क्या ओमिक्रोन आपको कोविड-19 के खिलाफ सुपर इम्युनिटी दे सकता है? विशेषज्ञ से जानिए इसका जवाब

कोविड -19 के खिलाफ अच्छी इम्युनिटी का निर्माण किया जा सकता है, यह सोचने से पहले बता दें कि ओमिक्रोन और कम संक्रमण दर के बीच भी एक संबंध है।
ओमिक्रोन का इंफेक्शन रेट पिछले वैरिएंट की तुलना में बहुत ज्यादा है। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 23 February 2022, 17:46 pm IST
ऐप खोलें

हाल ही में, शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है कि कोविड -19 वेरिएंट ओमिक्रोन एक ‘प्राकृतिक वैक्सीन’ के रूप में कार्य कर सकता है। कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि ओमिक्रोन एक ‘हल्के वेरिएंट” के रूप में काम कर रहा है, जो अंततः एक अच्छी बात हो सकती है, जबकि अन्य इससे असहमत हैं। ओमिक्रोन वैरिएंट, जिसमें डेल्टा वैरिएंट की तुलना में एक अतिरिक्त म्यूटेशन है, दुनिया भर में तेजी से फैल रहा है। भले ही लोग हल्के या बिना किसी लक्षण के इससे ग्रस्त हों, लेकिन टीकाकरण की दोनों खुराक लेने वाले लोगों में अस्पताल में भर्ती होने की दर बहुत कम है।

इस आधार पर यह दावा किया जा रहा है कि हमारी अधिकांश आबादी डबल टीकाकरण कर चुकी है या पहले संक्रमित हो चुकी है। जिससे कोविड -19 के खिलाफ प्रतिरक्षा का निर्माण होता है।

पिछले दो वर्षों में, भारत ने कोविड -19 के कई रूपों को देखा है – ओमिक्रोन, डेल्टा, अल्फा, आदि। पहले दो कोविड -19 लहर के दौरान, लोगों ने संक्रमण के बारे में जाना। फिर टीकाकरण अभियान ने वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा बनाने में मदद की। यह वरिष्ठ नागरिकों और मधुमेह, उच्च रक्तचाप और मोटापे वाले लोगों के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित हुआ।

जैसा कि भारत में तीसरी कोरोनोवायरस लहर में देखा गया है, नया ओमिक्रोन वेरिएंट पुराने वेरिएंट की तुलना में पांच गुना अधिक घातक है, लेकिन गम गंभीर है। लोगों में सर्दी, बंद नाक या थकान जैसे लक्षण दिख रहे हैं। हालांकि, यह मानने का कोई कारण नहीं है कि ओमिक्रोन एक प्राकृतिक टीके के रूप में कार्य कर सकता है, या यह कि इससे प्राप्त प्रतिरक्षा लंबे समय तक चलेगी।

क्या ओमिक्रोन संक्रमण कोविड-19 के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रदान कर सकता है?

जो लोग टीका लगवाने के बाद भी वायरस से संक्रमित हो जाते हैं, उनमें कई कारणों से रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है। टीका शरीर को वायरस को पहचानने और उसके खिलाफ प्रतिरक्षा बनाने की अनुमति देता है। साथ ही कभी-कभी किसी अनजान वायरस से लड़ते हुए शरीर अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता खुद बना लेता है।

कोरोना का नया स्ट्रेन कम घातक है. चित्र:शटरस्टॉक

जितना अधिक शरीर वायरस से लड़ेगा, उतना ही यह एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करेगा। लेकिन, उपरोक्त सिद्धांत का समर्थन करने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं है।

हल्के कोविड -19 लक्षणों के लिए क्या जिम्मेदार है?

भारत में, जो लोग ओमिक्रोन से संक्रमित हुए और उन्होंने टीकाकरण की दो खुराकें ली हैं। यह एक कारण हो सकता है कि वे हल्के लक्षण क्यों दिखा रहे हैं, मुख्यतः टीकाकरण-व्युत्पन्न प्रतिरक्षा के कारण होती है। हालांकि, इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि यह प्रतिरोधक क्षमता हमारे शरीर को कब तक सुरक्षित रखेगी। हमें नहीं भूलना चाहिए, कि लापरवाही नहीं करनी है। किसी को इस उम्मीद में नहीं जीना चाहिए कि टीकाकरण या पिछले कोविड -19 संक्रमण से प्रतिरक्षा उन्हें 100 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान करेगी। चूंकि देश में कोविड -19 मामलों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, इसलिए हम सभी को हमेशा सावधानियों और सुरक्षा उपायों का पालन करने की आवश्यकता है।

हम कोविड -19 के खिलाफ प्रतिरक्षा कैसे बनाए रख सकते हैं?

हम सभी को जिम्मेदार नागरिकों की तरह टीकाकरण करने पर ध्यान देना चाहिए। हमारे घरों और कार्यस्थलों के भीतर और बाहर उपयुक्त कोविड -19 मानदंडों का पालन करने की आवश्यकता है।

भले ही ओमिक्रोन एक प्राकृतिक टीके के रूप में कार्य कर सकता है, लेकिन संभावना है कि यह भविष्य के किसी भी प्रकार पर काम नहीं करेगा। इस प्रकार, लोगों को तब तक विश्वास नहीं करना चाहिए जब तक कि सिद्धांत का समर्थन करने के लिए मजबूत सबूत न हों।

यह भी पढ़ें : क्या आपको भी डिंपल पसंद है? एक्सपर्ट बता रहीं हैं इसके बारे में कुछ हैरान कर देने वाले तथ्य

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story