क्या कई भाषाएं जानने वाले बच्चों को बोलने में देरी होती है? कब बच्चे का न बोलना हो सकता है चिंताजनक 

Published on: 2 July 2022, 16:30 pm IST

मल्टीकल्चर्ड फैमिली में यह स्वभाविक है माता, पिता या ग्रैंड पेरेंट्स की बोलियां अलग-अलग हों। पर क्या यह स्थिति बच्चे की बोलने की क्षमता प्रभावित कर सकती है?  

child stress
पेरेेंट्स के लिए बच्चों के व्यवहार को समझना बहुत जरूरी होता है। चित्र:शटरस्टॉक

हम माता-पिता और देखभाल करने वाले के रूप में हमेशा अपने बच्चों के डेवलपमेंट के बारे में चिंतित रहते हैं। बच्चों के पहले कुछ साल तो बहुत कुछ बिल्कुल नई चीज सीखने और उपलब्धियों के लिए प्रशंसा पाने में ही चले जाते हैं। जब आपका बच्चा प्रमुख चीजों को सीखने में सफल नहीं हो पाता है, तो आपकी चिंता बढ़ने लगती है। द्विभाषी या बहुभाषी बच्चों के माता-पिता अक्सर आश्चर्य करते हैं कि क्या एक से अधिक भाषाओं के संपर्क में आने से उनके बच्चों के बोलने में देरी होती है।

बहुभाषी बच्चों के बोलने में देरी होती है या नहीं, इस बारे में डॉक्टर से कब संपर्क करना पड़ता है, इन सभी के बारे में यहां जानकारी दी जा रही है।

बहुभाषी या द्विभाषी होना क्या है 

दो भाषाओं का उपयोग करने या समझने की क्षमता को द्विभाषी कहा जाता है। यदि कोई व्यक्ति दो से अधिक भाषाओं को बोल या समझ सकता है, तो वह बहुभाषी होता है। बच्चों के लिए दो भाषाएं सीखना मुश्किल काम लग सकता है, फिर भी यह माना जाता है कि वे दो भाषाओं को स्वाभाविक रूप से सीख जाते हैं। क्योंकि वे ऐसा कर सकते हैं। मातृभाषा या मदर टंग बच्चों की सामान्य रूप से पहली भाषा होती है। साथ ही दूसरी भाषा जो वे स्कूल में या सामुदायिक इनपुट से सीखते हैं।

कब ये माना जाए कि बोलने में देरी हो रही है 

जब कोई बच्चा बोलने की अनुमानित उम्र होने के बावजूद नहीं बोल पाता है, तो इसे बोलने में देरी कहा जाता है।

12 से 18 महीने की उम्र का एक सामान्य बच्चा 2-3 शब्द बोलने में सक्षम होना चाहिए। उसके पास 4-6 शब्दों की शब्दावली होनी चाहिए। जब वह 2 वर्ष का हो जाता है, तब उसके पास 50 शब्दों तक की शब्दावली होनी चाहिए। वह 2–3-शब्दों का वाक्य बोलने में भी सक्षम हो। 

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक बच्चा अलग होता है। वह हमेशा इस नियम का पालन नहीं कर सकता है। अगर बच्चे के बोलने में देरी हो रही है, तो इसे अनदेखा न करें और किसी विशेषज्ञ से अपने बच्चे की जांच करवाएं।

क्या बहुभाषी या द्विभाषी होना बोलने में देरी का कारण बनता है?

इसका छोटा-सा जवाब नहीं में है। एक से अधिक भाषा बोलना बच्चों के बोलने में देरी का कारण नहीं हो सकता है।

प्रत्येक भाषा में एक द्विभाषी बच्चे की शब्दावली सामान्य से छोटी हो सकती है। द्विभाषी बच्चे मोनोलिंगुअल बच्चों की तुलना में कुछ महीने बाद अपने पहले शब्दों का उच्चारण कर सकते हैं, लेकिन ऐसा मानक आयु सीमा (8 से 15 महीने के बीच) के भीतर ही हो जाएगा।

जब बहुभाषी बच्चे संक्षिप्त वाक्य बनाना शुरू करते हैं, तो वे उसी तरह व्याकरण विकसित करते हैं जैसे कि एक भाषा सीखने वाले बच्चे करते हैं। 

बोलने की देरी परिवार के बहुभाषी होने के कारण नहीं हो सकती। यदि एक बहुभाषी बच्चा किसी महत्वपूर्ण बात को याद कर रहा है, तो उसे भाषा की समस्या हो सकती है। इसकी स्पीच थेरेपिस्ट द्वारा जांच की जा सकती है।

बोलने में देरी के अन्य कारण क्या हैं?

