लॉग इन

शिशुओं और बच्चों को भी हो सकती है पेट में गैस की समस्या, मेरी मम्मी बता रहीं हैं 6 प्रभावी उपाय

गैस और एसिडिटी सिर्फ वयस्कों को ही नहीं, बल्कि छोटे बच्चों और शिशुओं को भी परेशान कर सकती है। इसलिए यह जरूरी है कि उनके खानपान के साथ ही आप कुछ चीजों के बारे में जानें।
बच्चे फाइबर वाले आहार का सेवन कम करते हैं या पर्याप्त तरल पदार्थों की कमी करते हैं, उन्हें कब्ज होने का खतरा अधिक हो सकता है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 25 Jun 2023, 05:00 pm IST
ऐप खोलें

शिशुओं और छोटे बच्चों में, पाचन तंत्र अभी भी विकसित हो रहा होता है और हो सकता है कि यह ठीक से काम न करे। इससे पाचन धीमा हो सकता है, जिससे गैस संचय और कब्ज हो सकता है। जो बच्चे फाइबर वाले आहार का सेवन कम करते हैं या पर्याप्त तरल पदार्थों की कमी करते हैं, उन्हें कब्ज होने का खतरा अधिक हो सकता है। फाइबर मल को बल्क जोड़ने में मदद करता है और नियमित मल त्याग को बढ़ावा देता है।

कुछ बच्चों में लैक्टोज या ग्लूटेन जैसे कुछ खाद्य पदार्थों के प्रति संवेदनशीलता या असहिष्णुता हो सकती है, जिससे पाचन संबंधी परेशानी, गैस और कब्ज हो सकती है। शारीरिक गतिविधि की कमी मल त्याग को धीमा कर सकती है और कब्ज को बढ़ा सकती है। आज आपको बताते है कि आगर आपके बच्चे भी इसी तरह की पाचन संबंधी समस्या है तो आप उसे कैसे ठीक कर सकते है।

बच्चों में गैस और कब्ज से राहत पाने के लिए क्या उपाय करने चाहिए इस बारे में हमें ज्यादा जानकारी दी डायटिशियन और वेट लॉस एक्सपर्ट शिखा कुमारी ने, शिखा कुमारी बताती है कि बच्चों में गैस और कब्ज को खत्म करने के कई उपाय है

बच्चों को कब्ज और गैस से राहत दिलाने के उपाय

1 कोशिश करें कि बच्चा डकार ले

बच्चे को हर बार दूध पिलाने के बाद डकार लेने के लिए कहें ताकि फंसी हुई गैस को बाहर निकालने में मदद मिल सके। धीरे से अपने बच्चे को अपने कंधे के सामने सीधा पकड़ें या उन्हें अपनी गोद में बिठाएं और उनकी पीठ को थपथपाएं या रगड़ें इससे बच्चे को डकार लेने में मदद मिलेगी।

शारीरिक गतिविधि की कमी मल त्याग को धीमा कर सकती है और कब्ज को बढ़ा सकती है। चित्र : अडोबी स्टॉक

2 बच्चे को पेट के बल लिटाएं

बच्चों के लिए एक टमी टाइम बनाएं, टमी टाइम से पाचन और गैस में मदद मिल सकती है। बच्चे को पेट के बल लिटाएं और कुछ समय के लिए उसके साथ आप भी करें ताकि बच्चा इसे आराम में करे। इससे बच्चे के पेट से गैस को बाहर निकाला जा सकता है।

3 साइकिल की तरह पैर घुमाएं

रात में सोते समय जब बच्चा अपनी पीठ के बल लेटा हो तो उसके पैरों को धीरे से साइकिल की गति में घुमाएं। यह घूमाव पाचन तंत्र को उत्तेजित करने और गैस से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है। इसे धीरे धारे करें।

4 मालिश करें

मालिश करने के कई तरह की समस्या से राहत मिलने में मदद होती है। सर्कुलर स्ट्रोक का उपयोग करके धीरे-धीरे अपने बच्चे के पेट को घड़ी की गति में मालिश करें। यह मल त्याग को प्रोत्साहित करने और गैस से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

बच्चों के लिए एक टमी टाइम बनाएं, टमी टाइम से पाचन और गैस में मदद मिल सकती है।

5 पर्याप्त तरल पदार्थ का सेवन

सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड है, खासकर अगर उसे कब्ज है। यदि आपका बच्चा स्तनपान कर रहा है, तो सुनिश्चित करें कि आप बच्चे की मांग पर उसे दुध पीला दें। क्योंकि स्तन के दूध में प्राकृतिक लैक्सेटिव प्रभाव होता है। यदि आपका बच्चा फॉर्मूला दूध पीता है, तो अपने बाल रोग विशेषज्ञ से उचित हाइड्रेशन के बारे में सलाह लें।

6 आहार ठीक से प्लान करें (बड़े बच्चों के लिए)

यदि आपके बच्चे ने ठोस आहार शुरू कर दिया है, तो आप फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे प्यूरीड प्रून, नाशपाती या सेब बच्चे को खीला सकती है। ये फल मल को नरम करने और कब्ज दूर करने में मदद कर सकते हैं। कोई भी आहार परिवर्तन करने से पहले हमेशा अपने बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लें।

ये भी पढ़े- यौन क्षमता ही नहीं, मस्तिष्क और हृदय स्वास्थ्य में भी सुधार करता है शिलाजीत, जानिए ये कैसे काम करता है

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

संध्या सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख