शादी करने वाली हैं , तो सात फेरों से पहले इन 7 मुद्दों पर जरूर करें बात

पैसे और बच्चे हों या रिलेशनशिप में प्राथमिकता की बात, शादी करने से पहले ऐसे सभी मुद्दों पर ज़रूर बात की जानी चाहिए। ताकि आगे जा कर इन मसलों पर किसी तरह का विवाद
घर बच्चे पैसे और एक दूसरे की प्राथमिकताएं ज़रूर डिस्कस करें, चित्र: शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Updated on: 3 June 2022, 19:18 pm IST
ऐप खोलें

जब आप किसी से शादी करने का फैसला करते हैं, तो वास्तव में आप अपने बाकी जीवन के लिए उनसे बंधे रहने और उनके साथ हर उतार-चढ़ाव में होने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर कर रहे होते हैं। इसलिए शादी चाहे लव हो या अरेंज इसे एक ऐसे समझौते की तरह लें, जिसका असर आपके आने वाली पूरी ज़िन्दगी पर पड़ेगा और इसीलिए किसी भी और ज़रूरी समझौते की तरह इसके भी सभी नियमों और शर्तों को अच्छी तरह से पढ़ना बेहद आवश्यक है। प्रेम बेशक एक सुखी वैवाहिक जीवन की आधारशिला है, लेकिन ऐसी कई बातें हैं जिन पर निर्णय लेने से पहले चर्चा की जानी चाहिए। इन बातों को अगर नजरअंदाज किया जाए, तो वे बाद में विवाद का कारण बन सकती हैं।

 1 बेबी प्लान 

शादी के बंधन में बंधने से पहले, आपको और आपके साथी को इस बात पर चर्चा करनी चाहिए कि क्या आप बच्चे चाहते हैं और यदि हां, तो कब और कितने। इस बारे में बात करना भी अच्छा है कि आप अपने बच्चों की परवरिश कैसे करना चाहते हैं – चाहे आप परम्परागत पेरेंट्स बनना  चाहते हैं या उन्हें पूरी स्वतंत्रता देना चाहते हैं, बात करें कि उन्हें कैसे अनुशासित करना है और आप उन्हें किस तरह के वैल्यूज़ देने के पक्षधर हैं।

इन मामलों में एक ही पेज पर होना यानी सहमति और म्युचुअल कंसेंट महत्वपूर्ण है। अगर आप एक-दूसरे से सहमत नहीं होते हैं, तो यह आपके विवाह को एक दुखदायी बनाने वाली बात हो सकती है।

 2 आर्थिक प्लान 

शादी को बरकरार रखने के लिए प्यार ही काफी नहीं है। पैसे की समस्या अक्सर विवाद का एक गंभीर कारण बन जाती है। किसी से शादी करने से पहले यह जान लें कि उनका पैसों से क्या रिश्ता है। यह जानना बेहद ज़रूरी है कि वे पैसे खर्च करने में भरोसा करते हैं या सेविंग्स में यकीन करते हैं?
यह देखना बेहद ज़रूरी है कि आप दोनों इस मामले में एक जैसी सोच रखते हैं या नहीं। यह हमेशा एक ऐसा साथी रखने में मदद करता है, जो उनके वित्त के लिए जिम्मेदार हो।

 3 उबाऊ काम

दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है। फाइनली यह महसूस किया गया है कि महिलाओं को शादी के बाद काम करने से रोकना और उन्हें रसोई तक सीमित रखना कितना अनुचित है। साथ ही, यह भी कि पुरुषों के लिए परिवार का एकमात्र कमाने वाला होना कितना बोझिल है।
ज़्यादातर जोड़े आज जिम्मेदारियों को बांटने को तैयार होते हैं, लेकिन कई अब भी पुराने तरीकों में फंसे हैं। अपनी विचारधाराओं और अपेक्षाओं को शादी से पहले ही एक-दूसरे के सामने बिना किसी आदर्शवाद को फॉलो किए बेबाकी से रखना आने वाले आपके जीवन के लिए बेहतर है।

अपने पार्टनर से बेबाकी से अपनी प्राथमिकताएं साझा करें। चित्र : शटरस्टॉक

 4 घर की प्लानिंग 

आप जहां रहते हैं, वह आपके द्वारा लिए गए सबसे महत्वपूर्ण निर्णयों में से एक है, क्योंकि यह आपके जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करता है – करियर, रिश्ता हो या बच्चे। शादी से पहले अपने साथी के साथ ‘घर’ और उससे जुड़े आपके विचार पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है। आप कहां बसना या रहना चाहते हैं? घर कितना बड़ा होना चाहिए? अगर आपको काम के लिए बाहर जाने का मौका मिलता है, तो क्या आप परिवार के साथ रहने को प्राथमिकता देंगे? इन बातों को करना बेहद ज़रूरी है।

 5 कुछ आदतें

हर किसी की कुछ अच्छी आदतें होती हैं और कुछ बुरी। जब तक वे किसी की दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के आड़े नहीं आती, तब तक ठीक है। किसी से शादी करने से पहले, आपको अपनी और उनकी आदतों के बारे में विस्तार से बात करनी चाहिए, और यह तय करना चाहिए कि क्या आप दोनों उनमें से अधिकांश के साथ एडजस्ट कर सकते हैं या नहीं। एक-दूसरे के साथ सामंजस्य बिठाने के लिए अगर आप तैयार हों, आपको तभी आगे बढ़ना चाहिए। 

 6 संवाद और सोशल मीडिया 

कहते हैं कम्यूनिकेशन इज़ द की यानी संवाद ही एक मात्र तरीका है। साथी के साथ बात करना बहुत ज़रूरी है, यह आपके रिश्ते में स्पष्टता, पारदर्शिता और विश्वास की भावना ला सकता है। संवाद आप दोनों के बीच एक कनेक्ट पैदा करेगा, जिससे आपका रिश्ता मज़बूत होगा।

 कुछ लोगों को सोशल मीडिया पर अपनी लाइफ शेयर करने में मजा आता है, तो कुछ को अपनी प्राइवेसी प्यारी होती है। एक रिश्ते में, यह जानना महत्वपूर्ण है कि क्या आपका साथी ऑनलाइन दस्तावेज़ीकरण में आपके साथ सहज है और सहमति देता है या निजता को पसंद करता है और इस माध्यम से दूर ही रहता है।

एक दूसरे को समझें। चित्र : शटरस्टॉक

 7 प्रोफेशन और अंतरंगता 

कुछ महिलाएं शादी के बाद काम से पीछे हट जाती हैं, जबकि अन्य इसे हर चीज से ऊपर प्राथमिकता देती हैं। यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपका साथी किस श्रेणी में आता है, ताकि आप बाद में उनके कार्यों से निराश न हों।

 सेक्स किसी भी रिश्ते का अहम हिस्सा होता है, लेकिन हर किसी की सेक्स ड्राइव अलग होती है। इसके अलावा, जब अंतरंगता की बात आती है तो हर व्यक्ति की अपनी प्राथमिकताएं होती हैं। कुछ लोग भावनात्मक अंतरंगता को हर चीज से ऊपर महत्व देते हैं, जबकि कुछ को शारीरिक अंतरंगता सबसे महत्वपूर्ण लगती है। शादी करने का मतलब है पूरी ज़िन्दगी साथ निभाना और एक दूसरे की प्राथमिकताओं और पसंद को समझना ऐसे में यह जानना ज़रूरी है कि जाना जाए कि आपका साथी आपकी आवश्यकताओं और सीमाओं को कितना समझता है।

यह भी पढ़ें: तांबे के बर्तन में पानी पीने के ये 8 स्वास्थ्य लाभ आपको भी बना देंगे इनका दीवाना

लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
Next Story