बच्चों के बोलने में देरी विभिन्न कारकों के कारण हो सकते हैं, जो जन्मजात भी हो सकता है। या जन्म के समय भी मौजूद रह सकता है। हीयरिंग लॉस, मेंटल रिटार्डेशन, संज्ञानात्मक कमियां, अनुवांशिक भिन्नताएं, तंत्रिका संबंधी अक्षमता और शारीरिक असामान्यताओं के कारण भी बच्चे देर से बोलते हैं।

कभी-कभी बच्चे शुरुआत में कम बोलते हैं। कम बोलने की समस्या बहुभाषा के कारण हो सकती है। जब प्रत्येक भाषा को अलग-अलग तरीके से देखा जाता है, तो बाद के दिनों में शब्दावली में कमी हो सकती है। यह समस्या एक निश्चित समय के लिए हो सकती है। जब दोनों भाषाओं को एक साथ देखा जाता है, तो शब्दावली लगभग बराबर होती है, जिसे हम वैचारिक शब्दावली कहते हैं।

माता-पिता द्विभाषी या बहुभाषी बच्चों की सहायता कैसे कर सकते हैं?

बच्चे सुनने के माध्यम से भाषा सीखते हैं। खाने के समय, नहाने के समय, कपड़े पहनने के समय और खेलने के समय किसी भी भाषा में बच्चों से बात करने, उन्हें सिखाने और उनके द्वारा शब्दों को सीखने के बेहतरीन अवसर हैं।

यदि आपका बच्चा दोनों भाषाओं का उपयोग करता है तो चिंता न करें। नई भाषा सीखते समय यह एक सामान्य घटना है। अपने बच्चे को नियमित रूप से सुनने, बोलने, खेलने और अपनी मातृभाषा में बोलने दें।

यदि आपको संदेह है कि आपका बच्चा बोलने में देरी कर रहा है, तो एक से अधिक भाषा सीखने में अपने बच्चे की सहायता करने के लिए सर्वोत्तम तकनीकों पर स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट से परामर्श लें।

इससे पहले कि बच्चा नए शब्दों का प्रयोग करे, बच्चों को उन्हें सैकड़ों बार सुनना पड़ता है। एक माता-पिता अपने बच्चे को वह शब्द सिखाने के लिए एक साधारण वाक्य का उपयोग कर सकते हैं, जो वे चाहते हैं कि वह सीखे। साथ ही उन्हें यह भी बताएं कि यह शब्द क्या है।

Apne bachcho se adhik baat kare
मां-पिता बच्चों से खूब बातें कर उनकी सहायता कर सकते हैं। चित्र:शटरस्टॉक

हर बच्चा अलग होता है और अपनी गति से बोलना सीखता है। अधिकांश द्विभाषी बच्चे जो भाषा बोलते हैं और उसका कितना अच्छा उपयोग करते हैं, उसमें उतार-चढ़ाव तो होगा ही। बच्चे को उस भाषा में बात करना जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करें, जिसमें उसकी सबसे अधिक रुचि और सुविधा हो।

निष्कर्ष

परिवार का बहुभाषी या द्विभाषी होना बच्चों में बोलने में देरी का कारण नहीं बनता है। बच्चों में बोलने में देरी के अन्य कारण भी हो सकते हैं। बच्चों के देरी से बोलने पर स्पीच थेरेपिस्ट से परामर्श लेना चाहिए।

यहां पढ़ें:-National Doctors Day 2022 : डॉक्टर और मरीज के बेहतर संबंध आसान बना सकते हैं उपचार

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें