वैलनेस
स्टोर

वक्त आ गया है अपने हेयर डैमेज को बाय-बाय कहने का इन आयुर्वेदिक सीक्रेट्स के साथ

Updated on: 10 August 2021, 11:13am IST
आयुर्वेद लंबे समय से विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को हल करने के लिए माना जा रहा है। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि, जब आपके बालों की बात आती है, तो यह कारगर साबित हो सकता है। यहां वे सभी सामग्रियां हैं जो आपको मजबूत और चमकदार बालों के लिए चाहिए!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 94 Likes
baalon ke liye ayurvedic herbs
झड़ते बालों के लिए अपनाएं ये आयुर्वेदिक जड़ी - बूटियाँ. चित्र : शटरस्टॉक

आयुर्वेदिक विज्ञान दोषों की अवधारणा पर काम करता है। दोष प्रमुख ऊर्जाएं हैं जो अच्छे स्वास्थ्य का संकेत देते हैं। शरीर में तीन प्रकार के दोष होते हैं: वात, पित्त और कफ। एक से अधिक दोष शरीर को असंतुलित कर सकता है और आपकी त्वचा, शरीर या बालों के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है।

मजबूत और चमकदार बालों के लिए कफ, वात और पित्त का स्वस्थ संतुलन होना आवश्यक है। किसी भी दोष का बढ़ना आपको बालों की समस्याओं से ग्रस्त कर देगा, जिसमें सूखापन, बालों का झड़ना, तैलीय स्कैल्प, गंजापन या बालों का समय से पहले सफेद होना जैसी समस्याएं शामिल हैं।

बालों को स्वस्थ रखने के लिए सही सामग्री का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। यहां पांच आयुर्वेदिक अवयवों की सूची दी गई है, जो आपके बालों को मज़बूत और चमकदार बना देंगे।

1. भृंगराज

भृंगराज एक प्राचीन आयुर्वेदिक रहस्य है और इसे जड़ी-बूटियों का राजा भी कहा जाता है। भृंगराज तेल आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन E, पॉलीपेप्टाइड्स और विटामिन D से भरपूर होता है। यह आपके बालों को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करेगा, जो बालों की मजबूती और विकास को बढ़ावा देता है। यह रूसी के इलाज में भी मदद करता है और सफ़ेद बालों को दूर रखता है।

2. कस्तूरी

कस्तूरी को व्यापक रूप से जटामांसी या भारतीय स्पाइकेनार्ड के रूप में जाना जाता है। यह घटक रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देकर और जड़ों को तरोताजा करके स्कैल्प को खोलने के लिए प्रसिद्ध है। कायाकल्प करने वाला घटक नियमित उपयोग के बाद शरीर को जोड़ता है और आपके बालों में चमक लाता है। कस्तूरी को सफ़ेद बालों को काला रंग देने के लिए सबसे अधिक पसंद किया जाता है।

baalon ke liye methi
मेथी के बीज और पत्तियां दोनों ही बालों के विकास के लिए फायदेमंद हैं। चित्र : शटरस्टॉक।

3. मेथी

मेथी, जिसे फेन्युग्रीक के नाम से भी जाना जाता है, एक आयुर्वेदिक घटक है जो बालों के पतले होने, रूसी और शुष्क स्कैल्प के इलाज के लिए फायदेमंद है। कई ब्यूटी पब्लिशर्स का मानना ​​है कि मेथी में आयरन और प्रोटीन की मौजूदगी, घने और स्वस्थ बाल का सीक्रेट है। अपने हेयर केयर रूटीन में इसका उपयों डैमेज और सूखे बालों ठीक करने के लिए कारगर है।

4. आंवला

आंवला भारत में कई सदियों से बालों की देखभाल के लिए उपयोग किया जा रहा है। भारतीय आंवला विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट और पोषक तत्वों से भरपूर होता है। अपने समृद्ध घटकों के साथ, यह रूसी, बालों के झड़ने, और ड्राई स्कैल्प के साथ-साथ जूँ संक्रमण और परजीवी संक्रमण जैसी प्रमुख बालों की स्थितियों का इलाज करने में मदद करता है। आंवला भारत के सभी हिस्सों में व्यापक रूप से उपलब्ध है और इसका लगातार उपयोग बालों को बेहतरीन बनाता है।

5. हिबिस्कस

हिबिस्कस के पत्ते बालों के लिए बेहद फादेमंद हैं। 2003 में किए गए एक अध्ययन में, हिबिस्कस के पत्ते बालों के विकास के लिए इसके फूल की तुलना में अधिक फायदेमंद साबित हुए थे। हिबिस्कस की पत्तियां एक ऑलराउंडर हैं, जो बालों की लगभग सभी समस्याओं का इलाज करती हैं जैसे – डैंड्रफ, बालों का समय से पहले सफेद होना, बालों का झड़ना, सूखे और डैमेज बालों के साथ-साथ स्प्लिट एंड्स। बालों के लिए गुड़हल का तेल काफी फायदेमंद है।

सारांश

आयुर्वेदिक उपचार चुनते समय, यह समझने की जरूरत है कि यह त्वरित सुधार को बढ़ावा नहीं देता है, बल्कि समग्र उपचार पर काम करता है। प्रकृति की लय के माध्यम से मन और शरीर के संतुलन का बनाकर, इन उपायों से वास्तव में सबसे अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

आयुर्वेदिक माध्यम से सुंदर बाल पाने की चाह में, आपको न केवल सामग्री पर भरोसा करना चाहिए बल्कि अपनी जीवनशैली पर भी ध्यान देना चाहिए। सही खाद्य पदार्थ खाने, शांत वातावरण में रहने और शरीर की जरूरतों को समझने से कई लाभ प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें : फेस पैक के लिए मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाए ये घरेलू सामग्री और चेहरे को दें एक्स्ट्रा ग्लो

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।