आपकी बोन्स और हार्ट हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकता है जरूरत से ज्यादा प्रोटीन, जानिए इसके 3 साइड इफैक्ट

बैलेंस्ड डाइट में प्रोटीन अहम भूमिका निभाता है और यह पूरे शरीर के लिए लाभकारी होता है, लेकिन जब आप जरूरत से ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करती हैं, तो ये आपके लिए जोखिम बढ़ा भी सकता है।
प्रोटीन एक प्रकार के मॉलिक्यूल होते हैं। चित्र शटरस्टॉक
निशा कपूर Published on: 15 Nov 2022, 11:00 am IST
ऐप खोलें

हेल्दी रहने और बीमारियों से दूर रहने के लिए आपकी डाइट में सभी आवश्यक पोषक तत्वों का होना बहुत जरूरी है। अत्यावश्यक पोषक तत्वों में से एक है प्रोटीन। आपकी स्किन, मसल्स, बालों और यहां तक कि मेंटल हेल्थ के लिए भी प्रोटीन का सही मात्रा में होना जरूरी है। यही वजह है कि फिटनेस फ्रीक्स अकसर प्रोटीन शेक या हाई प्रोटीन डाइट लेते हैं। पर शायद आप नहीं जानतीं कि एक तय मात्रा से ज्यादा प्रोटीन का सेवन भी आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। आइए जानते हैं हाई प्रोटीन डाइट (High protein diet side effects) के साइड इफैक्ट्स।

ज्यादा प्रोटीन आपके शरीर के लिए कैसे जोखिम भरा हो सकता है इस मामले में जानकारी लेने के लिए हमने एक्सपर्ट से बात की है तो चलिए जानते हैं हाई प्रोटीन डाइट (High Protein Diet) आपके लिए कब और कैसे नुकसानदायक हो सकती है।

कहीं आप जरूरत से ज्यादा प्रोटीन तो नहीं ले रहीं? जानिए इसके भी नुकसान। चित्र- शटरस्टॉक।

क्या होता है प्रोटीन और क्या है इसकी जरूरत

प्रोटीन एक प्रकार के मॉलिक्यूल होते हैं, जो बॉडी में अहम भूमिका निभाते हैं। ये मॉलिक्यूल कोशिकाओं में मौजूद होते हैं। प्रोटीन बॉडी के टिश्यू और अंगों की संरचना, कार्य और रेगुलेशन के लिए जरूरी होता है। प्रोटीन, अमीनो एसिड नामक छोटी इकाइयों से बनता हैं, जो चेन्स में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं।

20 अलग-अलग तरह के अमीनो एसिड से मिलकर प्रोटीन बनता है। वहीं, पाचन के समय प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ अमीनो एसिड के भागों में टूट जाते हैं। अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए इन अमीनो एसिड की जरूरत एक बड़ी मात्रा में होती है।

प्रियांशी भटनागर हॉलीस्टिक नुट्रिशन कोच (Holistic Nutrition Coach) हैं और वे कहती हैं यह फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी सहित अन्य पोषक तत्वों की आपकी खपत को पूरा कर सकता है। संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए संतुलित भोजन आवश्यक है। बहुत अधिक प्रोटीन खाने से आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छे से ज्यादा नुकसानदेह हो सकता है।

यह भी पढ़े- प्रदूषण और बदलते मौसम में जानिए कैसे रखना है अपने बालों का ख्याल

एक्सपर्ट कहती हैं कि लंबे समय तक बहुत अधिक प्रोटीन का सेवन करने से आपकी किडनी, लीवर और हड्डियों पर मेटाबॉलिक दबाव पड़ता है और कैंसर और हृदय रोगों का खतरा बढ़ सकता है।

1 हार्ट हेल्थ के लिए नुकसानदायक

हाई प्रोटीन के सेवन से ह्रदय रोगों का जोखिम अधिक बढ़ जाता है। यदि आप अधिक प्रोटीन का इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह आपके हार्ट के लिए एक खतरा बन सकता है। इससे हार्ट अटैक का खतरा बहुत अधिक रहता है।

2 किडनी को पहुंचाता है नुकसान

अधिक प्रोटीन का सेवन किडनी के लिए भी अच्छा नहीं माना जाता है। जब बॉडी में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है तो किडनी को नाइट्रोजन से छुटकारा पाने में परेशानी होने लगती है। यदि आप किडनी की समस्या से ग्रस्त हैं तो आपको बिल्कुल भी अधिक प्रोटीन का सेवन नहीं करना चाहिए। प्रोटीन के ज्यादा सेवन से किडनी स्टोन का खतरा भी बढ़ जाता है।

अधिक प्रोटीन आपकी बोन हेल्‍थ के दुश्‍मन हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

3 कमजोर हो सकती हैं हड्डियां

प्रोटीन का अधिक सेवन आपकी हड्डियों के लिए भी हानिकारक होता है। इससे हड्डियों में दर्द होने की समस्या होने लगती है। बॉडी में प्रोटीन की अधिक मात्रा कैल्शियम को घटाने लगती है जिससे हड्डियां कमजोर होने लगती हैं।

एक्सपर्ट कहती हैं कि अधिक प्रोटीन का सेवन आपके शरीर को थका सकता है क्योंकि यह आपके गुर्दे, और हड्डियों पर जोर देता है, जिससे उन्हें जरूरत से से ज्यादा कार्य करना पड़ता है। वह आगे कहती हैं, जब आप बहुत अधिक प्रोटीन खाते हैं तो आपको आंतों में परेशानी, अपच, मतली, सिरदर्द और तनाव जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

आपको एक दिन में कितने प्रोटीन की जरूरत होती है?

व्यक्तिगत आधार पर देखा जाए, तो प्रोटीन की जरूरत अलग-अलग होती हैं और अलग-अलग कारकों पर भी निर्भर करती हैं। जैसे कि उम्र, फिजिकल एक्टिविटी और स्वास्थ्य स्थिति। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) द्वारा प्रकाशित एक रिसर्च पेपर के अनुसार, व्यक्ति के प्रतिकिलो वजन के मुताबिक, रोजाना 1.6 ग्राम प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।

इसके मुताबिक, दैनिक रूप से प्रोटीन का सेवन करीब 50 ग्राम होना चाहिए। यह मात्रा कम और अधिक भी हो सकती है। इसलिए इस संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं।

यह भी पढ़े- प्रेगनेंसी में ज्यादा चाय पीना हो सकता है हानिकारक, एक्सपर्ट बता रहीं हैं गर्भ की सेफ्टी के लिए 6 जरूरी टिप्स

लेखक के बारे में
निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग। ...और पढ़ें

Next Story