पोषक तत्वों की कमी से गंभीर हो सकती है थायराॅइड की समस्या, इन 5 पोषक तत्वों का जरूर रखें ध्यान

थायराइड की समस्या, जैसे हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म, थायराइड हार्मोन के स्तर में असंतुलन के कारण होती है। इसके लक्षण में आपको ऊर्जा स्तर, वजन और समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकते हैं।
thyroid ke liye inn herbs ka sevan karein
आयोडीन थायराइड फंक्शन के लिए आवश्यक है क्योंकि यह थायराइड हार्मोन का एक प्रमुख हिस्सा है। चित्र शटरस्टॉक
संध्या सिंह Published: 2 Apr 2024, 09:00 pm IST
  • 134

थायराइड की समस्या आज हर दूसरे व्यक्ति को परेशान कर रही है। इस समस्या के कारण कई लोगों में तेजी से वजन बढ़ता देखा जाता है। कई लड़कियों में पीसीओएस की समस्या भी थायराइड के कारण ही होती है। आजकल के खराब लाइफस्टाइल और खाने की गलत आदतों के कारण ये ये समस्या और तेजी से अपने पैर पसार रही है। लेकिन अगर आपको अपने थायराइड को कंट्रोल करना है तो हम आपको ऐसे 5 पोषक तत्वों के बारे में बताने जा रहें है जो थायराइड के मरीजों के लिए जरूरी है।

पहले समझते हैं कब समस्या बनने लगता है थायराइड हॉर्मोन

थायराइड की समस्या, जैसे हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म, थायराइड हार्मोन के स्तर में असंतुलन के कारण होती है। इसके लक्षण में आपको ऊर्जा स्तर, वजन और समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकते हैं। थायरॉयड ग्रंथि मेटाबालिज्म, ऊर्जा स्तर और मूड के साथ कई शारीरिक कार्यों को रेगूलेट करती है। जब थायरॉइड ठीक से काम नहीं करता है, तो यह कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है।

मेडिकवर अस्पताल के पोषण और आहार विज्ञान विभाग में कार्यरत डॉ. राजेश्वरी पांडा बताती है कि थायरॉइड फ़ंक्शन सपोर्ट करने के लिए डाइट बहुत जरूरी है। कुछ पोषक तत्व थायराइड स्वास्थ्य के लिए विशेष रूप से आवश्यक हैं, जो हार्मोन संतुलन बनाए रखने और आपके पूरे स्वास्थय के लिए बहुत जरूरी है।

thyroid mei iodine ka karein sewan
आयोडीन का सप्लीमेंट लेते है, तो ऑटोइम्यून थायराइड की स्थिति वास्तव में खराब हो सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

ये 5 पोषक तत्व थायराइड मरीजों के लिए जरूरी हैं

1 आयोडिन (Iodine)

आयोडीन थायराइड फंक्शन के लिए आवश्यक है क्योंकि यह थायराइड हार्मोन का एक प्रमुख हिस्सा है, जो मेटाबालिज़्म को नियंत्रित करता है और ग्रोथ और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। थायराइड स्वास्थ्य को बनाए रखने और आयोडीन की कमी से होने वाले डिस्ऑर्डर को रोकने के लिए डाइट में आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना महत्वपूर्ण है।

आयोडीन और पर्याप्त प्रोटीन के सेवन के बिना आपके थायरॉयड में टी4 और टी3 का उत्पादन करने के लिए शरीर में आवश्यक बिल्डिंग ब्लॉक नहीं होते हैं। यदि आप उचित सेलेनियम के बिना आयोडीन का सप्लीमेंट लेते है, तो ऑटोइम्यून थायराइड की स्थिति वास्तव में खराब हो सकती है।

2 सेलेनियम (Selenium)

सेलेनियम थायराइड हार्मोन (T4) के निष्क्रिय रूप को उसके सक्रिय और उपयोगी रूप (T3) में परिवर्तित करके हार्मोन संश्लेषण को रेगुलेट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अतिरिक्त, सेलेनियम थायराइड हार्मोन के उत्पादन में भी मदद करता है और शरीर में उनके स्तर को बनाए रखता है।

सेलेनियम थायरॉयड ग्लैंड को अत्यधिक आयोडीन को खतरे से बचाने में मदद करता है, सेलेनियम थायरॉयड ग्लैंड पर तनाव के प्रभाव को कम करने में भी मदद करता है। डाइट में सेलेनियम युक्त खाद्य पदार्थ, जैसे ब्राज़ील नट्स, सी फूड और कुछ मांस शामिल करने से थायराइड फ़ंक्शन को ठिक से काम करने में मदद मिलती है।

3 आयरन (Iron)

आयरन की कमी हीम-डिपेंड थायराइड पेरोक्सीडेज की गतिविधि को खराब कर सकती है, जो थायराइड हार्मोन को बनाने के लिए आवश्यक है। परिणामस्वरूप, अपर्याप्त आयरन के स्तर से थायराइड हार्मोन का खराब उत्पादन हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप हाइपोथायरायडिज्म हो सकता है। यह गर्भावस्था के दौरान विशेष रूप से चिंताजनक है, क्योंकि आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया तेजी से हाइपोथायरायडिज्म के खतरे को बढ़ा सकता है।

vitamin D bone health ke liye zaruri hai
विटामिन डी प्रतिरक्षा कार्य को व्यवस्थित करने में मदद करती है। चित्र : अडोबीस्टॉक

4 विटामिन डी (Vitamin D)

विटामिन डी इम्यून कार्य के लिए बहुत जरूरी है और ऑटोइम्यून थायरॉयड डिस्ऑर्डर के खिलाफ सुरक्षात्मक प्रभाव डाल सकता है। ऑटोइम्यून थायरॉयड डिस्ऑर्डर, जैसे कि हाशिमोटो थायरॉयडिटिस और ग्रेव्स डिजीज, में प्रतिरक्षा प्रणाली थायरॉयड ग्लैंड पर हमला करती है। विटामिन डी प्रतिरक्षा कार्य को व्यवस्थित करने में मदद करती है और इन स्थितियों के बढ़ने के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

5 जिंक (Zinc)

जिंक थायराइड हार्मोन उत्पादन और नियमन आपकी मदद करता है। बीफ, छोले, कद्दू के बीज और काजू जैसे खाद्य पदार्थ थायराइड स्वास्थ्य के लिए जिंक के मूल्यवान स्रोत प्रदान करते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- लो कैलोरी मील है पीली मूंग दाल की चाट, नोट कीजिए रेसिपी और सेहत लाभ

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख