Visceral fat : क्या आपको मालूम है पेट पर जमी चर्बी के स्वास्थ्य जोखिम, जानिए कैसे पाना है विसरल फैट से छुटकारा

बहुत से लोग इस बात से अनजान होंगे कि हमारे शरीर के अंदरुनी ऑर्गन्स के आसपास भी फैट जमा होता है, जिसे समय रहते नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है अन्यथा यह बड़ी परेशानियों का कारण बन सकते हैं।
belly-fat-woman
यहां हैं बेली फैट कम करने के कुछ प्रभावी टिप्स। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 8 Sep 2023, 08:00 am IST
  • 124

बढ़ता मोटापा आज कल सभी के लिए परेशानी की एक बड़ी वजह बन चुका है। ऐसे में आमतौर पर कमर और पेट की चर्बी से अधिक परेशान हैं। वहीं चर्बी और फैट केवल शरीर के बाहर नहीं बल्कि अंदर भी अपना जमाव बना सकते हैं, जिसकी वजह से तमाम स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बहुत से लोग इस बात से अनजान होंगे कि हमारे शरीर के अंदरुनी ऑर्गन्स के आसपास भी फैट जमा होता है, जिसे समय रहते नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है अन्यथा यह बड़ी परेशानियों का कारण बन सकते हैं। हालांकि, चिंता न करें आज हम लेकर आए हैं, बॉडी के अंदर छिपे फैट से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां।

मैत्री वूमेन की संस्थापक गाइनेकोलॉजिस्ट अंजलि कुमार ने विसरल फैट यानी कि शरीर के अंदर छिपे हिडन फैट से संबंधित कुछ जरूरी जानकारी शेयर की है। तो चलिए जानते हैं आखिर यह है क्या और इस पर किस तरह नियंत्रण पाया जा सकता है।

पहले समझें क्या है विसरल फैट (what is Visceral fat)

आंत में वसा का जमाव विसरल फैट (Visceral fat) के नाम से जाना जाता है। यह फैट समय के साथ शरीर के सेंटर प्वाइंट पर जमा होने लगते हैं। खासकर यह हार्ट, लंग्स, आंत, लीवर और शरीर के अन्य ऑर्गन्स के आसपास जमा होने लगता है। यह बाहर से दिखाई नहीं देते इसलिए इन्हें हिडन फैट भी कहा जाता है।

विसरल (Visceral fat) फैट सभी में होता है। यदि आप बिल्कुल स्लिम हैं या आपके फ्लैट एब्स हैं फिर भी आपके बॉडी में हिडेन फैट की मौजूदगी हो सकती है। वहीं आप बाहर से बिल्कुल स्लिम परंतु अंदर से काफी फैटी हो सकती हैं। वहीं यह लीन पीसीओएस (PCOS) का एक मुख्य कारण हो सकता है।

tnav ke karan badh sakta hai belly fat
फैट स्टोर न होने दे। चित्र : अडोबी स्टॉक

जानें विसरल फैट बढ़ने का कारण

आमतौर पर इसका कारण शारीरिक गतिविधियों की कमी और कम कैलोरी बर्न करना होता है। साथ ही कई लोग जेनेटिक्स के अनुसार कमर के हिस्से की तुलना में पेट के हिस्से में अधिक फैट स्टोर करते हैं। वहीं महिलाओं में बढ़ती उम्र के साथ खासकर मेनोपॉज के बाद बॉडी फैट स्टोर करने की जगह बदलता है। वहीं उम्र बढ़ते ही महिलाओं में विसरल फैट जमा होने का अधिक खतरा होता है, खासकर पेट के आसपास के हिस्सों में।

यह भी पढ़ें : Yoga for kidney : शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है किडनी, इन 4 योगासनों के अभ्यास से बनाएं इन्हें हेल्दी

विसरल फैट महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक तेजी से स्टोर होता है। ऐसे में इस विषय की उचित जानकारी अपने पार्टनर, मेल फ्रेंड्स आदि को भी दें। उनके लिए इस विषय से जुड़ी बातों का ध्यान रखना बेहद महत्वपूर्ण है।

जानिए विसरल फैट किस तरह आपकी सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक

यह शरीर के अंदर विकसित होता है खासकर आपके पेट के आस पास के हिस्से में जहां शरीर के तमाम महत्वपूर्ण ऑर्गन्स मौजूद होते हैं। डॉक्टर के अनुसार यह कई महत्वपूर्ण बीमारियों के खतरे को बढ़ा देता है जैसे कि हृदय संबंधी समस्याएं, हाई कोलेस्ट्रॉल, टाइप 2 डायबिटीज, अल्जाइमर आदि।

अब जानें विसरल फैट से आखिर किस तरह छुटकारा पाया जा सकता है

1. खुद को एक्टिव रखें

विसरल फैट का सबसे बड़ा कारण बॉडी का इनएक्टिव होना होता है। ऐसे में यदि आप अपनी डाइट पर पूरी तरह ध्यान दे रही हैं, परंतु खुद को एक्टिव नहीं रख रही तो इस प्रकार आप अपने एक्स्ट्रा विसरल फैट को पूरी तरह से बर्न करने में सक्षम नहीं हो पाएंगी। एक्सपर्ट के अनुसार सभी को यहां तक की पतले लोगों को भी खुद को एक्टिव रखने की आवश्यकता होती है। आप एक्सरसाइज, जॉगिंग, वॉकिंग, घर के कामकाज या अन्य पसंदीदा खेल में भाग ले खुद को एक्टिव रख सकती हैं।

fats
खाने का ध्यान रखना है बेहद महत्वपूर्ण। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2. खाद्य पदार्थों का ध्यान रखें

एक्स्ट्रा विसरल फैट बर्न करने के लिए आपको अपनी डाइट पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। ऐसे में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को डाइट में शामिल करें। साथ ही साथ ट्रांस फैट और प्रोसेस्ड फूड से जितना हो सके उतना परहेज रखें। फ्राइड फूड्स, सोडा, कैंडी पैकेज्ड फूड्स किसी भी खाद्य पदार्थों को खरीदने से पहले उनके इनग्रेडिएंट लेवल पर नजर जरूर डालें। हाई फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप और पार्शियली हाइड्रोजेनेटेड ऑयल युक्त खाद्य पदार्थों को पूरी तरह अवॉइड करें। अंदरुनी जिद्दी बेली फैट को कम करना चाहती हैं, तो इसके लिए प्लांट बेस्ड डायट एक सबसे अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

3. शराब के अधिक सेवन से बचें

अधिक मात्रा में शराब के सेवन से शरीर के अंदरूनी अंगों के आसपास फैट जमा होना शुरू हो जाता है, जिसकी वजह से तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में एक्सपर्ट कभी कभार सीमित मात्रा में शराब पीने की सलाह देती है और यदि मुमकिन हो तो इससे पूरी तरह से परहेज रखने की कोशिश करें।

4. रिफाइंड शुगर से परहेज करें

यदि आप अपने शरीर के अंदर एक्स्ट्रा फैट जमा होने से रोकना चाहती हैं, तो सबसे पहले रिफाइंड शुगर से पूरी तरह परहेज करें। हालांकि, शहद और गुड़ में भी चीनी मौजूद होती है, परंतु यह प्राकृतिक होते हैं और इनमें पोषक तत्व भी पाए जाते हैं इसलिए यह रिफाइन शुगर की तरह शरीर को हानि नहीं पहुंचाते। फिर भी इन्हें डाइट में शामिल करने का सही तरीका मालूम होना जरूरी है और इनकी मात्रा का ध्यान रखना भी बेहद महत्वपूर्ण है।

In drinks mein bhaari matraa mein cheeni ka upyog kiya jaata hai
भारी मात्रा में चीनी का उपयोग किया जाता है। चित्र- शटरस्टॉक।

5. पर्याप्त नींद लेना है अधिक महत्वपूर्ण

एक्सपर्ट के अनुसार पर्याप्त और उचित नींद लेने से आपको एक्स्ट्रा विसरल फैट बर्न करने में मदद मिलती है। नींद की कमी और वेट गेन एक दूसरे से जुड़े होते हैं। यदि आप संतुलित वजन और स्वस्थ शरीर चाहती हैं तो नियमित रूप से 7 से 8 घंटे की उचित नींद सुनिश्चित करें।

यह भी पढ़ें : Yoga for kidney : शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है किडनी, इन 4 योगासनों के अभ्यास से बनाएं इन्हें हेल्दी

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख