विटामिन डी की कमी भी हो सकती है बाल झड़ने के लिए जिम्मेदार, जानिए इससे कैसे उबरना है

बालों का बहुत ज्यादा झड़ना किसी को भी परेशान कर सकता है। बालों का झड़ना कई कारणों से हो सकता है, लेकिन इसके पीछे एक विटामिन की कमी भी होती है।
vitamin D kyu hai jaruri
टामिन डी (Vitamin D) की उच्च मात्रा पाई जाती है, उनमें अन्य महिलाओं की तुलना में फर्टिलिटी का स्तर चार गुना बढ़ जाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 26 Jul 2023, 05:59 pm IST
  • 145

बालों का थोड़ी मात्रा में झड़ना सामान्य बात है। हम सभी के हर रोज़ कितने ही बाल टूटकर गिर जाते हैं और उनकी जगह नए बाल उग आते हैं। लेकिन अगर बाल बहुत अधिक मात्रा में झड़ते हैं और उनकी जगह नए बाल कम उगते हैं या नहीं उग पाते, तो यह एक समस्या हाे सकती है। हालांकि बरसात के मौसम में लोग सबसे ज्यादा हेयर फॉल का सामना करते हैं। पर इसके अलावा कुछ पोषक तत्व और जीवनशैली संबंधी कारक भी हैं, जो बालों को कमजोर बना देते हैं। जिससे आपके बाल टूटकर झड़ने लगते हैं। ऐसे में आपको बालों की उचित देखभाल के साथ कुछ पोषक तत्वों पर भी ध्यान देना होगा।

हेयर फॉल या हेयर लॉस से उबरने के लिए लोग बालों में बहुत सारे ट्रीटमेंट करवाते हैं। इसके बावजूद उनकी इस समस्या का समाधान नहीं हो पाता। वास्तव में सिर्फ सैलून में ट्रीटमेंट करवाकर आपके बाल अच्छे नहीं हो सकते। बालों का झड़ना विभिन्न कारकों के कारण हो सकता है, जिनमें आनुवंशिकी, हार्मोनल परिवर्तन, चिकित्सीय स्थितियां, दवाएं और पोषण संबंधी कमियां हो सकती है। बालों के झड़ने से जुड़े पोषण संबंधी कारकों में कुछ विटामिन और खनिजों की कमी भी हो सकती है।

विटामिन डी की कमी हो सकती है हेयर फॉल और हेयर लॉस के लिए जिम्मेदार

डॉ. आंचल पंथ एक एमबीबीएस डर्मेटोलॉजिस्ट हैं, ने अपनी एक इंस्टाग्राम पोस्ट में बताया कि बालों को झड़ने से बचाने के लिए जरूरी है कि आप अपने शरीर में विटामिन डी के स्तर का ध्यान रखें। विटामिन डी बालों के रोम चक्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और इस विटामिन के निम्न स्तर को बालों के झड़ने से जोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त, अन्य विटामिन, जैसे बी-विटामिन (जैसे बायोटिन), आयरन और जिंक की कमी भी बालों के झड़ने में योगदान कर सकती है।

vitamin d baalon se badh sakte hai.
विटामिन डी एक आवश्यक पोषक तत्व है जो विभिन्न शारीरिक कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

विटामिन डी एक आवश्यक पोषक तत्व है जो विभिन्न शारीरिक कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखना, प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करना और त्वचा के स्वास्थ्य को बढ़ावा देना शामिल है।

वास्तव में विटामिन डी हेयर फॉलिकल साइकल में एक भूमिका निभाने के लिए माना जाता है। यह बालों के एनाजेन, कैटाजेन, और टेलोजेन के चरणों से गुजरते हैं। हेयर फॉलिकल में विटामिन डी रिसेप्टर्स मौजूद होते हैं, और ऐसा माना जाता है कि बालों के फॉलिकल के समुचित कार्य के लिए विटामिन डी का पर्याप्त स्तर आवश्यक है।

हेयर फॉल से बचना है तो इन तरीकों से दूर करें विटामिन डी डेफिशिएंसी

1 धूप लेना सुनिश्चित करें

विटामिन डी को अक्सर “सनशाइन विटामिन” के रूप में जाना जाता है क्योंकि जब त्वचा सूरज की रोशनी के संपर्क में आती है तो शरीर इसका उत्पादन कर सकता है। बाहर सीधी धूप में कुछ समय बिताने से आपके शरीर को विटामिन डी को बनाने करने में मदद मिल सकती है।

2 विटामिन डी युक्ट फूड्स का सेवन करें

सिर्फ आहार से पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी प्राप्त करना चुनौतीपूर्ण है, लेकिन विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करना फायदेमंद हो सकता है। विटामिन डी के अच्छे आहार स्रोतों में वसायुक्त मछली (सैल्मन, मैकेरल, टूना), फोर्टिफाइड डेयरी उत्पाद (दूध, दही, पनीर), फोर्टिफाइड संतरे का रस और अंडे की जर्दी का सेवन कर सकते है।

vitamin d deficiency
विटामिन डी की कमी से बालों की समस्या हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

3 जीवनशैली में बदलाव लाएं

स्वस्थ जीवनशैली अपनाने से भी विटामिन डी के बेहतर अवशोषण में योगदान मिल सकता है। संतुलित आहार बनाए रखना, नियमित व्यायाम करना और धूम्रपान और अत्यधिक शराब के सेवन से बचना विटामिन डी के स्तर सहित समग्र स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है।

4 नियमित जांच करवाना भी है जरूरी

यदि आपमें विटामिन डी की कमी है, तो बढ़ाने के लिए अपने डॉक्टर से मिलकर इस पर बबात करना जरूरी है। वे आपके विटामिन डी के स्तर का आकलन करने और उसके अनुसार आपकी उपचार योजना को समायोजित करने के लिए सलाह दे सकते हैं। आप इसके लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करके सप्लीमेंट भी ले सकते है।

ये भी पढ़े- उम्र से पहले मुरझाने लगी है स्किन, तो स्किन डिटॉक्स के इन 8 स्टेप्स को न करें इग्नोर

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख