लॉग इन

पीरियड के दौरान फास्टिंग करना सही है या गलत, जानिए क्या कहते है एक्सपर्ट

आपके पीरियड की शुरुआत से एक सप्ताह पहले आपके एस्ट्रोजन का स्तर कम होना शुरू हो जाता है। शरीर में एस्ट्रोजन में गिरावट तनावपूर्ण हो सकती है और कोर्टिसोल के स्तर में वृद्धि का कारण बन सकती है।
हार्मोनल परिवर्तनों को बढ़ा सकता है, जिससे थकान, चिड़चिड़ापन और हार्मोनल असंतुलन बढ़ सकता है। चित्र : एडॉबीस्टॉक
संध्या सिंह Published: 8 Jun 2024, 08:00 pm IST
इनपुट फ्राॅम
ऐप खोलें

चाहे आप धार्मिक कारणों से उपवास कर रहे हों, स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के कारण या फिर सिर्फ़ शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए, आप सोच रहे होंगे कि क्या पीरियड के दौरान भी उपवास जारी रखना सही रहेगा। क्या आपको पीरियड के दौरान उपवास से ब्रेक ले लेना चाहिए? कई बार हम इंटिमिटेंट फास्टिंग, या किसी धार्मिक व्रत को करते है तो हमे पीरियड शुरू हो जाते है। ऐसे में ये दुविधा रहती है कि व्रत रखे की न रखें। कई लोग बोलते है कि इस दौरान व्रत रखने से कमजोरी हो सकती है तो कई लोग धार्मिक कारणों से इसे करने के लिए मना करते है।

पीरियड वाले लोगों और पीरियड न होने वालों के लिए उपवास करना अलग-अलग लगता है। हालांकि, विशेषज्ञों के अनुसार, अगर आप उपवास कर रहे हैं तो आपको अपने पीरियड के सप्ताह के बारे में नहीं बल्कि उससे पहले वाले सप्ताह के बारे में चिंता करनी चाहिए। एक सामान्य मैस्ट्रुएशन साइकिल के दौरान, अगर अंडा फर्टाइल नहीं होता है, तो आपके पीरियड की शुरुआत से एक सप्ताह पहले आपके एस्ट्रोजन का स्तर कम होना शुरू हो जाता है। शरीर में एस्ट्रोजन में गिरावट तनावपूर्ण हो सकती है और कोर्टिसोल के स्तर में वृद्धि का कारण बन सकती है।

इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने संपर्क किया गायनाकॉलोजिस्ट रितू सेठी से।

पीरियड की शुरुआत से एक सप्ताह पहले आपके एस्ट्रोजन का स्तर कम होना शुरू हो जाता है। चित्र : शटरस्टॉक

पीरियड और फास्टिंग को समझे

डेट एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो महिलाओं के शरीर में होती है, जो आमतौर पर हर महीने लगभग 3 से 7 दिनों तक चलती है। इस दौरान, शरीर गर्भाशय की लाइनिंग को बहा देता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्तस्राव, हार्मोनल उतार-चढ़ाव और कभी-कभी असुविधा या क्रैंप होती है। दूसरी ओर, उपवास में एक निश्चित अवधि के लिए भोजन और अक्सर तरल पदार्थों से परहेज करना शामिल है।

मासिक धर्म के दौरान उपवास के कुछ जोखिम

पोषक तत्वों की कमी

फास्टिंग कैलोरी के सेवन को प्रतिबंधित करता है और महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक पोषक तत्वों जैसे आयरन, कैल्शियम और विटामिन की कमी का कारण बन सकता है, जो विशेष रूप से पीरियड के दौरान रक्त की कमी होने पर महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

हार्मोनल असंतुलन

पीरियड के दौरान हार्मोनल उतार-चढ़ाव पहले से ही मूड, ऊर्जा के स्तर और भूख को प्रभावित कर सकते हैं। फास्टिंग इन हार्मोनल परिवर्तनों को बढ़ा सकता है, जिससे थकान, चिड़चिड़ापन और हार्मोनल असंतुलन बढ़ सकता है।

रक्त शर्करा के स्तर पर प्रभाव

फास्टिंग रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकता है, संभावित रूप से उतार-चढ़ाव का कारण बन सकता है जो चक्कर आना, कमजोरी और सिरदर्द जैसे लक्षणों को बढ़ा सकता है, खासकर जब फास्टिंग के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों के साथ।

अगर आप पीरियड जल्दी बुलाना चाहती हैं, तो जानिए आपको क्या खाना चाहिए। चित्र शटरस्टॉक।

पीरियड के दौरान क्रैंप और असुविधा

कुछ महिलाओं को फास्टिंग के दौरान पीरियड में क्रैंप और असुविधा का अनुभव होता है, क्योंकि इस समय शरीर आहार और हाइड्रेशन स्तर में परिवर्तन के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकता है।

पीरियड के दौरान फास्टिंग में रखें इन बातों का ध्यान

व्यक्तिगत स्वास्थ्य स्थिति

डायबिटीज, हाइपोग्लाइसीमिया या एनीमिया जैसी स्वास्थ्य स्थितियों वाली महिलाओं को पीरियड के दौरान फास्टिंग करने पर जटिलताओं का अधिक जोखिम हो सकता है। फास्टिंग करने से पहले डॉक्टर से सलाह करना आवश्यक है, खासकर यदि आपको पहले से कोई चिकित्सा स्थिति है।

हाइड्रेशन का स्तर

पीरियड के दौरान हाइड्रेटेड रहना सूजन, थकान और सिरदर्द जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करने के लिए महत्वपूर्ण है। यदि फास्टिंग में तरल पदार्थों से परहेज करना शामिल है, तो इससे डिहाइड्रेशन हो सकता है, जो पीरियड के लक्षणों और समग्र स्वास्थ्य को खराब कर सकता है।

सांस्कृतिक और धार्मिक विचार

कुछ संस्कृतियों और धर्मों में पीरियड के दौरान फास्टिंग के संबंध में विशिष्ट दिशानिर्देश हैं। व्यक्तिगत स्वास्थ्य और कल्याण को प्राथमिकता देते हुए इन सांस्कृतिक मान्यताओं को समझना और उनका सम्मान करना आवश्यक है।

ये भी पढ़े- World Brain Tumor Day: प्राइमरी स्टेज पर ब्रेन ट्यूमर के संकेतों की पहचान कर मिल सकता है निदान, जानें लक्षण और कारण

संध्या सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख