ऑयली, ड्राई या मिक्स, जैसा भी है आपका स्किन टोन, ये 5 एसेंशियल ऑयल आ सकते हैं आपके काम 

Published on: 5 July 2022, 13:32 pm IST

बरसात के मौसम में हर तरह की स्किन के लिए चुनौतियां कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती हैं। शुक्र है प्रकृति का जिसने कुछ खास एसेंशियल ऑयल हमें दिए। 

essential oil fayde
एसेंशियल ऑयल न सिर्फ तनाव मुक्त करता है, बल्कि स्किन की कई समस्याओं को दूर कर देता है। चित्र: शटरस्टॉक

भारत में एसेंशियल ऑयल का प्रयोग लंबे समय से होता आया है। मां कहती है कि जब वातावरण में नमी हो, तो एसेंशियल ऑयल का जरूर प्रयोग करना चाहिए। मानसून में ये ऑयल स्किन को न्यूट्रीशन के साथ-साथ संपूर्ण प्रोटेक्शन भी देते हैं। यहां हम उन 5 एसेंशियल ऑयल के बारे में बता रहे हैं जो आपको स्किन संबंधी समस्याओं (5 essential oils for skin) से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। 

क्या हैं एसेंशियल ऑयल 

एसेंशियल ऑयल कई अलग-अलग तरह के पौधों से निकाला जाने वाला अर्क है। इसका प्रयोग अरोमाथेरेपी, नेचुरोपैथी और कई दूसरी चिकित्स पद्धतियों में किया जाता है। लैवेंडर, यूकेलिप्टस आदि जैसे कई पौधे हैं, जिनसे इन्हें प्राप्त किया जाता है। स्टीम डिस्टिलेशन और कोल्ड प्रेसिंग से ऑयल निकाला जाता है। इसकी स्मेल बहुत अधिक स्ट्रॉन्ग होती है। इनमें एक्टिव इंग्रेडिएंट्स (active ingredients) का लेवल हाई होता है।

क्यों मानसून में फायदेमंद है एसेंशियल ऑयल का प्रयोग

मानसून में स्किन संबंधी समस्याएं अधिक होती हैं। इस मौसम में एलर्जी और स्किन रैशेज होना ज्यादा आम है। जबकि एसेंशियल ऑयल्स का प्रयोग करने से न सिर्फ स्किन संबंधी समस्याएं ठीक होंगी, बल्कि इनके प्रयोग से आप रिलैक्स होंगी और बेहतर नींद भी ले पाएंगी।  

साथ ही, मौसम बदलने पर जब सर्दी-जुकाम की समस्या ज्यादा परेशान करने लगती हैं, तब भी एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।  पर अगर आप अस्थमा के मरीज हैं और मौसमी बदलाव आपकी समस्या को ट्रिगर करता है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श के बाद ही इन तेलों का इस्तेमाल करना चाहिए। 

यहां हैं 5 तरह के एसेंशियल ऑयल जिनका आपको इस मौसम में उपयोग करना चाहिए 

1 लैवेंडर (Lavender Oil)

लैवेंडर ऑयल खुशबूदार एसेंशियल ऑयल है। यह रिलैक्स करता है और साउंड स्लीप देता है। साथ ही यह स्किन के लिए भी फायदेमंद है। यह स्किन में नमी के स्तर को संतुलित करने में भी मदद करता है। यह एक नेचुरल हाइड्रेटर है, जो ड्राय स्किन को मॉयश्चराइज करता है। इसके एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण स्किन रेडनेस को कम कर सकता है।

2 कैमोमाइल (Chamomile Oil)

कैमोमाइल ऑयल में एजुलिन कंपाउंड होता है, जो स्किन को मॉयश्चराइज करता है और इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद करता है। यदि आपको रैगवीड से एलर्जी है, तो आप इसका इस्तेमाल न करें, कैमोमाइल एक ट्रिगर हो सकता है।

3 चंदन (Sandalwood Oil)

चंदन में मॉइश्चराइज करने और इन्फ्लेमेशन को कम करने के कंपाउंड पाए जाते हैं। बारिश में सेंसिटिव स्किन में एलर्जी होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए चंदन एसेंशियल ऑयल का प्रयोग करना सेफ होता है। यह सभी स्किन के लिए सही होता है।

4 दालचीनी (Cinnamon Oil)

दालचीनी एसेंशियल ऑयल में सिनामन एसिड जैसा प्रमुख एंटीऑक्सीडेंट कंपाउंड पाया जाता है। यह एक पावरफुल एंटी इन्फ्लामेटरी होता है। यह एग्जिमा, स्किन एलर्जी, रैशेज, पिंपल्स आदि जैसी स्किन प्रॉब्लम को दूर करने में मदद कर सकता है।

5 टी ट्री ऑयल (Tea tree Oil)

टी ट्री एसेंशियल ऑयल प्रमुख एंटीसेप्टिक है। यह बैक्टीरिया और इन्फलेमेशन से लड़ने में मदद करता है। यह पिंपल्स, एक्ने, पिगमेंटेशन को दूर करने में मदद करता है।

tee tree oil ke fayde
एसेंशियल ऑयल की कुछ बूंदें चेहरे या शरीर के किसी भी भाग की स्किन पर लगाई जा सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

कैसे करें एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल 

यदि आपको किसी भी प्रकार की स्किन समस्या है, तो ऐसेंशियल ऑयल की कुछ बूंदें स्किन पर अप्लाई कर लें। रात को सोने से पहले भी चेहरे और स्किन पर इन्हें लगाया जा सकता है।

यहां पढ़ें:-मम्मी हमेशा देती हैं अति से दूर रहने की सलाह, मैंने अनुभव से जाना इसका कारण 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें