आपकी उम्र लंबी कर सकती है मेडिटेरिनियन डाइट, कैंसर और हार्ट अटैक का खतरा भी होता है कम

एक ऐसा आहार जिसमें फल, सब्जियां, नट्स-सीड्स और थोड़ी मात्रा में मछली भी हो, उम्र बढ़ा सकता है। हालिया शोध बताते हैं ऐसा आहार उम्र बढ़ाने के साथ कई रोगों से बचाव भी करता है। कौन सा है यह आहार?
balance diet apki skin ke liye acchi hai
संतुलित आहार आपके स्किन के लिए अच्छा है। चित्र : शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 20 Oct 2023, 10:04 am IST
  • 127

स्वस्थ भोजन से शरीर स्वस्थ रहता है। स्वस्थ शरीर से मन भी खुश रहता है। हमारा शरीर हर प्रकार की बीमारियों से भी दूर रहता है। बीमारियां नहीं होंगी, तो जाहिर है लंबे समय तक व्यक्ति जी पायेगा। हालिया शोध भी बताते हैं कि हेल्दी फ़ूड हमें लंबे समय तक जीने में मदद कर (diet for longevity) सकते हैं।

क्या है शोध (Research on diet for Longevity) 

नेचर से मिली सब्जियां,दालें, साबुत अनाज स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं।लेकिन कुछ ख़ास तरह की डाइट सीधे तौर पर हमारी उम्र को बढ़ाने में मदद करते हैं। हार्वर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 100,000 से अधिक पुरुषों और महिलाओं का सर्वेक्षण डेटा लिया। इन लोगों ने 36 वर्षों तक लगातार किसी ख़ास डाइट का पालन किया। प्रतिभागियों को हर दो से चार साल में एक आहार संबंधी प्रश्नावली भरने के लिए कहा गया था। अलग-अलग प्रतिभागियों को 4 तरह की डाइट- मेडिटेरिनियन डाइट, वेजिटेरियन डाइट, प्लांट बेस्ड और सामान्य डाइट, जिसमें प्रोसेस्ड फ़ूड, रेड मीट और एक्स्ट्रा फैट भी शामिल थे, दी गई।

किस तरह की डाइट से मृत्यु का जोखिम हो जाता है कम

शोध के बाद हार्वर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने यह निष्कर्ष दिया कि लंबी उम्र के लिए संतुलित आहार जरूरी है। इसमें एनिमल प्रोडक्ट को पूरी तरह निकाल देना होता है। शोध के अनुसार, जो लोग पौधे-आधारित खाद्य पदार्थ लेते हैं। एडिटिव शुगर, एक्स्ट्रा फैट और वाइन को पूरी तरह एवोयड करते हैं। उनमें किसी भी कारण से मरने का जोखिम 19 प्रतिशत तक कम पाया (diet for longevity) गया। प्लांट बेस्ड आहार से बालों का झड़ना और स्ट्रोक से पीड़ित होने का जोखिम बढ़ सकता है।

जिन लोगों ने मेडिटेरिनियन डाइट का पालन किया, जिसमें एनिमल मीट की बजाय सब्जियां, फल, नट, साबुत अनाज, फलियां और मछली शामिल हैं। उनमें मृत्यु दर के जोखिम में 14 प्रतिशत की कमी पाई गई।

क्या है मेडिटेरिनियन डाइट (Mediterranean Diet)

मेडिटेरिनियन डाइट ग्रीस, इटली और भूमध्य सागर की सीमा से लगे देशों के पारंपरिक व्यंजनों पर आधारित होता है। मेडिटेरिनियन फ़ूड में सब्जियों को मुख्य रूप से शामिल किया जाता है। आहार में मेवे, मछली, ओलिव आयल, कभी-कभी रेड मीट और थोड़ी मात्रा में पनीर और वाइन भी शामिल हैं।

hari sabziyon ke fayde
मेडिटेरिनियन फ़ूड में सब्जियों को मुख्य रूप से शामिल किया जाता है। चित्र : शटरकॉक

वहीं प्लांट बेस्ड फ़ूड साबुत अनाज, सब्जियां, फलियां, फल, नट्स, सीड्स, हर्ब्स और मसाले पर आधारित होते हैं। वेजीटेरियन डाइट या शाकाहार में आम तौर पर सिर्फ मांस और मछली को बाहर किया जाता है। डेयरी उत्पादों का सेवन आम है।

स्वस्थ आहार से कैंसर (Cancer), स्ट्रोक (Heart Stroke) का खतरा होता है कम

शोधकर्ताओं द्वारा वर्गीकृत प्रत्येक आहार का सकारात्मक प्रभाव पाया गया, जिससे प्रारंभिक मृत्यु की संभावना 14 से 20 प्रतिशत के बीच कम पाई गई। जिन व्यक्तियों के आहार में प्रतिदिन सब्जियों की पांच सर्विंग्स, फलों की चार सर्विंग्स, पांच से छह साबुत अनाज, नट्स या टोफू युक्त प्रोटीन की कम से कम एक सर्विंग और नियमित रूप से मछली होती है, उनमें अधिक उम्र तक जीने की संभावना होती है।

हार्ट हेल्थ के लिए सबसे बढ़िया मेडिटेरिनियन डाइट (Mediterranean Diet)

मेडिटेरिनियन डाइट सूजन से जुड़ी स्थितियों, जैसे हृदय रोग (Heart Problem) और टाइप 2 मधुमेह (Diabetes) से बचाने के लिए भी पाया गया है। मेडिटेरिनियन डाइट में मछली और चिकन भी होती है, जो हृदय रोग और मनोभ्रंश को दूर करने में मदद करती है। इनमें मृत्यु जोखिम 19 प्रतिशत तक कम करने की क्षमता थी।

मेडिटेरिनियन डाइट में मछली भी होती है, जो हृदय रोग और मनोभ्रंश को दूर करने में मदद करती है। चित्र : शटरस्टॉक

ऐसे शाकाहार, जिसमें डेयरी प्रोडक्ट शामिल थे, स्वस्थ आहार के रूप में प्रभावी नहीं हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि प्लांट बेस्ड डाइट से मृत्यु दर जोखिम 14 प्रतिशत कम हो सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

प्रजनन क्षमता (Reproduction Capacity) में सुधार 

सूजन को कम करने में मदद करने के कारण मेडिटेरिनियन आहार प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है। शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करके प्रजनन संबंधी समस्याओं को हल करने में मदद कर सकता है। मोनाश विश्वविद्यालय, सनशाइन कोस्ट विश्वविद्यालय और दक्षिण ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने पाया कि सूजन शुक्राणु की गुणवत्ता, मासिक धर्म (Period) और फर्टिलिटी (Fertility) को भी प्रभावित कर सकती है। फलों, सब्जियों और बीन्स पर ध्यान केंद्रित करने पर यह बांझपन को दूर करने में मदद कर सकता है। जिससे यह गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे पेयर के लिए लाभदायी हो सकता है।

यह भी पढ़ें :-मेरी बचपन की सर्दियों में आती थी बाजरे की खिचड़ी की महक, जानिए क्यों सेहत के लिए है यह सुपरफूड

  • 127
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख