वेट लॉस का जांचा-परखा नुस्खा है नींबू, जानिए यह कैसे काम करता है

पेट खराब होने पर या गैस होने पर कई लोग नींबू का सेवन करते है गर्मी में भी लोग नींबू पानी पीते है शरीर को ठंडा करने के लिए लेकिन क्या नींबू वजन को कम करता है चलिए जानते है।
nimbu ka ras kyu hai faydemand
विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंटस से भरपूर नींबू की अधिकता सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है। चित्र शटरस्टॉक.
संध्या सिंह Published: 3 Aug 2023, 09:05 am IST
  • 146

नींबू में कई गुण होते है इसलिए इसे कई तरह से हम अपनी डाइट में शामिल करते है। नींबू का सेवन खाने में स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है। कई लोग सूबह उठने के साथ ही गर्म पानी के साथ नींबू डालकर लेते है। नींबू विटामिन सी का स्रोत तो है ही साथ ही इसमें विटामिन बी6, पोटेशियम और फोलेट सहित अन्य विटामिन और खनिज भी थोड़ी मात्रा में होते हैं। यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में भी मदद करता है।

नींबू का रस डाइट में शामिल किया जा सकता है, स्किन केयर के लिए नींबू के रस का इस्तेमाल होता है। कुछ बर्तनों को साफ करने के लिए भी नींबू का इस्तेमाल करते है। इतने सारे गुण होने के साथ ही क्या नींबू वेट लॉस में मदद करता है चलिए जानते है। नींबू वेट लॉस में किस तरह मदद करता है ये जानने के लिए हमने बात की डायटिशियन और वेट लॉस एक्सपर्ट शिखा कुमारी से। शिखा कुमारी बताती है कि “वजन घटाने में नींबू सहायक हो सकता है, लेकिन यह समझना महत्वपूर्ण है कि यह अकेले कम करने में मददगार नहीं हो सकता है। नींबू एक स्वस्थ जीवनशैली का सहायक घटक हो सकता है जिसमें संतुलित आहार और नियमित शारीरिक गतिविधि शामिल हेना बहुत जरूरी है।”

neemboo paani ya seb ak sirka
नींबू-पानी के हैं ढेर सारे फायदे। चित्र : शटरस्टॉक

यहां जानिए वेट लॉस में किस तरह मददगार है नींबू

1 कम कैलोरी और हाइड्रेटिंग

नींबू में कैलोरी कम होती है और यह बिना अधिक कैलोरी बढ़ाए व्यंजनों और पेय पदार्थों में स्वाद बढ़ाने वाले के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, नींबू पानी एक लोकप्रिय पेय है जो ताज़ा और हाइड्रेटिंग हो सकता है, जिससे यह मीठे ड्रिंक्स का एक स्वस्थ विकल्प बन जाता है।

2 मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है

मेटाबॉलिज्म शरीर में आपके पाचन का स्थिति को बताता है। नींबू विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है, जो एक एंटीऑक्सीडेंट है यह मेटाबॉलिज्म और ऊर्जा उत्पादन में सहायता कर सकता है। मेटाबॉलिज्म पर विटामिन सी का प्रभाव मामूली होता है , लेकिन मेटाबॉलिज्म को स्वस्थ बनाए रखने में यह मदद करता है और वजन को भी नियंत्रित करता है।

3 पाचन तंत्र में सुधार करता है

नींबू के रस पाचन पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। नींबू का एसिडिक स्वभाव भोजन को तोड़ने और पोषक तत्वों के अवशोषण में सुधार करने में सहायता हो सकता है। बेहतर पाचन होने से अपकी गट हेल्थ अच्छी रहेगी जो आपके वजन नियंत्रण पर भी इसका प्रभाव पड़ता है।

4 हाइड्रेशन बढ़ाने में मदद करता है

हाइड्रेटेड रहना वजन घटाने और समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। लेमन इंफ्यूडज वॉटर पीना हाइड्रेटेड रहने के लिए सबसे पसंद किया जाने वाला तरीका है। नियमित पानी पीने से आपके शरीर को डिटॉक्सिफाइ होने में मदद मिलती है। शरीर का डिटॉक्शिफिकेशन शरीर को बिमारियों से बचाने और वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है।

नींबू के रस के और भी हैं फायदे

neemboo ke nuksaan
स्किन को अच्छा और स्वस्थ रखने के लिए नींबू का रस फायदेमंद हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

त्वचा में कॉलेजन को बढ़ाने में मदद करता है

त्वचा को अच्छा और स्वस्थ रखने के लिए नींबू का रस फायदेमंद हो सकता है। यह उम्र बढ़ने के संकेतों को कम कर सकता है। नींबू में विटामिन सी कोलेजन उत्पादन में भूमिका निभाता है, त्वचा की लोच बनाए रखने और झुर्रियों को कम करने में मदद करता है। नींबू पानी का सेवन त्वचा को साफ करने में भी मदद करता है।

आयरन अवशोषण को बढ़ाता है

नींबू का आयरन के अवशोषम को बढ़ाने का काम करता है। नींबू में विटामिन सी पौधे-आधारित खाद्य पदार्थों से गैर-हीम आयरन के अवशोषण को बढ़ा सकता है, जिससे यह शाकाहारी या वीगन आहार का पालन करने वाले व्यक्तियों के लिए फायदेमंद हो जाता है। आयरन का बढ़ना हिमोग्लोबिन के बढ़ने में मदद करता है जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक बना रहता है।

ओरल हेल्थ में सुधार के लिए

नींबू का रस ओरल स्वास्थ के लिए बेहतर काम करता है। स्कर्वी एक मूंह के स्वास्थ से जुड़ी समस्या है। जिसमें नींबू बहुत प्रभावी ढंग से मदद करता है। स्कर्वी एक ऐसी बीमारी है जो विटामिन सी की कमी से पैदा होती है, जिसके कारण मसूड़ों में सूजन, मसूड़ों से खून आना होता है। नींबू के रस को दांत दर्द वाली जगह पर लगाने पर दर्द से राहत मिल सकती है।

ये भी पढ़े- आपका तनाव आपकी वेजाइनल हेल्थ को भी कर सकता है खराब, जानिए क्या है मेंटल और सेक्सुअल हेल्थ का कनैक्शन

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

  • 146
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख