गर्मियों में माइग्रेन से परेशान हैं तो अपनाएं ये 5 योग मुद्राएं, जो आपको राहत देंगी

क्या आपने माइग्रेन के लिए योग की कोशिश की है? यदि नहीं, तो इन योग मुद्राओं को करना शुरू करें जो गंभीर सिरदर्द में राहत प्रदान करने का एक प्राकृतिक तरीका है।
माइग्रेन का कारण हो सकता है देर तक सोना। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated on: 11 May 2022, 21:00 pm IST
ऐप खोलें

यदि आप माइग्रेन से पीड़ित हुई हैं, तो आपने ऐसी कई चीजों की तलाश की होगी, जो इसे दूर कर दे। गर्मी बहुत से लोगों के लिए माइग्रेन की समस्या को बढ़ा देती है। यही वजह है कि गर्मी में थकान महसूस हो सकती है। योग न केवल माइग्रेन को आराम देने में बल्कि लगातार होने वाले माइग्रेन को रोकने में भी बहुत मदद करता है। योग एक अनूठा अभ्यास है जहां आपका शरीर और मन दोनों एक दूसरे के साथ और वर्तमान क्षण में तालमेल बिठाते हैं। इसलिए आपको माइग्रेन के लिए योग आजमाने की जरूरत है।

रा फाउंडेशन और अनाहत ऑर्गेनिक की संस्थापक राधिका अय्यर ने हेल्थ शॉट्स से कुछ प्रभावी योग पोज़ के बारे में बात की जो गर्मियों में होने वाले माइग्रेन में मदद कर सकते हैं।

अय्यर कहती हैं, “ये योग मुद्राएं माइग्रेन के प्रभाव को काफी कम कर देती हैं। यदि आप माइग्रेन को कम अरने लिए योग करना चाहती हैं, तो ये आसन मदद कर सकते हैं:

1. शवासन

शवासन पूर्ण विश्राम की अवस्था है। इसे ‘Death Pose’ भी कहा जाता है क्योंकि इस आसन के लिए आपको केवल लेटने की आवश्यकता होती है। इस पोजीशन में आपके शरीर का हर अंग जमीन पर होता है। यह पेट से तनाव मुक्त करता है और मस्तिष्क को ऑक्सीजन लेते हुए अधिक सचेत रूप से सांस लेने की अनुमति देता है।

“इस स्थिति में, आप ब्रह्मांड से सकारात्मक ऊर्जा को अपनी हथेलियों में डालने और नीचे से निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा की कल्पना कर सकते हैं। अय्यर कहती हैं, “कुछ मिनटों के शवासन से आपको माइग्रेन से राहत मिल सकती है।”

यह आसान आपको आराम देगा। चित्र : शटरस्टॉक

2. उष्ट्रासन

उष्ट्रासन ऑक्सीजन युक्त रक्त को आपके सिर तक पहुंचने देता है और शरीर से तनाव मुक्त करता है। यह आपके पेट को फैलाता है और साथ ही पीठ को भी मजबूत करता है। यह मुद्रा फेफड़ों की क्षमता को भी बढ़ाती है, जिससे बेहतर वायु सेवन की अनुमति मिलती है।

3. ब्रिज पोज

अगर हम माइग्रेन के लिए योग की बात करें तो ब्रिज पोज से बेहतर कोई काम नहीं है। आप अपनी गर्दन और कंधे के क्षेत्रों में बहुत अधिक तनाव रखते हैं, और यह माइग्रेन का एक बड़ा और काफी हद तक अज्ञात कारण है। ब्रिज पोज़ करने से आपके शरीर को आराम मिलता है और ऑक्सीजन युक्त रक्त आपके दिल और सिर तक जाता है। यह कूल्हों से तनाव भी मुक्त करता है।

ग्लूट ब्रिज (Glute bridge) से हमस्ट्रिंग मसल को मजबूती दें. चित्र : शटरस्टॉक

4. चाइल्ड पोज

चाइल्ड पोज हमें सुरक्षित महसूस कराने का एक तरीका है। क्योंकि यह भ्रूण की स्थिति है, यह शरीर और अवचेतन को गर्भ की पूर्ण सुरक्षा की याद दिलाती है, जहां हमारी सभी ज़रूरतें अपने आप पूरी हो जाती हैं। अय्यर कहती हैं “माथे को जमीन पर छूने से दबाव बिंदु सक्रिय हो जाते हैं जो सिरदर्द और तनाव के स्तर को कम करते हैं। यह मुद्रा माइग्रेन को कम करने में मदद करती है और जलन और चिंता के स्तर को कम करती है।

5. पवनमुक्तासन:

यह राहत देने वाली मुद्रा शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने और आपको शांत करने के लिए बहुत अच्छी है। अपने घुटनों को अपनी छाती से सटाकर, पवनमुक्तासन सांसों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए एक अच्छा आसन है। यह माइग्रेन के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है।

अगर आप गर्मियों में माइग्रेन से ग्रस्त हैं तो हल्का और ठंडा खाना शुरू कर दें और खूब पानी पिएं।

यह भी पढ़ें : केरल में बच्चों में फैल रहा है टोमैटो फ्लू, एक्सपर्ट बता रहे हैं इसके लक्षण और बचाव के उपाय

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story