रेड लाइट थेरेपी 101: जानिए ये नया ट्रीटमेंट आपकी त्वचा के लिए कैसे चमत्कार कर सकता है

माना जाता है कि रेड लाइट थेरेपी फाइन लाइन्स और झुर्रियों से लेकर दाग-धब्बों तक त्वचा की कई समस्याओं से निपटने में फायदेमंद होती है। आइये जानते हैं इसके बारे में सबकुछ!
रेड लाइट थेरेपी आपकी स्किन के लिए चमत्कार कर सकती है. चित्र ; शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 20 July 2021, 14:10 pm IST
ऐप खोलें

रेड लाइट थेरेपी एक ऐसी तकनीक है जो त्वचा की समस्याओं जैसे कि फाइन लाइन्स, झुर्रियों और दाग-धब्बों को खत्म करने के लिए रेड लाइट का उपयोग करती है। एक ऐतिहासिक दृष्टिकोण से, इस तकनीक का उपयोग पहली बार वैज्ञानिकों द्वारा अंतरिक्ष में पौधों को विकसित करने में मदद करने के लिए किया गया था।

इस दौरान यह पता चला था कि रेड लाइट एम्मिटिंग डायोड (एलईडी) से तीव्र प्रकाश पौधों की कोशिकाओं के प्रकाश संश्लेषण को बढ़ावा देने में मदद करता है।

कैसे काम करती है यह थेरेपी?

इस थेरेपी में शरीर को कम वेवलेंथ वाली रेड लाइट के सामने रखा जाता है। यह रेड लाइट त्वचा में प्रवेश करती है ताकि त्वचा कोशिकाओं द्वारा इसे आसानी से अवशोषित किया जा सके। अवशोषण पर, त्वचा कोशिकाएं एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट का उत्पादन करती हैं। जो सभी कोशिकाओं के लिए एक ऊर्जा स्रोत है। ऊर्जा में वृद्धि कोशिकाओं को जीवंत करने में मदद करती है।

रेड लाइट त्वचा कोशिकाओं में जैव रासायनिक प्रभाव को ट्रिगर करती है, माइटोकॉन्ड्रिया को मजबूत करती है, जो कोशिकाओं का पावरहाउस है। इस थेरेपी का लाभ यह है कि यह अन्य लेजर पल्स थेरेपी के विपरीत है, यह त्वचा की सतह को नुकसान नहीं पहुंचाती।

त्वचा के लिए कैसे लाभदायक है रेड लाइट थेरेपी

यह थेरेपी त्वचा को फिर से जीवंत करने में मदद करती है:

जानिए त्वचा पर रेड लाइट थेरेपी कैसे काम करती है. चित्र : शटरस्टॉक

1. कोलेजन और फाइब्रोब्लास्ट उत्पादन को बढ़ा देती है

यह तकनीक आपकी त्वचा की कोशिकाओं को सक्रिय करेगी और आपकी त्वचा को लोच प्रदान करके कोलेजन उत्पादन को बढ़ाएगी। कोलेजन स्वस्थ त्वचा लोच के लिए जिम्मेदार एक प्रोटीन है, और जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, कोलेजन टूट जाता है, जिससे आपके शरीर के लिए इसका पर्याप्त उत्पादन करना मुश्किल हो जाता है।

रेड लाइट ट्रीटमेंट त्वचा को हाइड्रेट करने और फाइब्रोब्लास्ट उत्पादन को बढ़ाने, कोलेजन को संश्लेषित करने और त्वचा को कसने और घावों को ठीक करने में मदद करता है। फाइब्रोब्लास्ट का बढ़ा हुआ उत्पादन त्वचा की सूजन को कम कर सकता है क्योंकि फाइब्रोब्लास्ट में वृद्धि के साथ संक्रमण के खिलाफ त्वचा की प्रतिरक्षा में सुधार होता है।

2. सेल डैमेज से बचाती है

कम वेवलेंथ वाली रेड लाइट ऊतक कोशिकाओं में रक्त के संचलन को उत्तेजित करती है। यह त्वचा को डैमेज से बचाने में मदद करती है क्योंकि ऑक्सीजन त्वचा के ऊतकों तक पहुंचती है, जिससे इसे मृत कोशिकाओं को पुन: उत्पन्न करने की ऊर्जा मिलती है।

अच्छे सर्कुलेशन से त्वचा की कोशिकाओं में mRNA भी बढ़ती है, जो बैक्टीरिया और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है और चेहरे की बनावट में भी सुधार करते हैं।

आपको निखार देगी रेड लाइट थेरेपी। चित्र : शटरस्टॉक

3. त्वचा में चमकदार और ग्लो लाती है

यह तकनीक माइटोकॉन्ड्रिया को मजबूत करती है, जिससे त्वचा की कोशिकाओं के ऊर्जा स्तर को बढ़ावा मिलता है, फाइन लाइन्स और झुर्रियां जैसी समस्याएं प्रबंधनीय हो जाती हैं। इस थेरेपी के परिणामस्वरूप त्वचा फिर से जीवंत हो जाती है और कोमल और ताजा महसूस करती है।

कोलेजन उत्पादन में वृद्धि भी त्वचा को मॉइस्चराइज करने में मदद करती है, और छिद्रों से गंदगी और तेल को साफ करना आसान बनाती है। यह ब्रेकआउट और मुंहासों को रोकेगा, और एक समान त्वचा प्रदान करके रंग में सुधार करती है। यह थेरेपी यूवी किरणों से होने वाले नुकसान को कम करने और घावों को भी ठीक करती है।

तो लेडीज, एक चिकित्सक से परामर्श करें और स्वस्थ और चमकती त्वचा के लिए इस ट्रीटमेंट को आजमाएं।

यह भी पढ़ें : मम्मी कहती हैं, सप्ताह में दो बार कोकोनट ऑयल चंपी दिला सकती है मानसून हेयर फॉल से राहत

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story