ईर्ष्या प्रोडक्टिविटी और मेंटल हेल्थ को भी कर सकती है बर्बाद, यहां हैं इससे निपटने के लिए जरूरी टिप्स

जलन आवश्यक रूप से एक अस्वास्थ्यकर भावना नहीं है, लेकिन अगर आपकी जलन की भावना आपके रिश्ते या आपको नुकसान पहुंचा रही है तो वह गलत है। अगर इसे समय रहते कंट्रोल नहीं किया गया, तो यह आपको भी नुकसान पहुंचा सकती है।
JEALOUSY KI BHAVNA KAISE KHTAM KREIN
आपको अपनी ईर्ष्या का डटकर मुकाबला करने की जरूरत है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 15 Nov 2023, 07:19 pm IST
  • 134

जलन या ईर्ष्या एक ऐसी कठोर भावना है, जो न केवल आपके आपसी संबंधों को नुकसान पहुंचाती है, बल्कि आपकी मेंटल हेल्थ और प्रोडक्टिविटी दोनों को बर्बाद कर सकती है। जब आप दूसरों से लगातार ईर्ष्या करते हैं, तब आप अपनी खूबियों और रचनात्मकता को भी नजरंदाज करते चले जाते हैं। फिर एक ऐसा वक्त आता है, जब आप उन लोगों से वास्तव में पिछड़ने लगते हैं, जिनसे आप ईर्ष्या कर रहे थे। इसलिए जरूरी है कि शुरुआत में ही इससे सकारात्मक तरीके से डील कर लिया जाए। प्रतिद्वंद्विता और स्पर्धा में रहते हुए भी कैसे ईर्ष्या को कंट्रोल करना है, रिलेशनशिप एक्सपर्ट और काउंसलर रूचि रूह बता रही हैं।

हालांकि थोड़ी-बहुत जलन या ईर्ष्या होना ह्यूमन नेचर है। पर जब यह आउट ऑफ कंट्रोल हो जाती है, तब यह भावना आक्रोश, क्रोध, दुश्मनी और कड़वाहट को भी साथ ले आती है। ये भावनाएं रिश्ते को खराब कर सकती है और रिश्तों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। कई बार ये जलन इतनी बढ़ जाती है कि हिंसा का रूप ले लेती है। यह अविश्वास, दुर्व्यवहार और शारीरिक हिंसा का कारण भी बन सकती है।

JEALOUSY RISHTE KO KHRAB KR SAKTI HAI
ईर्ष्या की भावनाओं को खत्म करने का पहला कदम आपके अंदर ट्रिगर को पहचानना है। चित्र- अडोबी स्टॉक

अलग-अलग हो सकते हैं ईर्ष्या के कारण

रूचि रूह रिलेशनशिप एक्सपर्ट और काउंसलर हैं। वे बताती हैं कि ईर्ष्या का मूल कारण व्यक्तिगत तौर पर अलग हो सकता है, कुछ सामान्य विशेषताएं और परिस्थितियां हैं जो ईर्ष्या का कारण हो सकती है। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति असुरक्षित है, अपर्याप्त महसूस करता है, छोड़ने या अकेलेपन का डर रखता है, या दूसरों से अपनी तुलना करता हो। तो वह व्यक्ति ईर्ष्या से ग्रस्त हो सकता है।

ईर्ष्या की भावना को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो ये टिप्स होंगे आपके लिए मददगार

1 अपनी ईर्ष्या के स्रोत को पहचानें और समझें

यह दिखावा न करें की आपकी कोई भावना ही नहीं है। आपको अपनी ईर्ष्या का डटकर मुकाबला करने की जरूरत है। अपनी ईर्ष्या को सबसे पहले स्वीकार करें और यह पता लगाने का प्रयास करें कि यह कहां से आ रही है। क्या यह आपके आत्मविश्वास की कमी के कारण है? क्या इस व्यक्ति के पास कुछ ऐसा है जिसे आप बेहद चाहते हैं और जिसके लिए आप काम कर रहे हैं? या क्या ईर्ष्या धमकी से जुड़ी है। एक बार जब आप अपनी ईर्ष्या की जड़ तक पहुंच जाते हैं, तो आप इसे दूर करने पर काम कर सकते हैं। इससे आप अपने पार्टनर पर भरोसा करना सीख सकते है।

2 अपने ट्रिगर की पहचान करें

ईर्ष्या की भावनाओं को खत्म करने का पहला कदम आपके अंदर ट्रिगर को पहचानना है। इन ट्रिगर को चिंता, आपके व्यक्तित्व, आपके पास्ट या यहां तक कि कई चीजों के मिलने के कारण हो सकता है। यदि आप अपने की ईर्ष्यालु भावनाओं को महसूस कर रहे है, तो यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि ये भावनाएं कब और क्यों आती हैं।

उदाहरण के लिए, जब आपका साथी अपने दोस्तों के साथ देर से बाहर जाता है और वापस मेसेज करना भूल जाता है। जब आप नोटिस करते हैं कि आपका एक करीबी दोस्त नए दोस्त बना रहा है। तब आपको एंगजाइटी हो सकती है।

ये समझना जरूरी है की कितनी जलन ठीक है और वास्तविक है और कितनी खराब है जो रिश्ते को नुकसान पहुँचा सकती है।

3 अपने पार्टनर या किसी परिजन से इसके बारे में बात करें

कई बार हम अपने पर्टनर की कुछ ऐसी हरकत होती है जिसे ईर्ष्या करते है। लेकिन वो उसे पता नही होती है। इसलिए ये जरूरी है की आप अपने साथी को उन चीजों के बारे में खुल कर बताए।

यदि यह आपके साथी के बारे में है, तो इसके बारे में बात करें। यदि आपकी ईर्ष्या आपके रिश्ते के आसपास केंद्रित है, तो आप जो कुछ भी करते हैं, उसे छिपाये नहीं। चीज़े बताने से उन पर काम करना आसान हो जाता है।

sehmati ke liye dwab kanoon ke dayre me
ये जरूरी है की आप अपने साथी को उन चीजों के बारे में खुल कर बताए।
चित्र:अडोबी स्टॉक

4 अपने साथी पर भरोसा करें

आपको अपने साथी पर भरोसा करना चाहिए, क्योंकि इसके अलावा कोई और विकल्प नहीं है यदि आप एक खुश और सफल रिश्ता चाहते हैं। कोई भी आपके साथी को नियंत्रित नहीं कर सकता है और आपको ईर्ष्या को जाने देना होगा। कुछ नियंत्रण होना कोई बुरी बात नहीं है, फिर भी उन चीजों के लिए किसी को नियंत्रित करने की कोशिश करना, जिन पर आपका कोई नियंत्रण नहीं है, खराब हो सकती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख