Itchy Butt : गीले या टाइट अंडरवियर भी बन सकते हैं बट में खुजली का कारण, जानिए इसके बारे में सब कुछ

बट में खुजली होना किसी के लिए भी असहज करने वाली स्थिति हो सकती है। पर इसके कारण आपके दैनिक लापरवाहियों में ही मौजूद हैं। एक्सपर्ट से जानते हैं इस समस्या से छुटकारा पाने के उपाय।
butt pain kyu hota hai
बट में खुजली एक आम समस्या है, इसे प्रुरिटस एनी के रूप में जाना जाता है। चित्र : शटरस्टॉक
संध्या सिंह Published: 20 Jun 2023, 16:26 pm IST
  • 145

बट के बारे में बात करना लोगों को कभी-कभी शर्मिंदगी भरा हो सकता है। अपने शरीर के इस महत्वपूर्ण अंग के बारे में खुलकर बात करते हुए भी लोग असहज महसूस करते हैं। पर किसी भी समस्या को छुपाने या इग्नोर करने का अर्थ है उसे और ज्यादा गंभीर होने की अनुमति देना। इसलिए हेल्थ शॉट्स पर हम उन सभी मुद्दों पर खुलकर बात करते हैं, जो आपकी सेहत को प्रभावित करते हैं। फिर बट हेल्थ और हाइजीन पर बात करना तो और भी जरूरी है। आइए एक एक्सपर्ट से जानते हैं बट में होने वाली खुजली (Itchy butt causes) के कारण और बचाव (how to stop itching anus) के उपाय।

बट में खुजली एक आम समस्या है, इसे प्रुरिटस एनी (pruritus ani) के रूप में जाना जाता है, बट के आसपास जलन के लिए तकनीकी शब्द जो खुजली करने की इच्छा का कारण बनता है। अगर आपको बट में खुजली हो रही है, तो सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि इसकी वजह क्या है।

इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने बात की गायनकलॉजिस्ट और आर्केडी वीमेन हेल्थ केयर एंड फर्टिलिटी की डायरेक्टर डॉ पूजा दिवान से। पूजी दिवान बताती है कि, “सबसे पहले ये सुनिश्चित करें कि यह किसी बीमारी का लक्षण तो नहीं। क्योंकि खुजली से खरोंच, छोटे कट, दर्द और सूजन हो सकती है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि खुजली किस कारण से हो रही है।”

butt mei khujali ko kaise thik karein
सबसे पहले ये सुनिश्चित करें कि यह किसी बीमारी का लक्षण तो नहीं। चित्र- अडोबी स्टॉक

क्या हो सकते हैं बट में खुजली होने के कारण

1 गंदगी रहना

पूजी दिवान बताती है कि मल त्याग के बाद ठीक से सफाई न हो पाना त्वचा पर मल के अवशेष छोड़ देता है, जिससे जलन और खुजली हो सकती है। हल्के साबुन और पानी या गीले कपड़े का उपयोग करके इसे साफ करें। हल्का सूखने के बाद पूरी तरह से और अच्छे से सफाई सुनिश्चित करना आवश्यक है।

2 स्किन का रूखा होना

बट क्षेत्र में रूखी त्वचा खुजली का कारण बन सकती है। लूज मोशन या डायरिया की स्थिति में भी यह समस्या हो सकती है। जब आप अपने बट को बार-बार धोती हैं। हार्ड साबुन का उपयोग, गर्म पानी से नहाना या बारिश और कम नमी त्वचा में रूखापन बढ़ा देते हैं। बट की त्वचा काफी संवेदनशाल होती है। ऐसी स्थिति में मॉइस्चराइज़र लगाने से राहत मिल सकती है।

3 फंगल या यीस्ट संक्रमण

कैंडिडिआसिस (यीस्ट संक्रमण) जैसे फंगल संक्रमण, बट के आसपास की त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं और खुजली पैदा कर सकते हैं। ये संक्रमण गर्म, नम वातावरण में पनपते हैं। इसके लक्षणों में लालिमा, दाने और पनीर जैसा डिस्चार्ज शामिल हो सकते हैं।

4 बवासीर भी हो सकती है कारण

पूजी दिवान के अनुसार पाइल्स या बवासीर बट क्षेत्र में सूजी हुई रक्त वाहिकाएं होती हैं, जो खुजली, दर्द और परेशानी पैदा कर सकती हैं। वे मल त्याग, गर्भावस्था या पुरानी कब्ज के दौरान समस्या पैदा कर सकते हैं। सिट्ज़ बाथ और जीवनशैली में बदलाव जैसे फाइबर का सेवन बढ़ाना और हाइड्रेटेड रहना, बट में होने वाली खुजली और अन्य लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

5 खराब त्वचा के कारण

विभिन्न त्वचा की स्थिति, जैसे कि एक्जिमा, सोरायसिस, बट को प्रभावित कर सकती हैं और खुजली पैदा कर सकती है। इन स्थितियों में त्वचा में सूजन और जलन हो सकती है। उपचार में सामयिक स्टेरॉयड, मॉइस्चराइज़र और ट्रिगर्स की पहचान करते हुए उनसे बचना जरूरी है।

एक्सपर्ट बता रहीं हैं बट में होने वाली खुजली से राहत पाने के उपाय

बट में खुजली को ठीक करने के लिए क्या कर सकते है इसके बारे में हमें जानकारी दी गायनकलॉजिस्ट और आर्केडी वीमेन हेल्थ केयर एंड फर्टिलिटी की डायरेक्टर डॉ पूजा दिवान से।

1 उचित स्वच्छता बनाए रखें

गर्म पानी और एक हल्के सुगंध रहित साबुन से धीरे-धीरे धो कर बट क्षेत्र को साफ रखें। कठोर साबुन या अत्यधिक रगड़ने से बचें, क्योंकि वे त्वचा को और परेशान कर सकते हैं। धोने के बाद, उस जगह को मुलायम तौलिये से थपथपा कर सुखाएं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
kaise karein khujali ko thik
गर्म पानी और एक हल्के सुगंध रहित साबुन से धीरे-धीरे धो कर बट क्षेत्र को साफ रखें। चित्र- अडोबी स्टॉक

2 मॉइस्चराइज़र या बैरियर क्रीम का प्रयोग करें

त्वचा को शांत करने और सुरक्षित रखने के लिए बट क्षेत्र में एक सौम्य मॉइस्चराइज़र या बैरियर क्रीम लगाएं। उन उत्पादों को इस्तेमाल करने की कोशिश जो विशेष रूप से संवेदनशील त्वचा या जलन के लिए तैयार किए गए हैं। अतिरिक्त सुगंध या जलन पैदा करने वाले उत्पादों से बचें।

3 टाइट पैंटी या जींस पहनने से बचें

ढीले-ढाले और सांस लेने वाले कपड़ों का चुनाव करना सुनिश्चित करें। विशेष रूप से बट क्षेत्र में, उचित हवा के आने जाने की जगह हो और जलन को कम करने के लिए। टाइट-फिटिंग या सिंथेटिक कपड़ों से बचें जो नमी और गर्मी पैदा करके, खुजली को बढ़ा देते हैं।

4 अंडरवियर 4को धूप में सुखाएं या इस्त्री करें

डॉ पूजा दिवान कहती हैं, खासतौर से महिलाएं अपने अंडरगारमेंट्स को छुपाकर कोनों में सुखाती हैं। जिससे वे कीटाणु मुक्त नहीं हो पाते। लगातार यही स्थिति रहने से न केवल अंडरवियर का फेब्रिक हार्ड हो जाता है, बल्कि वहां बैक्टीरिया भी मौजूद रहते हैं। पैंटी को कीटाणुमुक्त करने के लिए जरूरी है कि उसे धूप में सुखाएं। अगर हल्की सी भी नमी है तो पहनने से पहले उन्हें ठीक से इस्त्री करें।

ये भी पढ़े- Tomato for skin : आपकी स्किन का नेचुरल प्रोटेक्टर है टमाटर, जानिए कैसे करना है इसका इस्तेमाल

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख