लॉग इन

पार्टनर के साथ एक्सरसाइज करना सेक्स लाइफ के लिए भी है फायदेमंद, जानिए कैसे

यदि लंबे समय तक नियमित रूप से एक्सरसाइज की जाती है, तो शारीरिक प्रदर्शन में भी सुधार होता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 24 Aug 2023, 05:45 pm IST
ऐप खोलें

इंटिमेट रिलेशन और हेल्दी सेक्सुअल लाइफ के लिए एक-दूसरे का साथ मिलना जरूरी है। वक्त की कमी के कारण एक-दूसरे का साथ नहीं मिल पाता है। यदि एक्सरसाइज एक साथ की जाए, तो इससे दो फायदे मिलेंगे। मिलकर एक्सरसाइज करने से एक-दूसरे का साथ मिल पायेगा और सेक्सुअल लाइफ भी बूस्ट अप (exercising with partner boost sex life) हो जाएगी।

ध्यान देनी होगी कुछ बातें (keep in mind important note before exercising with partner)

एक साथ एक्सरसाइज करने के लिए कुछ जरूरी बातों पर भी ध्यान देना होगा। इसके लिए एक समय पर दोनों लोग का उपस्थित रहना जरूरी है। एक-दूसरे के प्रति प्रतिबद्धता बनाए रखना भी जरूरी है। यदि एक दूसरे के समय की उपयोगिता का ख्याल रखना शुरू हो जाए, तो पुराने रिश्ते भी नये जितने मजेदार हो जाएं।

लंबे समय तक साथ एक्सरसाइज करने से पड़ता है प्रभाव (Exercising together for a long time has an effect)

सेक्सुअल मेडिसिन रिव्यु जर्नल के अध्ययन में शोधकर्ता एमीलिया एम स्टेनटोन ने महिलाओं में सेक्सुअल परफोर्मेंस पर कुछ समय के लिए और लंबे समय के लिए की गई एक्सरसाइज का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष प्रभाव का आकलन किया।

एमीलिया के अनुसार, एक्सरसाइज का सीधा प्रभाव मेटाबोलिज्म रेट, मसल्स एक्टिविटी सक्रियता और ब्लड फ्लो पर पड़ता है। यदि लंबे समय तक नियमित रूप से एक्सरसाइज की जाती है, तो शारीरिक प्रदर्शन में भी सुधार होता है।

सेक्सुअल परफोर्मेंस बेहतर होती है (exercise with partner boost sexual performance)

सामान्य तौर पर यह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों तरह के स्वास्थ्य में सुधार करता है। सेक्सुअल परफोर्मेंस शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों तरह के स्वास्थ्य में आता है। यदि पार्टनर के साथ वर्कआउट किया जाता है, तो इससे मानसिक स्वास्थ्य बूस्ट (exercise with partner boost mental health) होता है और सेक्सुअल परफोर्मेंस (exercise with partner boost sexual performance) भी बेहतर होती है। हालांकि इस दिशा में और अधिक शोध की जरूरत है। पर यह तो प्रमाणित हो चुका है कि पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताने पर रिश्ते मजबूत होते हैं।

पार्टनर के साथ योग करने पर सेक्सुअल परफोर्मेंस बेहतर होती है। चित्र: शटरस्टॉक

मिल कर वर्कआउट करने से मिलते हैं फायदे (exercising with partner boost sex life)

सेक्सुअल मेडिसिन रिव्यु जर्नल के अध्ययन के अनुसार, जो पार्टनर एक साथ वेट कंट्रोल का लक्ष्य बनाते हैं, तो वे अधिक मुश्तैदी से इस दिशा में काम कर पाते हैं। यदि एक पार्टनर वर्कआउट से ऊब या थक जाता है, तो दूसरा उसे करने के लिए प्रेरित करता है। एक्सरसाइज जैसी फिजिकल एक्टिविटी साथ करने पर रिश्तों में प्यार और संतुष्टि दोनों की भावना महसूस होने की संभावना अधिक होती है

चुनौतियों से निपटने में मदद (exercising with partner help deal with challenges)

शी माइंड जर्नल के अध्ययन बताते हैं कि कई बार शुरुआत में हम कोई वर्कआउट करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं। ऐसी स्थिति में पार्टनर यदि प्रोत्साहित करने के लिए कोई बात कहे, तो चुनौतियों से निपटने में बल बल मिलता है। जिम जैसे नियंत्रित जगह में भी एक-दूसरे की खूबी और खामी का पता चलता है। इससे विश्वास और एक-दूसरे के प्रति प्रेम की भावना पनपती है। इमोशनल हेल्थ बिल्ड अप होने का सीधा प्रभाव सेक्सुअल लाइफ पर भी पड़ता है। प्रेम और विश्वास का सीधा असर सेक्सुअल डिजायर और लिबिडो पर पड़ता है

इमोशनल हेल्थ बिल्ड अप होने का सीधा प्रभाव सेक्सुअल लाइफ पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्टॉक

हॉर्मोन पर प्रभाव (exercising with partner effect on hormone)

हॉर्मोन एंड बिहेवियर जर्नल में प्रकाशित स्टडी निष्कर्ष के अनुसार, पार्टनर यदि साथ एक्सरसाइज करते हैं, तो खुश महसूस करते हैं। इसके कारण हॉर्मोन रिलीज होते हैं, जो तनाव मुक्त करते हैं। डोपामाइन हॉर्मोन उनमें से एक है। जिम में एक साथ पसीना बहाने और सफलतापूर्वक एक्सरसाइज करने से एंडोर्फिन रिलीज होता है। यह हॉर्मोन एक-दूसरे को करीब लाता है। दोनों एक-दूसरे को अलग-अलग स्तर जैसे कि शारीरिक स्तर और भावनात्मक स्तर दोनों तरह से जान पाते हैं। इस प्रक्रिया का सेक्सुअल लाइफ पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

यह भी पढ़ें :- Stress and Belly fat : लंबे समय से चला आ रहा तनाव भी बढ़ा देता है बैली फैट, जानिए इसे कैसे कंट्रोल करना है

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें
स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख