Urdhva Mukha Pasasana : लैपटॉप पर देर तक काम करना बन सकता है पीठ में अकड़न का कारण, शिल्पा शेट्टी बता रहीं हैं इसके लिए उर्ध्व मुख पासासन

सुबह नियमित रूप से उर्ध्व मुख पासासन करने से दिन भर एनेर्जेटिक रहा जा सकता है और पीठ की अकड़न को भी दूर किया जा सकता है। यहां शिल्पा शेट्टी बता रही हैं उर्ध्व मुख पासासन करने का सही तरीका।
yog se peeth ki akdan door hoti hai
उर्ध्व मुख पासासन करने से हम न सिर्फ एनर्जेटिक महसूस करते हैं, बल्कि कई तरह के दर्द से भी छुटकारा पा लेते हैं। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 20 Apr 2023, 17:14 pm IST
  • 125

यह जरूरी नहीं है कि हम हमेशा एनर्जेटिक फील करें। किसी दिन एनर्जी लेवल हाई रहता है, तो किसी दिन कम। एनर्जी लेवल को बैलेंस करने के लिए भी कई तरह के योगासन हैं। इन्हें करने से हम न सिर्फ एनर्जेटिक महसूस करते हैं, बल्कि कई तरह के दर्द से भी छुटकारा पा लेते हैं। फिटनेस फ्रीक और एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी एक ऐसे योग आसन उर्ध्व मुख पासासन (Thread the needle pose) के बारे में बताती हैं, जिन्हें करने के बाद आप ऑफिस जाने पर फ्रेश फील करेंगी। घंटों लैपटॉप पर काम करने के बावजूद पीठ में अकड़न नहीं होगी। इसे सिर्फ सही तरीके से करने से आपको कई फायदे और (Urdhva Mukha Pasasana benefits) मिल सकते हैं।

जानिए उर्ध्व मुख पासासन (Urdhva Mukha Pasasana benefits) के बारे में

शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) अपने इन्स्टाग्राम पोस्ट में कहती हैं, “हम किसी दिन ऊर्जा से भरे होते हैं, तो किसी दिन आलस महसूस कर सकते हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपको किसी दिन इधर-उधर दौड़ते हुए समय बिताना होगा, तो किसी दिन लगातार डेस्क पर बैठे रहना पड़ सकता है।
हमेशा याद रखें कि सुबह अपने पूरे शरीर को स्ट्रेच करना है। इसके लिए मैं ऊर्ध्व मुख पासासन (urdhva mukha pasasana) को पसंद करती हूं। यह आसन ऊपरी और मिडिल बैक क्षेत्र में तनाव को दूर करने में मदद करता है। यह ऊपरी पीठ, सर्वाइकल, कंधों और रोटेटर काफ मसल्स के दर्द और अकड़न को भी दूर करता है।

इसके अलावा, पैरों को साइड में खींचने से हिप जॉइंट, पेल्विक और एडिक्टर्स मसल्स के लचीलेपन में भी सुधार होता है। इस आसन को करने से दिन भर तनाव मुक्त भी रहा जा सकता है।’

आगे की ओर झुकना करता है आपकी पीठ को रिलैक्स (Relax) 

उर्ध्व मुख पासासन (थ्रेड द नीडल पोज़) एक शुरुआती स्तर का अभ्यास है, जो उत्ताना शिशु आसन (Puppy Dog Pose) का एक कॉम्बिनेशन है। इसे वैरियेशन के साथ किया जाता है। इसमें आगे की ओर झुकना, स्ट्रेच और रीढ़ की मोड़ते हुए किया जाता है।

दूर करता है पीठ की अकड़न (Stiffness)

थ्रेड द नीडल पोज (उर्ध्व मुख पासासन) के अभ्यास को पार्श्व बालासन (parsva balasana) के रूप में भी जाना जाता है। यदि हम लैपटॉप पर घंटों काम करते हैं, तो हमारी पीठ जकड़ जाती है। हमारी खराब आदतें, गतिविधियां गर्दन और कंधों के आसपास भारीपन और जकड़न पैदा कर देती हैं। इससे पीठ दर्द और तनाव हो सकता है। यह कंधों, गर्दन और पूरी पीठ के चारों ओर अकड़न, जकड़न और तनाव को दूर करने में मदद करता है।

वार्म-अप योग मुद्रा (Warm Up Pose)

यदि अप इसे और अधिक चुनौतीपूर्ण बनाना चाहती हैं, तो रिवाइज्ड फ़ॉरवर्ड बेंड हाफ़ लोटस पोज़ और हैंड्स बिहाइंड हेड या परिव्रत जानू शीर्षासन (parivrtta janu sirsasana) को वैरियेशन के साथ किया जा सकता है।

थ्रेड द नीडल पोज़ का अभ्यास गर्दन और कंधों के वार्म-अप के हिस्से के रूप में किया जा सकता है। चित्र : एडोबी स्टॉक

उर्ध्व मुख पासासन को एक आधार मुद्रा माना जाता है, क्योंकि इस मुद्रा से भिन्नता प्राप्त की जा सकती है। थ्रेड द नीडल पोज़ का अभ्यास गर्दन और कंधों के वार्म-अप के हिस्से के रूप में किया जा सकता है। यह अधिक तीव्र योग मुद्रा के लिए शरीर को तैयार करने के लिए यह एक वार्म-अप योग मुद्रा माना जाता है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

जानिए क्या है उर्ध्व मुख पासासन करने का सही तरीका (Urdhva Mukha Pasasana Steps) 

1 शरीर को ऊपर उठायें

योग मैट पर मुंह के बल लेटकर यह आसन शुरू किया जा सकता है। चारों तरफ से शरीर को ऊपर की ओर उठायें। शरीर को टेबलटॉप की स्थिति में ले जाएं। सुनिश्चित करें कि आपके हिप्स सीधे घुटनों पर हों।

2 स्ट्रेच करें शरीर (Urdhva Mukha Pasasana benefits)

कंधे, कलाई और कोहनी लंबवत सीधी रेखा में होनी चाहिए। बाएं हाथ को ऊपर की ओर देखते हुए ऊपर उठाएं। बाएं हाथ को दाहिने हाथ के नीचे थ्रेड करने के लिए नीचे लाएं। हिप्स को ऊंचा करते हुए पूरा स्ट्रेच करें। चेस्ट को फर्श के करीब आने दें

exercise hai zaroori
स्ट्रेच करने से शरीर को आराम मिलता है । चित्र : शटरस्टॉक

3 हाथ को पैर से छूने की कोशिश

धीरे से अपने नितंबों को ऊपर और पीछे की ओर धकेलें। दबाव बनाएं। दाहिनी हथेली को आगे करते हुए आगे की ओर बढे पैर को छुएं। जब तक आप इस स्थिति में रह सकती हैं रहें

4 दोहराने की प्रक्रिया

अब दूसरी तरफ से भी यह कर सकती हैं। बाएं हाथ को टेबलटॉप स्थिति में वापस फर्श पर लायें। दूसरी तरफ दोहराएं।

यह भी पढ़ें :-Restorative Yoga : लगातार थकान या अशांत महसूस कर रहीं हैं, तो आपकी मदद कर सकता है रेस्टोरेटिव योग, जानिए क्या है यह

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख