अभी – अभी कोविड से रिकवर हुये हैं? भूल कर भी धूम्रपान न करें! जानिए क्यों

आप कोविड-19 से कितना जल्दी रिकवर हो सकते हैं ये आपके हाथों में है। निम्नलिखित सरल टिप्स से आपके फेफड़ों के स्वास्थ्य में अंतर आ सकता है।
जानिए लंग हेल्थ को मेंटेन करने के लिए क्या खाएं। चित्र:शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 1 April 2022, 12:00 pm IST
ऐप खोलें

भले ही फेफड़े सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक हैं, लेकिन लंबे समय से उनके स्वास्थ्य की अनदेखी होती आई है। हालांकि, कोविड -19 और इसके नए रूपों के प्रभाव ने फेफड़ों के स्वास्थ्य पर ध्यान आकर्षित किया है। यह वायरस सीधे फेफड़ों पर हमला करता है, और यह कोविड -19 के ठीक होने के बाद भी लंबे समय तक नुकसान पहुंचा सकता है।

फेफड़ों पर कोरोनावायरस का प्रभाव हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है। कुछ लक्षण सांस फूलने से लेकर फेफड़ों में जकड़न तक भी भिन्न हो सकते हैं। लक्षण जितने लंबे समय तक बने रहेंगे, फेफड़ों पर प्रभाव उतना ही अधिक हानिकारक होगा।

कोविड -19 फेफड़ों को कैसे प्रभावित करता है?

सांस फूलना और निमोनिया जैसी जटिलताएं कुछ ऐसे लक्षण हैं जो आमतौर पर कोविड -19 से ठीक होने के बाद देखे जाते हैं। चूंकि फोकस फेफड़ों पर होता है, अस्थमा के रोगियों को अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य पर अतिरिक्त ध्यान देने की जरूरत है।

कुछ मरीज कोविड-19 से ठीक होने के बाद सेप्सिस से भी पीड़ित होते हैं। जो न सिर्फ फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है बल्कि दूसरे अंगों को भी संक्रमित कर देता है। अन्य सामान्य फेफड़ों की समस्याएं जो रोगियों को कोविड -19 के ठीक होने के बाद अनुभव हो सकती हैं, उनमें शामिल हैं, कोविड ब्रोंकाइटिस और एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम। यह सब फेफड़ों के दौरे या फेफड़ों के तेज होने की संभावना में योगदान कर सकता है जो सांस की तकलीफ और लगातार खांसी का कारण बन सकता है।

कोविड -19 रिकवरी के बाद अपने फेफड़ों की देखभाल कैसे करें

हालांकि कोविड-19 से उबरने के बाद सांस लेने में तकलीफ या बेचैनी का अनुभव होना बहुत आम है। मगर अच्छे स्वास्थ्य अभ्यासों का पालन करके फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। यह फेफड़ों के जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकता है। इनमें से कुछ टिप्स में शामिल हैं:

1. नियमित व्यायाम

फेफड़ों की क्षमता को धीरे-धीरे बढ़ाने के लिए, प्रतिदिन किसी न किसी रूप में शारीरिक और सांस लेने के व्यायाम में इंगेज होने की सिफारिश की जाती है। पल्मोनरी रीहैबिलेशान (pulmonary rehabilitation) पर ध्यान देना बहुत महत्वपूर्ण है जो सांस की तकलीफ को कम करने और अन्य श्वसन जटिलताओं का प्रबंधन करने में मदद कर सकता है। कार्डियो वर्कआउट भी कोविड -19 रिकवरी के बाद फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाने में फायदेमंद होते हैं।

ब्रीदिंग एक्सरसाइज है फायदेमंद। चित्र:शटरस्टॉक

2. स्वस्थ आहार

न केवल फेफड़ों की क्षमता बल्कि संपूर्ण रूप से प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए दैनिक आहार में एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करना महत्वपूर्ण है। फल, सब्जियां, मेवे, अनाज, दालें शामिल करनी चाहिए और मीठा और प्रोसेस भोजन से बचना चाहिए। साथ ही पानी की मात्रा को बढ़ाना भी जरूरी है।

3. धूम्रपान से बचें

कोविड -19 रिकवरी से उबरने के बाद, फेफड़ों की कार्यात्मक क्षमता को बनाए रखने के लिए धूम्रपान छोड़ना या कम से कम धूम्रपान करना बहुत महत्वपूर्ण है। धूम्रपान न केवल फेफड़ों को कमजोर करता है बल्कि शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों को भी नुकसान पहुंचाता है।

4. नियमित जांच

फेफड़ों के हमलों के जोखिम से बचने के लिए, फेफड़ों को किसी भी क्षति या संक्रमण की संभावनाओं का पता लगाने के लिए हमेशा नियमित जांच कराने की आदत विकसित करनी चाहिए। समय पर निदान से फेफड़ों को स्वस्थ रखना संभव है।

ये टिप्स विशेष रूप से उन रोगियों के लिए महत्वपूर्ण हैं जो हाल ही में कोविड -19 से ठीक हुए हैं। रोगी की अंतर्निहित स्थितियों के आधार पर, जोखिम को कम करने के लिए चिकित्सा या शल्य चिकित्सा उपचार उपयुक्त हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें : कुछ लोग आरटी-पीसीआर टेस्ट में बार-बार कोविड -19 पॉज़िटिव क्यों निकते हैं?

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story