Healthy Bladder Habits : अपने ब्लैडर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए अपनाएं 9 आदतें

ब्लैडर को सही बनाए रखना बहुत ज़रूरी है, नहीं तो यह यूरिन इन्फेक्शन से लेकर पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है। तो चलिये जानते हैं कुछ टिप्स जिनकी मदद से आप रख सकती अपने ब्लैडर का ख्याल।
जानिए ब्लैडर को हेल्दी बनाए रखने के लिए कुछ टिप्स. चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Updated on: 7 December 2022, 13:37 pm IST
ऐप खोलें

अच्छा ब्लैडर समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकता है। इतना ही नहीं, महिलाओं के लिए ब्लैडर (bladder) को सही बनाए रखना बहुत ज़रूरी है। नहीं तो यह यूरिन इन्फेक्शन से लेकर पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा, हमारी किडनी हेल्थ (kidney health) भी ब्लैडर के सुचारु रूप से काम करने पर निर्भर करती है।

ब्लैडर हेल्थ भी उम्र के साथ – साथ प्रभावित होती है। बचपन में यह और भी अच्छी तरह से काम करता है। मगर, मेयो क्लीनिक के अनुसार जैसे – जैसे हम बड़े होते हैं हमारी पेल्विक फ्लोर की मसल्स (pelvic floor muscles) कमजोर पड़ने लगती हैं, जिसके कारण हमारा ब्लैडर सही से खाली नहीं हो पता है। इसकी वजह से यूरिन इकट्ठा हो जाता है और इन्फेक्शन (infection) पनपने लग सकता है।

इसलिए ब्लैडर हेल्थ को मेंटेन करना बहुत ज़रूरी है, तो चलिये जानते हैं कुछ टिप्स जिनकी मदद से हम रख सकते हैं अपने ब्लैडर का ख्याल

1. पेल्विक फ्लोर मसल्स एक्सरसाइज करें

पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज, जिन्हें कीगल एक्सरसाइज के नाम से भी जाना जाता है, ब्लैडर में यूरिन को होल्ड करने में मदद करती हैं। रेगुलर व्यायाम इन मांसपेशियों को मजबूत कर सकता है। इसकी वजह से छींकने, खांसने, उठने, हंसने या अचानक पेशाब करने की इच्छा होने पर आप कुछ देर के लिए यूरिन को कंट्रोल कर पाएंगी।

2. सूती अंडरवियर और ढीले कपड़े पहनें

ढीले सूती कपड़े पहनने से मूत्रमार्ग के आसपास के क्षेत्र को सूखा रखने में मदद मिलती है। टाइट-फिटिंग पैंट और नायलॉन अंडरवियर नमी को रोक लेते हैं और बैक्टीरिया के बढ़ने का कारण बनते हैं।

3. टॉयलेट का उपयोग करने में संकोच न करें

कई बार हम बाहर होते हैं या किसी काम या मीटिंग में बीजी हो जाते हैं जिसकी वजह से हम टॉयलेट भी जाना भूल जाते हैं। इसकी वजह से हमारा ब्लैडर बहुत देर तक खाली नहीं हो पता है और इन्फेक्शन बढ़ने का चांस रहता है।

ब्लैडर को कैसे हेल्दी बनाए रखें. चित्र : शटरस्टॉक

4. खुद को आगे से पीछे की ओर पोचें

टॉयलेट का उपयोग करने के बाद खुद को आगे से पीछे की ओर पोंछें। गट के बैक्टीरिया को मूत्रमार्ग में जाने से रोकने के लिए यह तरीका सबसे सही है। मल त्याग के बाद ये स्टेप सबसे महत्वपूर्ण है।

5. सेक्स के बाद पेशाब ज़रूर करें

सेक्सुअल एक्टिविटी बैक्टीरिया को गट या योनि से मूत्रमार्ग तक ले जा सकती है। इन्फेक्शन के जोखिम को कम करने के लिए महिलाओं और पुरुषों दोनों को सेक्स के तुरंत बाद पेशाब करना चाहिए।

6. नियमित रूप से व्यायाम करें

शारीरिक गतिविधि मूत्राशय की समस्याओं के साथ-साथ कब्ज की समस्या को खत्म करने में मदद कर सकती है। यह आपको मोटापे से भी बचाता है। जिन लोगों का वज़न ज़्यादा होता है, उन्हें यूरिन लीकेज का ज़्यादा खतरा होता है।

कीगल एक्सरसाइज योनि के कसाव में फायदेमंद है। चित्र:शटरस्टॉक

7. सही और संतुलित आहार लें

स्वस्थ भोजन खाने से आपको शारीरिक रूप से सक्रिय होने में मदद मिल सकती है। यदि आप ज़्यादा जंक खाती हैं और पर्याप्त पानी नहीं पीती हैं, तो आपको ब्लैडर  को हेल्दी बनाए रखने में समस्याएं आ सकती हैं।

8. यूरिन रोक कर न रखें

अपने मूत्राशय में बहुत देर तक मूत्र रोके रखने से आपके मूत्राशय की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं और मूत्राशय में संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए, हर 3 से 4 घंटे में कम से कम एक बार पेशाब करने की कोशिश करें।

9. पेशाब करते समय रिलैक्स रहें

ब्लैडर के आसपास की मसल्स को रिलैक्स करने से ब्लैडर को खाली करने में आसानी रहती है। पेशाब करते समय मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करने के लिए पर्याप्त समय लें, बीच में न उठें। इसके अलावा, ज़्यादा देर टॉयलेट सीट पर बैठते रहना भी आपके लिए सही नहीं है।

यह भी पढ़ें : अच्छी नींद के साथ आपकी स्पाइन के लिए भी जरूरी है एक सही तकिया, जानिए कैसे चुनना है सही तकिया

 

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story