ट्रांसपेरेंट हरे जेल को दाग-धब्बों पर लगाएं।

2 विटामिन ई कैप्सूल है स्कार्स को हटाने में कारगर

विटामिन ई डेड सेल्स को हटाकर स्किन की पोर्स को साफ कर देता है। यह दाग-धब्बों को हटाने में मददगार है।

कैसे करें प्रयोग

किसी भी फार्मेसी से विटामिन ई कैप्सूल लें।

सुबह 1 कैप्सूल को काटकर इसके ऑयल को स्कार्स वाली जगह पर लगाएं।

रात में भी 1 कैप्सूल को काटकर इसके ऑयल को स्कार्स वाली जगह पर लगाएं।

रोज 2 कैप्सूल को तब तक लगाती रहें जब तक कि स्कार्स खत्म न हो जाएं।

3 शहद का एंटी बैक्टीरियल गुण

एंटी बैक्टीरियल और एंटी एलर्जिक शहद बारिश के मौसम में स्किन के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। यह किसी भी प्रकार की स्किन प्रॉब्लम को दूर करने में मदद करते हैं।

कैसे करें प्रयोग

सोने से पहले स्किन स्कार पर शहद लगाएं।

उसे पट्टी से ढक दें।

इसे पूरी रात लगा हुआ छोड़ दें और सुबह धो लें।

यह घरेलू उपाय तब तक आजमाएं जब तक कि निशान खत्म न हो जाएं।

4 नारियल तेल है देसी उपायों में सबसे आगे

एंटी बैक्टीरियल गुणों वाला नारियल तेल दाग-धब्बों को दूर करने में काफी असरकारक हैं। ग्रामीण इलाकों में आज भी जलने के बाद दाग-धब्बों को दूर करने के लिए नारियल तेल लगाया जाता है।

कैसे करें प्रयोग

तेल को गुनगुना गर्म करें और निशान पर लगाएं।

इसे सोखने के लिए छोड़ दें।

यह दिन-रात कभी-भी और कई बार स्किन पर लगाया जा सकता है।

5 एप्पल साइडर विनेगर का एसिडिक नेचर

हर मर्ज की दवा है एप्पल साइडर विनेगर। इसका एसिडिक नेचर दाग-धब्बों को दूर करने में मदद करता है।

apple cider vinegar
एप्पल साइडर विनेगर स्किन स्कार्स को खत्म करने में मदद करता है। चित्र:शटरस्टॉक

कैसे करें प्रयोग

2 टेबल स्पून डिस्टिल्ड वॉटर के साथ 4 टेबलस्पून एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं।

कॉटन बॉल को इस मिश्रण से गीला कर स्कार वाली जगह पर लगाएं।

इसे हल्के हाथों से थपथापाएं।

आप इसे दिन भर में 2-3 बार एप्लाई कर सकती हैं। 

यहां पढ़ें:-ऑयली, ड्राई या मिक्स, जैसा भी है आपका स्किन टोन, ये 5 एसेंशियल ऑयल आ सकते हैं आपके काम 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।