ये संकेत बताते हैं कि आप भी कर रहीं हैं वर्किंग मॉम बर्नआउट का सामना, जानिए इसे कैसे कंट्रोल करना है

वर्किंग मॉम की नई भूमिका में खुद को एडजस्ट कैसे करें, ज्यादातर महिलाएं इस दुविधापूर्ण स्थिति से गुजरती हैं। और कभी-कभी बर्नआउट की शिकार भी हो जाती हैं। बर्नआउट के संकेतों को पहचानना और उनका समाधान करना जरूरी है।
अपनी भी मेंटल हेल्थ का ख्याल रखना है ज़रूरी। चित्र शटरस्टॉक।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 12 August 2022, 17:44 pm IST
ऐप खोलें

अपने बच्चों की देखभाल करना एक व्यस्त काम है। यदि आप एक कामकाजी मां हैं, तो आप घर और नौकरी दोनों में तनाव महसूस कर सकती हैं। मांएं, अक्सर अपने बच्चों की देखभाल करते समय अपने स्वयं के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ कर देती हैं, लेकिन समय आ गया है जब आप अपने इस रवैये से थोड़ा आराम करें। आपके लिए अपने दिमाग और शरीर को आराम देना और तनाव मुक्त तरीके से एक वर्किंग मॉम बनना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

बिना ब्रेक के लगातार काम करना आपके शरीर को शारीरिक और मानसिक रूप से थका सकता है। शारीरिक और मानसिक जलन की हद तक काम न करें। वर्किंग मदर के तौर पर बर्नआउट के बारे में आपके लिए जानना जरूरी है। यदि आप चीजों को संतुलित रखने में असमर्थ हैं और बर्नआउट के लक्षणों से गुजर रही हैं, तो इसका हल ढूंढना चाहिए।

वर्किंग मॉम बर्नआउट के लक्षण

आप कार्यों को पूरा न कर पाना
चीजों और लोगों के बारे में चिढ़चिड़ा महसूस करना
शारीरिक और मानसिक थकावट
नींद न आना या अनिद्रा
ऐसे काम नहीं करना चाहते जिन्हें करने में आपको मज़ा आया हो
चीजों पर नियंत्रण की कमी से आप निराश महसूस कर सकती हैं।
आप वर्क लाइफ बैलेन्स बनाए रखने में असमर्थ हैं

बर्नआउट महसूस किए बिना वर्किंग मॉम बनने के टिप्स

1. गिल्ट फील न करें

माएं आमतौर पर खुद के लिए समय निकालने के लिए दोषी महसूस करती हैं। वे सोचती हैं कि जब वे अपने बच्चों के साथ समय बिता सकती हैं तो आराम करना स्वार्थी है। मगर याद रखें कि आप अपने बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम तभी एन्जॉय कर पाएंगी जब आप शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होंगे।

2. एक बैलेन्स बनाना

आपको अपनी सीमाएं निर्धारित करने और अपने समय का प्रबंधन करने की आवश्यकता है। काम और परिवार के लिए कुछ समय निकालें लेकिन आराम करने के लिए भी समय निकालना न भूलें।

3. अपना एक शौक चुनें

एक नया शौक शुरू करने से न केवल आपको आराम मिलेगा बल्कि यह आपके तनाव को शांत करने का एक मजेदार तरीका भी है।

वर्किंग मॉम बर्नआउट से निपटने के टिप्स. चित्र : शटरस्टॉक

4. विश्राम करने का प्रयास करें

योग या मेडिटेशन क्लब में शामिल होना आपके मानसिक स्वास्थ्य के साथ चमत्कार कर सकता है, और एक वर्किंग मॉम बनने की यात्रा को आसान बना सकता है।

5. पर्याप्त नींद लें

सोने से समझौता न करें। कुशलता से काम करने के लिए अच्छी नींद लेना आवश्यक है।

6. व्यायाम

शारीरिक व्यायाम आपको शारीरिक रूप से फिट रहने में मदद कर सकते हैं और आपके तनाव को कम करने में मदद करेंगे।

7. मदद लें

यह स्वीकार करने में कुछ भी गलत नहीं है कि आप थके हुए हैं। अपने आसपास के लोगों से मदद मांगें। अपने जीवनसाथी, परिवार और दोस्तों को उनकी हर संभव मदद करने दें।

8. अपनी तुलना अन्य मांओं से न करें

हो सकता है कि और मॉम्स बहुत अच्छा कर रही हों, लेकिन उनसे अपनी तुलना करना और बर्नआउट की हद तक जाने से आपको कोई मदद नहीं मिलेगी। हर मां, विशेष रूप से वर्किंग मॉम, अपनी स्वयं की समस्याओं से निपटती है। याद रखें कि आप अपना बेस्ट कर रहे हैं।

ये संकेत बताते हैं कि आप भी कर रहीं हैं वर्किंग मॉम बर्नआउट का सामना. चित्र ; शटरस्टॉक

कब है किसी प्रोफेशनल से हेल्प की जरूरत?

क्या बर्नआउट आपको अपना बेस्ट देने से रोक रहा है? क्या यह आपको उदास, डिस्कनेक्ट या चिंतित महसूस करवा रहा है? यदि आप अपने दम पर बर्नआउट से निपटने में असमर्थ हैं, तो आपको प्रोफेशनल मदद की आवश्यकता हो सकती है। ऐसा करने का कोई “सही समय” नहीं है। यह आपको तय करना है। जब मूड खराब, निराशा या डिमोटिवेशन की भावना लगातार बनी रहती है, तो आपको उपचार पर विचार करना चाहिए।

तनाव और चिंता के संकेतों की उपेक्षा करने से न केवल आप, बल्कि आपके आस-पास के सभी लोग प्रभावित होंगे, जिसमें आपके बच्चे भी शामिल हैं। आपका मानसिक स्वास्थ्य सीधे आपके बच्चों को प्रभावित करता है। यदि आप अपने मानसिक स्वास्थ्य के बारे में कुछ नहीं करना चुनते हैं, तो यह लंबे समय में खराब हो सकता है

एक मां के लिए बहुत जरूरी है वर्क लाइफ बैलेन्स

रोजमर्रा की भागदौड़ के साथ मॉम बर्नआउट काफी आम हो गया है। वर्क लाइफ बैलेन्स बनाए रखने के लिए आपको अपनी सीमाएं निर्धारित करने की आवश्यकता है। सेल्फ लव के लिए ब्रेक लेने में संकोच न करें क्योंकि यह आपको स्वार्थी नहीं बनाता है।

यह भी पढ़ें : गुस्सा किसी को, कभी भी आ सकता है, इन 5 तरीकों से करें खुद को शांत

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story