उम्र और बिजी लाइफस्टाइल ला सकते हैं सेक्स ड्राइव में कमी, इन हर्ब्स का सेवन होगा फायदेमंद

एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर हबर्स सेक्स ड्राइव को बढ़ा देती हैं। जानते हैं कि वो कौन सी जड़ी बूटियां है, जिनकी मदद से हार्मोंल इंबैलेस को ठीक किया जा सकता है।
Yeh herbs rakheingi baalon ki sehat ka khayaal
बालों को हेल्दी रखने के लिए इन हर्ब्स का करें प्रयोग। चित्र अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 26 Jul 2023, 21:00 pm IST
  • 144

आयुर्वेद में यौन समस्याओं से निपटने के लिए कई जड़ी बूटियों का जिक्र है। बाॅडी के स्टेमिना से लेकर लिबिडो तक हर चीज़ को बढ़ाने के लिए हर्बस का इस्तेमाल किया जाता है। एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी.इंफ्लेमेटरीगुणों से भरपूर हबर्स सेक्स ड्राइव को बढ़ा देती हैं। जानते हैं कि वो कौन सी जड़ी बूटियां है, जिनकी मदद से हार्मोंल इंबैलेस को ठीक करके सेक्सुअल हेल्थ को प्रोमोट (Herbs promote sexual well being) किया जा सकता है।

आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. विकास चावला पीसीओएस, मेनोपाॅज और तनाव शरीर में हार्मोंनल इंबैलेंस का कारण बनने लगता है। इसका असर पूरे शरीर पर दिखने लगता है। इससे यौन इंच्छा भी कम होने लगती है। इन समस्याओं से बचने के लिए इन 5 जड़ी बूटियों का प्रयोग करके यौन संबधी समस्याओं से बचा जा सकता है।

यौन संबधी समस्याओं से निपटने के लिए इन जड़ी बूटियों का करें इस्तेमाल

1. अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ाए

अश्वगंधा का सेवन करने से महिलाओं में सेक्स ड्राइव बढ़ जाती है। उससे आर्गेज्म को बढ़ने में मदद मिलती है। नियमित तौर पर इसे खाने से तनाव कम होता है और हार्मोनल संतुलन बना रहता है। ये लिबिडो को बढ़ाता है और मूड स्विंग की समस्या को दूर करता है। अश्वगंधा के ज़रिए वे महिलाएं जो एण्ड्रोजन डेफिसियंसी सिंड्रोम से बीमार है। उनके अंदर टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ने लगता है।

कैसे करें प्रयोग

एक चुटकी अश्वगंधा को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से राहत मिलती है। इसके अलावा आप इसे चाय में उबालकर भी पी सकते हैं। रूटीन में इसका सेवन करने से आपको लाभ नज़र आने लगेगा।

अश्वगंधा महिलाओं में सेक्स ड्राइव को बढ़ा सकता है। यह एक कामोत्तेजक के रूप में काम करता है। चित्र: शटरस्टॉक

2. शतावरी एक रिप्रोडक्टिव आहार

स्ट्रेस के कारण महिलाएं सेक्स संबधी समस्याओं का शिकार होने लगती है। सेक्सुअल लाइफ को रोमांचक बनाने को अपनी डाइट में शामिल करें। शतावरी एक ऐसा रिप्रोडक्टिव आहार है।, जो एस्ट्रोजन हॉर्मोन की मात्रा को बढ़ाकर ओव्‍यूलेशन में मदद कर सकती है। इसके सेवन से आपकी पीरियड साइकिल भी नियमित होने लगती है। इसके अलावा शरीर में विषैले पदार्थ शतावरी के सेवन से डिटाॅक्स हो जाते हैं।

कैसे करें प्रयोग

सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में शतावरी के पाउडर को घोलकर पी सकते हैं। इसके अलावा रात को सोते वक्त दूध में मिलाकर भी आप इसका सेवन कर सकते हैं। इसे खाने से शरीर एक्टिव रहता है और सेक्सुअल लाइफ भी बेहतर हो जाती है।

3. त्रिफला बनाए हार्मोनल बैलेंस

त्रिफला तीन फलों से मिलकर बनता है। पहला है आंवला दूसरा है बिभितकी और तीसरा है हरीतकी। ये तीनों ही डिटॉक्सिफाइंग एजेेंट होते हैं। ये हमारे पाचन को सुचारू करके शरीर में हार्मोनल बैलेंस बनाए रखता है। मेटाबाॅलिज्म को बढ़ाने के अलावा वेटलाॅस में भी सहायक है। इसे रेगुलर खाने से सेक्सुअल समस्याएं दूर होने लगती हैं।इसे लगातार खाने से एक्ने और पिगमेंटेशन जैसी स्किन समस्याएं भी दमर हो जाती हैं।

कैसे करें प्रयोग

सदियों से प्रयोग किया जाने वाला त्रिफला चूर्ण कई समस्याओं का एक कारगर उपाय है। दिनभर में किसी भी वक्त आप हल्के गर्म पानी के साथ इसे आधा चम्मच ले सकते हैं।

trphala churn ko ghr par taiyaar kren
त्रिफला भोजन के उचित पाचन और अवशोषण को बढ़ावा दे सकता है। सीरम कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है। चित्र : एडोब स्टॉक

4. गोक्षुरा

औषधीय गुणों से भरपूर गोक्षुरा एक फायदेमंद हर्ब है। इसे ट्रिब्युलस टेरेस्ट्रिस भी कहा जाता है। आयुर्वेदा ट्रीटमेंट ऑफ सेंटर के मुताबिक इसके निरंतर सेवन से लिबिडोबढ़त है साथ ही शरीर में स्टेमिना का स्तर भी बढ़ जाता है। हड्डियों को मज़बूत बनाने के अलावा गोक्षुरा ब्लड सर्कुलेशन को भी नियमित करता है। किडनी हेल्थ के लिए फायदेमंद होने के अलावा ये इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत बनाती है।

5. हल्दी

अगर आप सेक्स ड्राइव की कमी महसूस कर रही हैं, तो हल्दी का सेवन ज़रूर करें। इसमें पाया जाने वाला कर्क्यूमिन कंपाउंड शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाता है। एंटी इन्फ्लामेटरी गुणों से भरपूर हल्दी हमें तनाव से दूर रखती है। दरअसल, तनाव से सेक्स हार्मोन डिस्टर्ब होने लगते हैं। इरेक्शन संबधी परेशानियों के लिए ये जड़ी बूटी बेहद कारगर है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें

कैसे करें प्रयोग

गर्म दूध में मिलाकर पीने से ये शरीर के लिए लाभदायक होता है। इसके अलावा अगर आप इसे पानी में उबालकर पीती है, तो शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ डिटाॅक्स हो जाते हैं। इसे आप अदरक में मिलाकर भी ले सकती है।

ये भी पढ़ें- बरसात में बढ़ जाता है त्वचा एवं पैरों के संक्रमण का खतरा, एक्सपर्ट से जानें किस तरह करना है बचाव

  • 144
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख