लॉग इन

लाल तरबूज से भी ज्यादा पौष्टिक है पीला तरबूज, जानिए दोनों में अंतर और दोनों के फायदे

उत्तर भारत में लाल तरबूज सबसे ज्यादा खाया जाता है। मगर पीले रंग का तरबूज भी आजकल मॉल और ऑनलाइन स्टोर पर आसानी से मिलने लगा है। जानते हैं क्या है लाल और पीले तरबूज के बीच अंतर
तरबूज में विटामिन ए और सी की उच्च मात्रा पाई जाती है। इसके सेवन से शरीर में संक्रमण का प्रभाव कम होने लगता है। चित्र : अडोबीस्टॉक
ज्योति सोही Published: 16 May 2024, 14:07 pm IST
ऐप खोलें

गर्मी में डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पानी पीने के अलावा रसीले फलों का सेवन किया जाता है। इन्हीं फलों में से एक है तरबूज़। 90 फीसदी पानी से भरा तरबूज अपने लाल रंग के कारण खूब आकर्षित करता है। पर यह सिर्फ लाल ही नहीं होता, बल्कि हरा, सफेद और पीले रंग का तरबूज भी इन दिनों खूब पसंद किया जा रहा है। इन सभी में पोषक तत्वों का भंडार होता है। उत्तर भारत में लाल तरबूज सबसे ज्यादा खाया जाता है। मगर पीले रंग का तरबूज भी आजकल मॉल और ऑनलाइन स्टोर पर आसानी से मिलने लगा है। क्या यह भी आपके लिए उतना ही हेल्दी है? आइए चेक करते हैं, पर इससे पहले जानते हैं क्या है लाल और पीले तरबूज के बीच (Red vs yellow watermelon) अंतर।

जानें लाल और पीले तरबूज में क्या है अंतर (yellow watermelon vs red watermelon benefits)

क्या है पीला तरबूज

इस बारे में न्यूट्रीशनिस्ट आर्या जगुश्ते बताते हैं कि पीले तरबूज (Yellow watermelon) में बीटा.कैरोटीन, विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। इसमें कार्बोहाइड्रेट का स्तर कम होता हैं। इसके सेवन से शरीर का इम्यून सिस्टम मज़बूत बनता है। पीले रंग का तरबूज पूरी तरह से नेचुरल है। 5000 साल पहले अफ्रीका में यह तरबूज पाया गया था। 1 कप पीले तरबूज में 46 कैलोरीज़ पाई जाती हैं।

पीले तरबूज में बीटा.कैरोटीन, विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। चित्र : अडोबीस्टॉक

जानिए लाल तरबूज के बारे में

लाल तरबूज में लाइकोपीन की मात्रा पाई जाती है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा हृदय रोग को रोकने में मदद करते हैं। इसके सेवन से इम्यून सिस्टम को मज़बूती मिलती है। लाल और हल्के गुलाबी तरबूज पूरी तरह से नेचुरल हैं। ये सबसे पहले नार्थ इस्टर्न अफ्रीका में पाए गए।

इस बारे में डायटीशियन मनीषा गोयल बताती हैं कि जहां पीला तरबूज़ अपनी मिठास के लिए मशहूर है, वहीं लाल तरबूज आसानी से मिलने वाला सुपरफूड है। इस फल के सेवन से शरीर को ज़रूरी पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है और शरीर निर्जलीकरण की समसया से बचा रहता है। वहीं पीला तरबूज लाइकोपीन और बीटा कैरोटीन से भरपूर होता है। मगर लाल तरबूज में पाए जाने वाले पोषक तत्व पीले तरबूज से ज्यादा शरीर को फायदा पहुंचाते हैं।

क्यों लाल तरबूज से ज्यादा खास बताया जा रहा है पीला तरबूज (yellow watermelon benefits in Hindi)

फूड एंड साइटीफिक रिपोर्ट के अनुसार पीले तरबूज में लाल तरबूज (Red watermelon) की तुलना में ज्यादा बीटा.कैरोटीन पाया जाता है। इस एंटीऑक्सिडेंट की मदद से शरीर में कैंसर और आंखों से संबधी बीमारियों से बचा जा सकता है। पीला तरबूज लाल तरबूज़ से 16 से 18 फीसदी ज्यादा मीठा होता है। इसमें लाइकोपीन, अमीनो एसिड, विटामिन सी, ई, के, आयरन और पोटेशियम पाया जाता है।

यहां जानिए पीले तरबूज के सेहत लाभ (Health benefits of Yellow watermelon)

1. इम्यून सिस्टम को बनाए मज़बूत

पीले तरबूज में विटामिन ए और सी की उच्च मात्रा पाई जाती है। इसके सेवन से शरीर में संक्रमण का प्रभाव कम होने लगता है। इसके सेवन से शरीर को मैग्नीशियम, सिलेनियम, फासफोरस, प्रोटीन और नियासिन की प्राप्ति होती है। पीले तरबूज में मौजूद विटामिन सी आयरन को एब्जॉर्ब करने में मदद करता है। वहीं विटामिन ए आंखें और त्वचा के लिए फायदेमंद है।

2. ब्लड प्रेशर को करे नियंत्रित

एनआईएच के अनुसार तरबूज में साइट्रलाइन होता है, जो एक फाइटोन्यूट्रिएंट है। इसकी नियमित मात्रा शरीर को हाई ब्लड प्रेशर के खतरे से बचाने में मदद करती है। रक्तचाप को कम कर सकता है। साइट्रलाइन को कई एंजाइमों की मदद से आर्जिनाइन में परिवर्तित किया जाएगा। इससे शरीर में ब्ल्ड प्रेशर नियमित बना रहता है।

3. कोलेजन की मात्रा को बढ़ाएं

हेल्थ के अलावा स्किन के लिए भी पीला तरबूज़ फायदेमंद है। इसमें पाई जाने वाले विटामिन ए, बी6 और सी की मात्रा से त्वचा की इलास्टीसिटी को बनाए रखने में मदद मिलती है। इससे शरीर में ब्लड का फ्लो नियमित बना रहता है और डेड स्किन सेल्स को रिपेयर करने में भी मदद मिलती है।

इसमें पाई जाने वाले विटामिन ए, बी6 और सी की मात्रा से त्वचा की इलास्टीसिटी को बनाए रखने में मदद मिलती है।चित्र : अडोबीस्टॉक

4. वेटलॉस में मददगार

तरबूज में 90 फीसदी पानी की मात्रा पाई जाती है। वेटलॉस के लिए इस लो कैलोरी फूड का सेवन करने से शरीर में जमा अतिरिक्त कैलोरीज़ की समस्या से बचा जा सकता है। यूएसडीए के अनुसार पीले तरबूज की 100 ग्राम सर्विंग में केवल 30 कैलोरी पाई जाती हैं। इसके सेवन से शरीर को आर्जिनिन नाम के अमिनो एसिड की भी प्राप्ति होती है, जो कैलोरीज़ को बर्न करने में मददगार साबित होता है।

लाल तरबूज क्यों है खास

वहीं लाल तरबूज में लाइकोपीन की उच्च मात्रा पाई जाती है। लाइकोपीन एक ऑर्गेनिक पिगमेंट है, जो लाल फलों और सब्जियों में पाया जाता है। इसके सेवन से शरीर में कैंसर, अस्थमा और आंखों से जुड़ी समस्याओं का खतरा कम हो जाता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

इन फायदों के लिए लाल तरबूज को भी करना चाहिए डाइट में शामिल (Red watermelon health benefits)

1. शरीर को करे डिटॉक्स

तरबूज में विटामिन और मिनरल्स के अलावा फाइबर की भी मात्रा पाई जाती है। इससे डाइजेशन बूस्ट होता है और शरीर में मौजूद विषैले पदार्थों को डिटॉक्स करने में मदद मिलती है। शरीर को एसिडिटी, ब्लोटिंग और अपच से राहत मिलती है और बॉवल मूवमेंट नियमित बना रहता है।

2. हृदय संबधी रोगों से राहत

लाल तरबूज में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसके सेवन से शरीर को मैग्नीशियम, पोटेशियम और विटामिन ए,बी और सी पाया जाता है। इससे शरीर में स्ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार तरबूज में साइट्रलाइन पाया जाता है। ये अमिनो एसिड शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के स्तर को बढ़ाता है। इससे रक्त वाहिकाओं को ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

इसमें वॉटर कंटेट और फाइबर की अधिकता के चलते इससे लंबे वक्त तक पेट भरा हुआ लगता है।चित्र: शटरस्टॉक

3. जोड़ों के दर्द व सूजन से राहत

इस सुपरफूड में बीटा.क्रिप्टोक्सैंथिन नाम का एक नेचुरल पगिमेंट पाया जाता है। इससे जोड़ों में बढ़ने वाले दर्द और इंफ्लामेशन से राहत मिलती है। इसके नियमित सेवन से शरीर ऑस्टियोपोरोसिस या रूमेटोइड जैसी अर्थराइटिस जैसी समस्याओं से बच जाता है।

4. कैंसर के जोखिम को करे कम

इस पौष्टिक फल में कई प्लांट कंपाउड पाए जाते हैं। इसमें मौजूद लाइकोपीन और कुकुर्बिटासिन ई शरीर में कैंसर के प्रभावों को कम करने में मदद करते हैं। एनआईएच के अनुसार लाइकोपीन को आहार में शामिल करने से शरीर में प्रोस्टेट और कोलोरेक्टल कैंसर की संभावना कम हो जाती है।

ये भी पढ़ें- इस मौसम में स्किन का बेस्ट फ्रेंड है तरबूज, इन 4 स्टेप्स में आप भी घर पर कर सकती हैं वॉटरमेलन फेशियल

ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख