लॉग इन

Breast Sagging : क्या ब्रा पहन कर सोने से स्तनों को ढीला होने से बचाया जा सकता है? जानते हैं इस पर क्या है एक्सपर्ट की राय

आपकी उम्र के अलग-अलग पड़ाव में आपके स्तनों के आकार में परिवर्तन हो सकता है। कभी ये आपको बहुत हैवी फील हो सकते हैं, तो कभी आपको लग सकता है कि ये नीचे की ओर लटकने लगे हैं। पर क्या ब्रा पहनकर सोना इन्हें साइज में रख सकता है?
पोस्ट के जरिए ब्रा से जुड़े कुछ मिथ के साथ उंसके फैक्ट्स भी बताए हैं। चित्र: अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 21 Jul 2023, 06:00 pm IST
ऐप खोलें

हाल में कुछ हॉलीवुड सेलेब्स के इन्स्टाग्राम पोस्ट आये हैं, जिनमें वे ब्रा पहनकर सोने की बात कहती हैं। ऐसी ही एक सेलेब टायरा बैंक ने बताया कि इससे मुझे लगता है कि यह ब्रेस्ट सैगिंग को रोकेगा। यह बूब्स को लटकने नहीं देगा। कुछ लोग इस बात के प्रति सहमति जताते हैं कि ब्रा पहनकर सोना फायदेमंद होता है। कुछ लोग इस बात का दावा करते हैं कि इसके पीछे कोई वास्तविक प्रमाण नहीं है कि यह सैगिंग (breast sagging) को रोकता है। आइये चेक करते हैं कि इस बारे में विशेषज्ञ की क्या राय है।

कैसी होती है ब्रा की डिजाइन (Bra Design for Breast Sagging)

ब्रा को इस तरह डिजाइन किया जाता है कि यह ब्रेस्ट को वर्टिकल पोजिशनिंग में मदद करे। इससे स्तनों को ऊपर धकेल कर नीचे लटकने से रोका जाता है। जब बिस्तर पर लेटा जाता है, तो अधिक क्षैतिज समर्थन (horizontal support) की जरूरत होती है। सोते हुए स्तन आमतौर पर अगल-बगल लटकते रहते हैं। रात में ब्रा पहनने से ज्यादा मदद नहीं मिल सकती है, क्योंकि यह स्तनों को अंदर की बजाय ऊपर की ओर धकेलने के लिए बनाई जाती है। यह संभव है कि कुछ सपोर्ट नहीं मिलने से बेहतर है सपोर्ट मिलना। ब्रा पहनने से ब्रेस्ट टिश्यू पर तनाव और खिंचाव कम हो जाता है।

सबसे पहले जानते हैं क्यों होती है ब्रेस्ट सैगिंग (Breast Sagging Causes)

गायनेकोलोजिस्ट और इन्स्टाग्राम इन्फ्लुएंसर डॉ. अंजलि कुमार कहती हैं, ‘ब्रेस्ट सैगिंग मुख्य रूप से जेनेटिक्स, एज, स्किन इलास्टिसिटी में चेंज के कारण हो सकती है। उम्र बढ़ने से लोच में कमी सैगिंग में प्रमुख भूमिका निभाती है। चेहरे की त्वचा की तरह स्तनों के आसपास की त्वचा भी बूढ़ी होने लगती है। यहां तक कि छोटे स्तन भी ढीले हो जाते हैं।

ब्रेस्ट सैगिंग मुख्य रूप से जेनेटिक्स, एज, स्किन इलास्टिसिटी में चेंज के कारण हो सकती है। चित्र : अडोबी स्टॉक

समय के साथ हमारी पूरी त्वचा लोच खो देती है। इसके कारण यह नीचे की और लटकने लगती है। ब्रेस्ट के सुडौल होने में वसा भी प्रमुख भूमिका निभाती है। उम्र बढ़ने के साथ विशेष रूप से रजोनिवृत्ति से पहले और उसके दौरान स्तन में वसा की मात्रा में वृद्धि होती है।बड़े स्तनों में आमतौर पर अधिक मात्रा में वसा होती है।

टिश्यू बन सकते हैं सैगिंग की वजह ( Gland Tissue may cause Breast Sagging)

ग्लैंड संबंधी टिश्यू भी स्तन को सुडौल बनाए रखने में भूमिका निभाते हैं। ये ऊतक स्तन में दूध के स्राव के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये बहुत पतले होते हैं, लेकिन वे घने भी होते हैं। अधिक ग्रंथि ऊतक होने से स्तन मजबूत और थोड़ा कम ढीला होता (breast sagging) है। यदि स्तनों का आकार वजन के साथ बदलता रहता है, तो स्तन संभवतः अधिक वसायुक्त ऊतक और कम ग्लैंड टिश्यू से बने होते हैं। इसका मतलब है कि उनके झुकने की अधिक संभावना है

व्यक्तिगत चुनाव है सोते समय ब्रा पहनना ( Wearing Bra while Sleeping)

डॉ. अंजलि कहती हैं, ‘सोते समय ब्रा पहनना व्यक्तिगत प्राथमिकता (Personal Priority) हो सकती है। स्तन स्वास्थ्य (Breast Sagging) को बनाए रखना स्वस्थ जीवन शैली के माध्यम से बेहतर ढंग से प्राप्त किया जा सकता है। इसमें नियमित व्यायाम, स्वस्थ वजन बनाए रखना और स्किन को अत्यधिक धूप के संपर्क से बचाना भी शामिल है। इस सन्दर्भ में कोई भी साइंटिफिक साक्ष्य नहीं है कि सोते समय ब्रा पहनने से ब्रेस्ट सैगिंग नहीं होगी

एक्सरसाइज से ब्रैस्ट सैगिंग की समस्या दूर हो सकती  है। चित्र  :अडोबी  स्टॉक

एक्सरसाइज से हो सकता है सुधार (Exercise for brain sagging)

कई एक्सरसाइज हैं, जो पेक्टोरल मांसपेशियों को मजबूत बना सकते हैं। यह जरूरी नहीं कि व्यायाम स्तनों को सुडौल बनाए। यदि किसी को ब्रा पहनकर सोना पसंद है, तो निश्चित रूप से इसका कोई नुकसान नहीं है। यह पूरी तरह किसी की अपनी पसंद हो सकती है कि वह किस तरह बेड पर सोना चाहता है।

यह भी पढ़ें :-Preeclampsia : विशेषज्ञ बता रहें हैं क्या है प्रेगनेंसी में प्रीक्लेम्पसिया की समस्या और इससे होने वाले जाेखिम

 

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख