लॉग इन

सर्दी-जुकाम को और बिगाड़ देती हैं ये 5 चीजें, सख्ती से करें परहेज

ज़्यादातर सर्दी - खांसी - जुकाम इम्युनिटी में कमी और हमारी लापरवाही के कारण होता है। इसलिए यदि आपको भी सर्दी लग गई है, तो इस लेख में दी गई बातों का खास ख्याल रखें, ताकि आपकी हालात ज़्यादा खराब न हो।
गर्मियों में कोल्ड के चलते अक्सर लोगों को बुखार और थकान का सामना करना पड़ता है।। चित्र: शटरस्‍टॉक
ऐप खोलें

सर्दियां यानी सर्दी खांसी जुकाम का मौसम, जिसमें लोग अक्सर बीमार पड़ते हैं। कभी मौसम की मार की वजह से तो कभी लापरवाही की वजह से। मगर, यह ऐसी चीज़ है जो हर किसी को घेर लेती है और फिर जाने का नाम नहीं लेती है। इसकी वजह से हमें अपनी सेहत का खास ख्याल रखने की ज़रूरत है। जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर (weak immunity) होती है, उन्हें काफी जल्दी इन्फेक्शन अपनी चपेट में ले लेते हैं। इसलिए जल्दी रिकवरी के लिए उपचार के साथ-साथ कुछ चीजों से परहेज (things to avoid in cold and cough) करने की भी जरूरत है।

यह ज़रूरी है कि आप बदलते मौसम, खासकर सर्दियों में अपनी सेहत का खास ख्याल रखें। इम्युनिटी बूस्ट करने पर ध्यान दें और सेहत के साथ किसी भी तरह की लापरवाही न बरतें। इसके अलावा, यह भी ध्यान देना ज़रूरी है कि जब आपको सर्दी – जुकाम (cough – cold) हो तब आप कुछ चीजों को अवॉयड करें ताकि आपकी हालत और खराब न हो।

इसलिए आज इस लेख के माध्याम से जानते हैं कि जब आपको सर्दी लगी गई हो और साथ में कफ भी बहुत जाम रहा हो, तब आपको किन चीजों को अवॉयड करना चाहिए।

सर्दी – खांसी – जुकाम से ग्रस्त हैं तो इन 5 चीजों से करें परहेज

1 भूलकर भी न खाएं दही

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन के अनुसार, दही की तासीर ठंडी होती होती, इसलिए खांसी – जुकाम में इसके सेवन से बचें।

कुछ – कुछ लोगों को सर्दियों में दही सूट करता है, तो कुछ के लिए ये नुकसानदेह साबित होता है। वहीं यदि आप इसका रात में सेवन कर रही हैं, तो दही अपनी कफ प्रकृति के कारण शरीर में कफ बनाने में योगदान कर सकता है। इसलिए, जब आपको सर्दी, खांसी, जुकाम हो तो दही भूलकर भी न खाएं।

2 न लें अपनी मर्जी से एंटीबायोटिक्स

हम छोटी-छोटी समस्याओं के लिए भी अपने आप बड़े-बड़े इलाज करने लग जाते हैं। खासतौर से जुकाम में एंटीबायोटिक्स का सेवन। हमें यह समझने की ज़रूरत है कि एंटीबायोटिक्स हर समय काम नहीं करती हैं और सर्दी – खांसी में तो बिल्कुल भी नहीं। क्योंकि, इनका काम है बैक्टीरिया को टार्गेट करना, लेकिन सर्दी वायरस की चपेट में आने से होती है। यह गौर करने की बात है कि एंटीबायोटिक्स जीवाणु संक्रमण के इलाज के लिए डिज़ाइन किए जाते हैं, वायरस नहीं।

हल्दी सर्दी में एंटीबायोटिक्स न लें। चित्र : शटरस्टॉक

3 गला खराब कर सकती हैं खट्टी चीजें

विटामिन C इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है, इसलिए लोग इसका ज़्यादा सेवन करने लगे हैं। मगर सर्दी लग जाने पर भी विटामिन सी के सेवन का कोई खास असर नहीं पड़ता है। विटामिन C के लिए यदि आप नींबू या खट्टे रसदार फलों का सेवन कर रही हैं, तो सर्दी में आपका गला भी खराब हो सकता है। इसलिए, बस गुनगुना पानी पीने की कोशिश करें।

4 पेट और गला दोनों के लिए खराब हैं जंक फूड

जंक और फास्ट फूड वैसे भी स्वास्थ्य के लिए सही नहीं होते हैं। इस तरह के खाने में ऐसे कई तत्व मौजूद होते हैं जिनका कोई पोषण मूल्य नहीं होता है। साथ ही, इसमें पड़ने वाला तेल मसाला, आपके गले को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए, खांसी और जुकाम के दौरान उनसे बचना बेहतर है। इससे आपका पाचन तंत्र भी बिगड़ सकता है, तो सावधानी से खाएं।

इन खाद्य पदार्थों का सेवन बंद करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

5 मीठा खाने से बचें

इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन के कंसल्टेंट – डॉ. निखिल मोदी, नें बताया कि सर्दी के दौरान मीठा खाने से गले में सूजन हो सकती है। साथ ही, ज़्यादा चीनी का सेवन इम्युनिटी को कमजोर करता है। इसलिए हमें इस दौरान मीठी चीजों से बचना चाहिए।

अंत में, दूसरों के संपर्क में आने से बचें

जब आपको सर्दी हो जाएं, तो लोगों से और अपने घर परिवार वालों से थोड़ी दूरी बनाए रखें। इस तरह से आप दूसरों को भी इन्फेक्शन से बचा सकती हैं, नहीं तो उन्हें भी जुकाम हो सकता है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, सर्दी लग जाने पर दूसरों से गले लगने, चूमने या हाथ मिलाने से भी बचें। साथ ही, जब भी आपको खांसी या छींक आए तो मुंह को कपड़े से ढक लें। साथ ही मास्क लगाना न भूलें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें : तन-मन की सेहत दुरूस्त कर सकता है चंदन का तेल, पर इस्तेमाल से पहले जान लें कुछ फैक्ट्स

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं। ...और पढ़ें

अगला लेख