आपकी सेहत से लेकर सौंदर्य तक के लिए फायदेमंद हैं उबले चावल का मांड, जानिए कैसे करना है इस्तेमाल

चावल को पकाने के बाद जो पानी बचता है उसे मांड कहा जाता है। भारत में कुछ जगहों पर लोग इसका सेवन भी करते हैं। अब आहार और सौंदर्य विशेषज्ञ भी इसे सेहत के लिए फायदेमंद बता रहे हैं।
RICE WATER BENEFITS
चावल का मांड काफी विटामिन मिनिरल्स से भरपूर होता है । चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 12 Jul 2023, 17:22 pm IST
  • 147

बिहार और यूपी में मांड चावल काफी प्रचलित है लोग इसे अपने रोज के खाने में खआना पसंद करते है। कई बार दाल की जगह केवल मांड चावल भी खाया जाता है। छोटे बच्चों को मांड पिलाना काफी फायदेमंद माना जाता है। मांड क्या होता है? मांड चावल में तब होता है जब उसे प्रेशर कुकर की जगह किसी पतीले या कड़ाई में पकाया जाता है। मांड चावल के पकने के बाद जो पानी बचता है उसे कहा जाता है कुछ लोग इसे मांड को फेंक देते है। कुछ लोगो इसे चावल के साथ दाल की तरह खाते है। चावल का मांड काफी पोषक तत्वों को अपने अंदर समा लेता है इसलिए इसे फेंकने की बजाय खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

चावल का मांड काफी विटामिन मिनिरल्स से भरपूर होता है इसे फेकनें का मतलब है कि आप बहुत सारे पोषक तत्वों को फेंक रहें है। इसके सेवन से आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिल सकते है। तो चलिए जानते है विस्तार से चावल के मांड के लाभों के बारे में।

चावल के मांड के स्वास्थ लाभ जानने के लिए हमने बात की डियटिशियन और वेट लॉस एक्सपर्ट शिखा कुमारी से।

यहां जानिए सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है उबले चावल का मांड

1 शरीर को एनर्जी देने का काम करता है

शिखा कुमारी बताती हैं कि चावल को एक पतीले में अधिक पानी के साथ पका लें। चावल के पकने के बाद अतिरिक्त पानी को छन्नी की मदद से छान लें। इस पानी को आप किसी गिलास में या बोतल में स्टोर कर लें। इसे आप चावल के साथ या बाद में भी गर्म करके पी सकते है।

चावल के मांड में अमीनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट और खनिज शरीर में इलेक्ट्रोलाइट स्तर को संतुलित रखते हैं। यह पानी गर्मी और उमस भरे महीनों के दौरान एक वरदान है, अगर आपको डिहाइड्रेशन की शिकायत है तो इसके सेवन से आपके शरीर को काफी ऊर्जा मिलेगी।

RICE WATER APKE LIYE FAYEDEMAND HAI
चावल के पानी को अलग-अलग नाम से जाना जाता है जैसे कांजी, मुंजी या मांड। चित्र- अडोबी स्टॉक

2 पाचन क्रिया को अच्छा करता है

चावल के पानी को अलग-अलग नाम से जाना जाता है जैसे कांजी, मुंजी या मांड। अगर आपको किसी भी तरह की पेट की समस्या है तो मांड उसे ठीक करने में मदद कर सकता है। इससे दस्त, फूड पॉयजिनिंग, जैसी समस्याओं से भी राहत मिलती है। छोटे बच्चों को अक्सर दस्त की समस्या में चावल का मांंड देना चाहिए। ये दस्त को जल्दी ठीक कर सकता है। चावल के मांड में खनिज और प्रोबायोटिक्स होता है, जो गट हेल्थ के लिए जरूरी है।

3 छोटे बच्चों के लिए बेहतरीन आहार

जब बच्चा दूध पीना छोड़ता है तो इसे सबसे पहले ठोस अनाज के रूप में चावल ही दिया जाता है। क्योंकि ये पचने में आसान होता है और सोफ्ट होता है जिसे छोटे बच्चे आराम से खा लेते है। एक कटोरी में थोड़ा मांड के साथ चावल को मैश करके 6 महीने से ऊपर के बच्चों को देने से पाचन और कब्ज जैसी समस्याओं से दूर रखा जा सकता है।

 

UBALE HUE CHAWAL KA PANI
मांड के साथ बच्चों को खिलाएं चावल। चित्र- अडोबी स्टॉक

4 स्किन के लिए फायदेमंद है मांंड

डायटीशियन शिखा कुमारी के अनुसार राइस से बने कई फेस वॉश आपने बाजार में देखें होगें। वास्तव में चावल स्किन हेल्थ के लिए भी काफी अच्छे माने जाते हैं। चावल के मांड में विटामिन k,A और C होता है, जो आपकी स्किन को पोषण देता है और स्किन को स्मूद बनाने में मदद करता है। चावल का मांड मुहांसे और एक्ने को भी ठीक करता है। आप इसे फेस टोनर के रूप में एक बोतल में डालकर स्प्रे या रूई में डूबोकर चेहरे पर लगा सकते हैं।

ये भी पढ़े- आपके बार-बार बीमार पड़ने यानी कमजोर इम्युनिटी के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं ये 5 कारण

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 147
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख