लॉग इन

International HPV Awareness Day : सर्वाइकल कैंसर का संकेत हो सकता है असामान्य पीरियड या सेक्स के दौरान दर्द

एचपीवी संक्रमण के कारण होने वाला सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में तेजी से बढ़ता जा रहा है एक खतरनाक किस्म का कैंसर है। इसलिए यह जरूरी है कि आप अपने वेजाइनल और मेंस्ट्रुअल स्वास्थ्य की लगातार मॉनीटरिंग करें।
हार्मोनल परिवर्तनों को बढ़ा सकता है, जिससे थकान, चिड़चिड़ापन और हार्मोनल असंतुलन बढ़ सकता है। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 4 Mar 2024, 03:47 pm IST
इनपुट फ्राॅम
ऐप खोलें

इंटरनेशनल एचपीवी अवेयरनेस डे 2024 ग्लोबल हेल्थ कंसीक्वेंसेस के प्रति एक बहुत बड़ा मूमेंट है। जो ह्यूमन पैपिलोमावायरस (HPV) संक्रमण से उत्पन्न गंभीर लेकिन बचाव योग्य खतरे पर प्रकाश डालता है। यह वार्षिक उत्सव सर्वाइकल, एनल, पेनाइल, वेजाइना, वल्वर और ऑरोफरीन्जियल कैंसर सहित एचपीवी से संबंधित बीमारियों के खिलाफ शिक्षित करता है। साथ ही जागरुकता को बढ़ावा देने के लिए कई अलग अलग प्रोग्राम आदि के तहत कार्य करता है। ऐसे में हम सभी को HPV के प्रति पूरी तरह से सचेत रहने का प्रयास करना चाहिए।

महिलाओं में बढ़ती उम्र के साथ पीरियड्स इरेगुलर हो जाते हैं। कुछ महिलाएं इसे मेनोपॉज का शुरुआती फेज समझ कर नजरंदाज करना शुरू कर देती हैं। पर असल में यह खतरनाक है, क्योंकि ये सर्वाइकल कैंसर का एक लक्षण हो सकता है।

TGH ऑनको लाइफ कैंसर सेंटर, तालेगांव की एमडी रेडिएशन और क्लीनिकल ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ. ज्योति मेहता ने एचपीवी संक्रमण से होने वाले सर्वाइकल कैंसर के खतरों के प्रति जागरूक करने की कोशिश की है। साथ ही उन्होंने मेंस्ट्रुअल पीरियड मिस होने और सर्वाइकल कैंसर के संबंध पर भी गौर किया है (irregular periods and cervical cancer)। तो चलिए जानते हैं, इस बारे में अधिक विस्तार से (early signs of cervical cancer)।

पहले जानें इस पर क्या कहती हैं एक्सपर्ट

डॉ ज्योति कहती हैं, “महिलाओं को अपने शरीर पर ध्यान देना चाहिए और अपने मेंस्ट्रुअल साइकल में किसी भी बदलाव को नजरंदाज नहीं करना चाहिए। इरेगुलर पीरियड्स सर्वाइकल कैंसर जैसी अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या का एकमात्र चेतावनी संकेत हो सकता है। मेंस्ट्रुअल पैटर्न में परिवर्तनों की सक्रिय रूप से निगरानी और समाधान करके, महिलाएं अपने प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखने और सर्वाइकल कैंसर को रोकने की ओर सक्रिय कदम उठा सकती हैं।”

जानिए क्या है ह्यूमन पेपिलोमा वायरस और सर्वाइकल कैंसर के बारे में। चित्र : शटरकॉक

एचपीवी वायरस से बढ़ जाता है सर्वाइकल कैंसर का खतरा

सर्वाइकल कैंसर एक प्रकार का कैंसर है, जो सर्विक्स में शुरू होता है। सर्विक्स यूट्रस और वेजाइना के बीच का एक नैरो पाथ हैं। यह आमतौर पर उच्च जोखिम वाले प्रकार के ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) के लगातार संक्रमण के कारण होता है, जो समय के साथ सर्विक्स में असामान्य सेल्स परिवर्तन का कारण बन जाते हैं। यदि उपचार न किया जाए, तो ये असामान्य सेल्स कैंसर में विकसित हो सकती हैं। सर्वाइकल कैंसर अक्सर धीरे-धीरे बढ़ता है, जिससे सफल उपचार के लिए शीघ्र पता लगाना महत्वपूर्ण हो जाता है।

यह भी पढ़ें: World Cancer Day पर जानिए क्या सच में ग्रिल्ड और स्मोक्ड फूड्स से बढ़ जाता है कैंसर का खतरा?

सर्वाइकल कैंसर के इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

असामान्य डिस्चार्ज जिसमें दुर्गंध हो या खून हो।
योनि से असामान्य रूप से ब्लीडिंग होना, विशेष रूप से पीरियड्स के बीच या मेनोपॉज के बाद।
सेक्स के दौरान पेल्विक पेन और परेशानी सर्वाइकल कैंसर का संकेत हो सकते हैं।
इरेगुलर पीरियड को अक्सर महिलाओं द्वारा मेनोपॉज या हार्मोनल चेंजेज का एक सामान्य हिस्सा मानकर नजरअंदाज कर दिया जाता है। हालांकि, ये सर्वाइकल कैंसर का एक बड़ा संकेत है।

समझें इरेगुलर पीरियड और सर्वाइकल कैंसर के बीच का संबंध

इरेगुलर पीरियड खतरनाक हो सकता है और अक्सर सर्वाइकल कैंसर से जुड़ा होता है। यहां, हम आपको अनियमित मासिक धर्म और सर्वाइकल कैंसर के बीच संबंध को समझने में मदद करेंगे। याद रखें, इरेगुलर पीरियड शरीर को उसकी स्थिति का संकेत देता है। महिलाओं से आग्रह है कि वे इन परिवर्तनों को हल्के में न लें।

वास्तव में इरेगुलर पीरियड हार्मोनल असंतुलन या अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्याओं का एक संकेत हो सकता है, जिस पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अनियमित मासिक धर्म से जुड़े संभावित खतरों में से एक है सर्वाइकल कैंसर का खतरा। मासिक धर्म के पैटर्न में बदलाव, जैसे अनप्रिडिक्टेबल ब्लीडिंग या लंबे समय तक पीरियड्स होना, सर्विक्स में असामान्यताओं का संकेत दे सकता है, जिसका इलाज न किए जाने पर कैंसर हो सकता है।

हो सकता है पीरियड्स में अधिक दर्द का अनुभव। चित्र : शटरस्टॉक

इरेगुलर पीरियड्स और सर्वाइकल कैंसर के बीच संबंध का पता लगाने और बचाव के लिए मेंस्ट्रूअल साइकिल को समझना और इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। अपने मासिक धर्म में अनियमितताओं का सामना करने वाली महिलाओं के लिए यह आवश्यक है कि वे अपने समग्र फर्टिलिटी हेल्थ को सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा पर ध्यान दें और नियमित जांच करवाएं। मासिक धर्म के पैटर्न में किसी भी बदलाव के बारे में सतर्क रहकर, व्यक्ति सर्वाइकल कैंसर के विकास के जोखिम को कम करने और अपनी देखभाल को प्राथमिकता देने के लिए कदम उठा सकते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

याद रखें

महिलाओं को अपने शरीर की बात सुनने की जरूरत है। यदि उनकी माहवारी सामान्य से अलग चल रही है, तो उन्हें चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए। एचपीवी के कारण होने वाले सर्वाइकल कैंसर से निपटने में समस्या का जल्दी पता लगाना और उपचार महत्वपूर्ण है। इरेगुलर पीरियड्स को नज़रअंदाज न करें, क्योंकि बहुत देर होने से पहले यह आपके शरीर का ध्यान आकर्षित करने का तरीका हो सकता है।

यह भी पढ़ें: Genetic Cancer : समझिए फैमिली हिस्ट्री कितना बढ़ा सकती है आपके लिए कैंसर का जोखिम

अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख