लॉग इन

माइग्रेन और श्वसन संबंधी समस्याओं का खतरा बढ़ा सकती हैं खुशबूदार मोमबत्तियां, जानिए कैसे

स्टडी के माने तो सेंटेड कैंडल माइग्रेन और रेस्पिरेटरी संबंधी समस्याओं से जुड़ी होती हैं। यदि आप इसका इस्तेमाल करती हैं, तो आपको इस बारे में जरूर जानना चाहिए।
मोमबत्ती कर सकती है आपके स्वास्थ्य को प्रभावित। चित्र:शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 2 Jan 2024, 08:00 pm IST
ऐप खोलें

सेंटेड और फ्रेगरेंस वाले कैंडल के डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है। खासकर न्यू ईयर के मौके पर हर जगह सेंटेड कैंडल देखने को मिलती है। लोग इन्हें फ्रेशनेस के लिए इस्तेमाल करते हैं, परंतु असल में यह आपकी सेहत के लिए कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं। स्टडी के माने तो सेंटेड कैंडल माइग्रेन और रेस्पिरेटरी संबंधी समस्याओं से जुड़ी होती हैं। यदि आप इसका इस्तेमाल करती हैं, तो आपको इस बारे में जरूर जानना चाहिए। चलिए समझते हैं, आखिर यह किस तरह से आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं (scented candle health risk)।

जानिए कैसे सेहत के लिए खतरनाक हैं खुशबूदार मोमबत्तियां (scented candle health risk)

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित अध्ययन के अनुसार फ्रेगरेंस के प्रति संवेदनशील लोगों के लिए, एक और अधिक चिंता का विषय प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव है, जिसका आप सामना कर सकते हैं। पैराफिन मोम में टोल्यूनि और बेंजीन जैसे कुछ रासायनिक यौगिक होते हैं, जो सोया या नारियल जैसे वेजिटेबल-आधारित मोमबत्ती मोम में नहीं पाए जाते हैं।

टोल्यूनि वेपर को आंखों और ऊपरी श्वसन पथ में जलन पैदा करने के लिए जाना जाता है, और अन्य साइड इफेक्ट्स की बात करें तो चक्कर आना और सिरदर्द ट्रिगर हो सकता है। बेंजीन एक ज्ञात कार्सिनोजेन है, और इसके संपर्क के अल्पकालिक प्रभावों की बात करें तो उसमें दर्दनाक सिर दर्द शामिल होते हैं।

सेंटेड कैंडल सिरदर्द (headache) का भी मुख्य कारण बनने लगता है। चित्र : शटरस्टॉक

अब जानें रेस्पिरेटरी हेल्थ पर सेंटेड कैंडल के प्रभाव

अमेरिकन लंग एसोसिएशन के अनुसार, जो लोग अस्थमा से पीड़ित हैं, उनके लिए केवल कैंडल की सुगंध ही सांस लेने में समस्या पैदा कर सकती है। कैंडल वोलेटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड का उत्सर्जन करती हैं, जिनमें से कुछ परेशान करने वाले होते हैं; अन्य कैंसर का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, वे अन्य गैसों के साथ रिएक्ट कर सकते हैं और अतिरिक्त वायु प्रदूषक बना सकते हैं। जिस वजह से व्यक्ति को रेस्पिरेटरी संबंधी समस्याएं परेशान कर सकती हैं।

फॉर्मेल्डिहाइड, अल्कोहल, एस्टर और पेट्रोलियम डिस्टिलेट, ये सभी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इन्हें सांस के माध्यम से अंदर लेने से सिरदर्द, चक्कर आना और सांस लेने में परेशानी जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं।

अलग-अलग फ्रेगरेंस के सेंटेड कैंडल का होता है अलग प्रभाव

एनवायरमेंटल प्रोटक्शन एजेंसी द्वारा प्रकाशित गाइडलाइन के अनुसार एक साथ कई सुगंधों का उपयोग करने से अस्थमा और पुरानी सांस की बीमारियों सहित मौजूदा स्वास्थ्य स्थितियां खराब हो सकती हैं। बच्चों में वयस्कों की तुलना में कम समय में, सेंटेड कैंडल से प्राप्त केमिकल युक्त फ्रेगरेंस की कम खुराक से भी स्वास्थ्य संबंधी जोखिम दिखाई दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें : अनहेल्दी क्रेविंग बढ़ाकर वेट लाॅस मुश्किल बना देता है इन 3 हाॅर्मोन्स का असंतुलन, जानिए इन्हें कैसे बैलेंस करना है

घरेलू केमिकल्स जैसे कि फ्रेगरेंस वाले कैंडल को सख्ती से विनियमित करने के साथ, केमिकल प्रोटेक्शन में काफी सुधार हुआ है, लेकिन पहले की तुलना में लोग घर पर अधिक केमिकल्स का उपयोग करने लगे हैं। ‘हम खुद को सैकड़ों पदार्थों के प्रभाव में लाते हैं, जैसे कि सेंटेड कैंडल्स, रूम फ्रेशनर और दीवार-प्लग कई गंभीर स्वास्थ्य स्थितियां पैदा कर सकती हैं।

कैंडल जलाने से आपको रातों-रात कोई बड़ी बीमारी नहीं होती, लेकिन वे आपके घर में एयर क्वालिटी को खराब करने में योगदान कर सकते हैं।, चित्र- शटरस्टॉक

कैसे कम किया जा सकता है इनका प्रभाव

अपने स्वास्थ्य पर किसी भी नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए कैंडल जलाने का समय सीमित करें। वेजिटेबल और सोया आधारित मोमबत्तियां चुनें, यह एक अधिक स्वास्थ्यवर्धक विकल्प हैं। आपको बिजली की मोमबत्तियों का उपयोग करने पर भी विचार करना चाहिए, यह बिना किसी नुकसान के एंबिएंस को बेहतर रखने में मदद करेंगी और स्वास्थ्य संबंधी खतरों को भी कम कर देती हैं।

हालांकि, कैंडल जलाने से आपको रातों-रात कोई बड़ी बीमारी नहीं होती, लेकिन वे आपके घर में एयर क्वालिटी को खराब करने में योगदान कर सकते हैं। यदि आप अपने घर के अंदर की हवा की गुणवत्ता के बारे में चिंतित हैं, तो यह पता लगाने के लिए एक इनडोर वायु गुणवत्ता परीक्षण शेड्यूल करें। यह बताएगा की आपके घर में वीओसी या मोल्ड, या किसी अन्य टॉक्सिक पदार्थ की क्या स्थिति है, जिन्हें आप सांस के माध्यम से शरीर के अंदर ले रही हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें : पीरियड क्रैंप्स से राहत पानी है और ब्लोटिंग से बचना है, तो रेगुलर चाय की बजाए पिएं ये 4 हर्बल चाय

अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख