ब्लीचिंग या वैक्सिंग, इनमें से किसे पेट या कमर के अवांछित बालों पर बेहतर तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है?

चेहरा, बाजू और टांगों के अलावा आपके शरीर के एक और हिस्सा है, जहां आप अनचाहे बालों से परेशान रहती हैं। खासतौर पर तब जब आपको साड़ी, लहंगा या कोई लो वेस्ट ड्रेस पहननी हो।
ब्लीचिंग या वैक्सिंग- जानिए क्या हैं आपके पेट और कमर के बालों को हटाने के लिए बेहतर। चित्र:शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Updated on: 19 October 2021, 11:44 am IST
ऐप खोलें

अनचाहे बाल आपके शरीर के हर हिस्से पर मौजूद होते हैं। पर कुछ जगह ऐसी होती हैं, जहां से आपको सबसे ज्यादा इरिटेट करते हैं। नहीं, हम चेहरे या आपकी बाजुओं की बात नहीं कर रहे। हम बात कर रहे हैं आपकी कमर और पेट के हिस्से की। खासतौर से तब जब आप साड़ी, लहंगा या कोई लो वेस्ट ड्रेस पहनने वाली हों, तब आप जरूर जानना चाहेंगी कि इन अनचाहे बालों को कैसे मैनेज किया जाए। वैक्सिंग और ब्लीचिंग दो सबसे लोकप्रिय तरीके हैं। पर इनमें से आपके लिए कौन सा बेस्ट रहेगा, आइए पता करते हैं। 

पेट और कमर पर मौजूद अनचाहे बाल 

आपको सुंदर दिखने के लिए किसी खास दिन की जरूरत नहीं, हम जानते हैं। फिर भी जब बात किसी खास पार्टी या खास त्योहार की हो, तो आप भी स्पेशल दिखना चाहती हैं। इन दिनों आपकी तैयारियों में करवा चौथ शामिल हो सकता है। पर इन तैयारियों के बीच आपके पेट या कमर पर पाए जाने वाले अनचाहे बाल आपके कॉन्फीडेंस को कम कर सकते हैं। 

अनचाहे बालों को हटाने के कई विकल्प हैं। चित्र: शटरस्टॉक

यह एक ऐसी परेशानी है, जिससे बहुत सी महिलाएं जूझती हैं। साफ-सुथरी और टोंड कमर का सपना हर औरत देखती हैं। करवा चौथ के अवसर पर उसे बेशक हासिल करना चाहती हैं। लेकिन क्या आप इसे पाने के विभिन्न तरीकों के बीच कन्फ्यूज़ हैं? तो हम बता रहें हैं कि कैसे ब्लीचिंग या वैक्सिंग से आप अपनी फेवरिट हेरोइन की तरह खूबसूरत और आकर्षक कमर पा सकती हैं। 

ब्लीचिंग vs वैक्सिंग – क्या हैं आपका गो-टू ऑप्शन? 

पेट तथा कमर के बाल हटाने के कई तरीके हैं। ये तरीके बजट के मामले में बहुत भिन्न होते हैं। साथ ही यह कितने समय तक चलती हैं, इस बात को तय करता हैं कि आप कौन सा तरीका अपनाएं। 

आम तौर पर सभी विधियों को सुरक्षित माना जाता है। आपकी स्किन टाइप, व्यक्तिगत पसंद, दर्द सहनशीलता और बजट के आधार पर, आप यह तय कर सकते हैं कि पेट से अनचाहे बालों को हटाने के लिए कौन सा तरीका आपके लिए सबसे अच्छा काम करता है।

पेट और कमर की वैक्सिंग

वैक्सिंग की प्रक्रिया में त्वचा पर वैक्स लगाना और फिर बालों को हटाना शामिल है। शुगरिंग, चॉकलेट वैक्सिंग, रिका वैक्सिंग आदि इसके कई प्रकार हैं। आप पार्लर में भी एक्सपर्ट द्वारा वैक्सिंग करवा सकती हैं। हेयर रिमूवल का यह तरीका आम तौर पर सस्ता माना जाता हैं। 

अगर आप वैक्सिंग के लिए आगे बढ़ रहीं हैं, तो इसके फायदे और नुकसान भी जान लें – 

वैक्सिंग के फायदे 

  • पेट से बाल हटाने में वैक्सिंग बहुत कारगर है।
  • परिणाम लगभग एक महीने तक और कभी-कभी लंबे समय तक रह सकते हैं। क्योंकि इस प्रक्रिया में बालों को जड़ से हटा दिया जाता है।
  • यह त्वचा की ऊपरी परत में जमी गंदगी या डेड स्किन सेल्स को भी बालों के साथ निकाल देती है। 
शेविंग अनचाहे बालों को हटाने का एक विकल्प हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

अब वैक्सिंग के नुकसान भी जानिए 

  • यह प्रक्रिया असहज या दर्दनाक हो सकती है।
  • अगर आप खुद इसे कर रहीं हैं और इसमें कुशल नहीं हैं, तो आपकी स्किन जलने का भी खतरा हो सकता है। 
  • इससे कई बार स्किन पर दाने और रैशेज हो सकते हैं।
  • दोबारा वैक्सिंग करवाने के लिए आपको बालों के वापस उगने का इंतज़ार करना होगा। छोटे बालों को वैक्स नहीं किया जा सकता हैं। 

अब जानते हैं पेट और कमर पर ब्लीचिंग के बारे में  

ब्लीचिंग बालों के मेलेनिन (melanin) के स्तर को कम कर उन्हें स्थायी रूप से हल्का करने का काम करती है। कमर और पेट के बालों के शेड को हल्का करने के लिए कुछ सक्रिय केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता हैं। इनमें से एक हाइड्रोजन पेरोक्साइड (hydrogen peroxide) हैं। इसका उपयोग सिर के बालों को हल्का करने के लिए भी किया जाता है। 

यहां हैं ब्लीचिंग के फायदे 

  • ब्लीचिंग एक जल्दी और आसान DIY  प्रक्रिया है। इसकी पूरी प्रक्रिया में केवल 15-20 मिनट लगते हैं। 
  • साथ ही, इसे घर पर भी किया जा सकता है। कोई सैलून ट्रिप या स्पा अपॉइंटमेंट की आवश्यकता नहीं है।
  • बार-बार टच-अप किया जा सकता हैं। 
  • यदि आपकी त्वचा ब्लीच पर नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं देती है, तो यह साप्ताहिक अंतराल पर की जा सकती है। 
  • इससे त्वचा पर मुंहासे या रैशेज को जोखिम नहीं रहता। 
  • वैक्सिंग के मुकाबले यह ज्यादा किफायती है।
कई तरह इ वैक्सिंग ऑप्शन हैं उपलब्ध। चित्र: शटरस्टॉक

अब ब्लीचिंग के साइड इफैक्ट भी जान लें 

  • यह बालों को हटाती नहीं है, बल्कि उनके शेड को हल्का करती है। 
  • यह डार्क स्किन वालों के लिए आदर्श विचार नहीं हो सकता। हाइड्रोजन पेरोक्साइड के गहरे रंग पर नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं। 
  • यह लंबे, घने बालों पर उतना प्रभावी नहीं है। 
  • ब्लीचिंग कुछ हफ्तों के भीतर डार्क रिग्रोथ जैसे दुष्परिणाम दे सकता हैं। 

तो लेडीज, इन दोनों तरीकों को अच्छे से परखें और सही विकल्प को ही अपनी हेयर रिमूवल रूटीन का हिस्सा बनाएं। हमारी मानें, तो आप नेचुरल ही सबसे सुंदर हैं। 

यह भी पढ़ें: करवाचौथ पर पाना है कुदरती निखार, तो मेरी मम्मी की तरह इस देसी उबटन पर करें भरोसा

लेखक के बारे में
अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story