लॉग इन

कब्ज परेशान कर रही है, तो अलसी के बीज चबाएं, पेट की समस्याओं का है जांचा-परखा नुस्खा

फ्लैक्स सीड्स पाचन से जुड़ी समस्यायों में कारगर हैं, इस प्रकार इसके सेवन से मल त्याग को आसान बनाया जा सकता है। बहुत से लोग कांस्टीपेशन से परेशान रहते हैं, ये उन सभी के लिए मैजिकल साबित हो सकता है।
सभी चित्र देखे
कब्ज में भीगी हुई अलसी के बीजों को डाइट में शामिल करने के फायदे। चित्र अडोबी स्टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 25 Jun 2024, 07:52 pm IST
ऐप खोलें

फ्लैक्स सीड्स एक बेहद खास सुपरफूड है, जिसे इसके तमाम फायदों के लिए जाना जाता है। यह आपके समग्र शरीर के लिए फायदेमंद होती है, खासकर इसे त्वचा एवं बालों की सेहत के लिए बेहद खास माना जाता है। इतना ही नहीं फ्लैक्स सीड्स कांस्टीपेशन यानी की कब्ज की समस्या में भी फायदेमंद साबित हो सकती है। फ्लैक्स सीड्स पाचन से जुड़ी समस्यायों में कारगर हैं, इस प्रकार इसके सेवन से मल त्याग को आसान बनाया जा सकता है। बहुत से लोग कांस्टीपेशन से परेशान रहते हैं, ये उन सभी के लिए मैजिकल साबित हो सकता है (Flax seeds for constipation)।

हेल्थ शॉट्स ने कब्ज में फ्लैक्स सीड्स यानी कि अलसी के बीज के फायदे समझने के लिए, मणिपाल हास्पिटल, गाज़ियाबाद में हेड ऑफ न्यूट्रीशन और डाइटेटिक्स डॉ अदिति शर्मा से बात की। तो चलिए जानते हैं, यह किस तरह फायदेमंद हो सकती हैं।

जानें कब्ज में किस तरह फायदेमंद है फ्लैक्स सीड्स (Flax seeds for constipation)

कब्ज का मतलब है मल त्याग न कर पाना या बार-बार मल त्याग न होना, आमतौर पर हफ़्ते में तीन बार से कम मल त्याग कब्ज माना जाता है। यह एक आम गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या है, और इसके लक्षणों में कठोर, सूखा मल, पेट में दर्द, सुस्ती और पेट फूलना, आदि शामिल है।

अलसी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। चित्र : शटरस्टॉक

सॉल्युबल फाइबर बनाते हैं इसे खास

सॉल्युबल फाइबर पानी में घुल जाता है, जिससे मल नरम हो जाता है और मल त्यागना आसान हो जाता है। यह पाचन अनियमितता और पाचन संबंधी स्थितियां जैसे इरिटेबल बावल सिंड्रोम और डायवर्टीकुलर डिजीज से जुड़ी कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। एक चम्मच पिसी हुई अलसी में लगभग 1.9 ग्राम फाइबर होता है, जो दैनिक मूल्य का 8 प्रतिशत है।

खास पोषक तत्वों का समृद्ध स्रोत है

एक्सपर्ट के अनुसार इस स्थिति में अलसी जैसे प्राकृतिक उपचार कुछ लोगों में कारगर साबित हुए हैं। इस मैजिकल बीज में प्रोटीन, पोटेशियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन और फाइबर जैसे अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। वास्तव में, अलसी सॉल्युबल फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है।

यह भी पढ़ें: Yoga for constipation : कब्ज से बचना है, तो घर के अंदर ही करें इन 4 योगासनों का अभ्यास

नेचुरल लैक्सेटिव की तरह काम करते हैं

अलसी में एक विशेष प्रकार का फाइबर होता है, जो मल को नरम कर सकता है और कब्ज से राहत दिलाने में एक प्राकृतिक लैक्सेटिव के रूप में कार्य करता है। यह म्यूसिलेज फाइबर पानी के साथ मिलकर एक जेल बनाता है, जो मल को नरम और अच्छी तरह से बाहर आने में मदद करते हैं।

यदि इन पर ध्यान दिया जाए तो आप अपने मॉर्निंग स्टूल रूटीन को नियमित रख सकती हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक

प्रोबायोटिक्स के गुण

अलसी के बीज हमारे आंत माइक्रोबायोम में अच्छे तत्वों के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं। लैक्टोबैसिलस प्रजाति, बिफिडोबैक्टीरिया परिवार के साथ-साथ अक्करमेनसिया जैसी कम प्रसिद्ध प्रजातियों जैसे प्रोबायोटिक बैक्टीरिया के स्तर का समर्थन करते हैं, जो स्वस्थ आंत स्तर के लिए बलगम उत्पादन का समर्थन करने में मदद करते हैं।

जानें इसे किस तरह डाइट में शामिल करना है

फ्लैक्स सीड्स को डाइट में शामिल करने के कई तरीके हैं। यदि आपको नियमित रूप से कब्ज की समस्या रहती है तो आप इसे रोजाना की डाइट में शामिल करें, जैसे की नियमित रोटी के आटे में फ्लैक्सीड्स का पाउडर मिलाएं। आप चाहें तो इसे करी, डोसा, इडली आदि में ऐड कर सकती हैं। इसके अलावा अपने नियमित ब्रेकफास्ट के चीले में इसे ऐड करें।

जानें फ्लैक्स सीड्स के फायदे। चित्र शटरस्टॉक।

यदि कब्ज अधिक परेशान कर रहा है तो:

एक चम्मच ड्राई रोस्टेड फ्लैक्स सीड्स को सुबह चबाकर खाएं और पानी पी लें।
आप चाहें तो इसका पाउडर बनाकर उसे एक चम्मच ले सकती हैं।
फ्लैक्स सीड्स को एक कप पानी में उबाल लें, और पानी के जेल को पिएं।
आप इसे नियमित मिक्स सीड्स के साथ एक चम्मच ले सकती हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें: Constipation : कब्ज से भी छुटकारा दिला सकता है फिश ऑयल, जानिए कब्ज के लिए 5 सुपर इफेक्टिव घरेलू नुस्खे

अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख