लॉग इन

वेजाइना को क्लीन करने के लिए बेबी वाइप्स यूज कर रहीं हैं, तो एक्सपर्ट से जानिए ये कितने सेफ हैं

बच्चों की मुलायम स्किन को क्लीन रखने के लिए बेबी वाइप्स का प्रयोग किया जाता है। क्या योनि की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए भी इसका इस्तेमाल सही हैं। जानते हैं विशेषज्ञ से कि वेजाइना क्लीनिंग के लिए बेबी वाइप्स हैं कितनी सेफ।
इंटिमेट वाइप्स वेजाइना और उसके आसपास के एरिया के लिए सुविधा प्रदान कर सकते हैं। चित्र- अडोबी स्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 14 Sep 2023, 01:22 pm IST
ऐप खोलें

यूरिन पास करने और मल त्याग करने के बाद बट और योनि को क्लीन करना चाहिए या नहीं? यकीनन हां, पर कैसे? यह हमेशा से चर्चा का विषय रहा है। इन दिनों अधिकतर लोग पानी की जगह क्लीनिंग के लिए टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करने लगे हैं। जबकि कुछ महिलाएं वेजाइना क्लीन करने के लिए वेट वाइप्स या बेबी वाइप्स का प्रयोग करती हैं। हांलाकि कुछ लोगों का मानना है कि बेबी वाइप्स बच्चों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हैं, इसलिए अन्य लोग भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। जब कि ये पूरी तरह से सच नहीं हैं। जानते हैं एक विशेषज्ञ से कि क्यों वेजाइना को बेबी वाइप्स से क्लीन नहीं करना चाहिए (baby wipes for vaginal cleaning)।

जन्म के समय बच्चों की स्किन बेहद नाजुक और मुलायम होती है। इसके चलते माता.पिता छोटे बच्चों की सफाई के लिए लंबे समय तक बेबी वाइप्स का उपयोग करते हैं। इस बारे में बेंगलुरु के व्हाइटफील्ड स्थित मदरहुड हॉस्पिटल्स में सीनियर कंसल्टेंट, ऑब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट डॉ तेजी दावने महत्वपूर्ण जानकारी साझी कर रही है। वे कहती हैं वेजाइना पर बेबी वाइप्स का इस्तेमाल करने के लिए सावधानी बरतने की जरूरत होती है। जानते हैं कैसे।

जानते हैं बेबी वाइप्स को इस्तेमाल करने के नुकसान (Side effects of using baby wipes for vagina)

1 जलन और लालिमा

बेबी वाइप्स में सुगंध, प्रिसर्वेटिव्स और अन्य कैमिकल्स होते हैं। इससे वेजाइना के सेंसिटिव टिशूज के इरिटेट होने का खतरा रहता है। इससे स्किन पर रेडनेस, इचिंग और असुविधा महसूस होने लगती है। ऐसे में वाइप्स के प्रयोग से बचना चाहिए।

जानते हैं बेबी वाइप्स को इस्तेमाल करने के नुकसान। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 पीएच बैलेंस में असंतुलन

जन्म के समय एक बच्चे की योनि का पीएच न्यूटरल होता है। जो धीरे धीरे एसिडिक होने लगता है। थोड़ा एसिडिक पीएच योनि में बैक्टीरिया के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में फायदेमंद साबित होता है। यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित 2021 के एक अध्ययन के अनुसार, वो महिलाएं जो अब तक मेनोपॉज से होकर नहीं गुजरी हैं। उनकी योनि का पीएच 3.8 से 5.0 तक होता है। अगर आप वहां बेबी वाइप्स का उपयोग करते हैं, तो वे पीएच बैलेंस को डिस्टर्ब कर सकता हैं।

3 संक्रमण का खतरा बढ़ने लगता है

योनि पर बार बार बेबी वाइप्स का इस्तेमाल करने से हानिकारक बैक्टीरिया पनपने का खतरा बढ़ जाता है। इससे यूटरस में संक्रमण का खतरा रहता है। इससे यूटीआई जैसी समस्याएं शरीर को प्रभावित करती है।

4 एलर्जी की बढ़ती संभावनाएं

कई बार खानपान में कोताही बरतने से शरीर में एलर्जी की संभावना बढ़ने लगती है। इसके अलावा बेबी वाइप्स भी एलर्जी का एक कारण साबित हो सकता है। इसमें मौजूद तत्व कई लोगों की सेंसिटिव स्किन पर एलर्जी का कारण बनने लगते है। इससे स्किन पर जलन और रैशेज की संभावना बढ़ जाती है।

5 त्वचा पर सूखापन महसूस होना

बेबी वाइप्स का लगातार इस्तेमाल करने से वे वेजाइना के नेचुरल माइश्चर को छीन लेती है। इस बारे में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ दावने ने हेल्थ शॉट्स से बातचीत में बताया कि बेबी वाइप्स का योनि पर अत्यधिक प्रयोग ड्राइनेस का कारण बनने लगता है। इसके अलावा वेजाइना के आसपास असुविधा महसूस होने लगती है।

वेजाइना क्लीन रखने के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

1 गुनगुने पानी से करें सफाई

हल्के गुनगुने पानी से वेजाइना को क्लीन करने से पीएच बैलेंस बना रहता है। इसके अलावा बैक्टिरियल इंफेक्शन का खतरा भी कम हो जाता है। योनि की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए नहाने के दौरान योनि को गुनगुने पानी से अवश्य साफ करें।

योनि की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए नहाने के दौरान योनि को गुनगुने पानी से अवश्य साफ करें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 खुशबूदार साबुन के इस्तेमाल से बचें

वेजाइना की क्लीनिंग के हिसाब से बाज़ार में मिलने वाले साबुन का प्रयोग करें। अगर आप रेगुलर खुशबूदार साबुन से योनि को क्लीन करती हैं, तो इससे वेजाइना के आसपास सूखापन महसूस होने लगता है।

3 कॉटन अंडरवियर पहनें

सिंथेटिक अंडरवियर की जगह कॉटन अंडरवियर पहनें। इससे योनि के नज़दीक पसीना और दुर्गंध की समस्या से राहत मिलती है। इसके अलावा इंफेक्शन और इचिंग का खतरा भी कम होने लगता है।

4 क्लीनिंग के सही तरीके को अपनाएं

जब भी आप यूरिन पास करने या पेट साफ करने के लिए जाते हैं, तो बट को आगे से पीछे तक पोंछें। इससे मौजूद बैक्टीरिया योनि तक नहीं पहुंच सकते हैं।

ये भी पढ़ें- क्या वेजाइनल हाइजीन के लिए अलग प्रोडक्ट की जरूरत होती है? एक स्त्री रोग विशेषज्ञ दे रहीं हैं इस सवाल का जवाब

टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख