लॉग इन

Green Coffee Benefits : इन 5 फायदों के लिए आप भी जरूर ट्राई करें ग्रीन कॉफी

Published on:26 September 2023, 07:29pm IST

आपने ब्लैक कॉफी, कोल्ड कॉफी, कैपिचीनो, लाटे, जैसी कई कॉफी पी होंगी, लेकिन क्या कभी आपने ग्रीन कॉफी ट्राई की है? असल में ग्रीन कॉफी आपकी सेहत के लिए दूध वाली सभी कॉफियों में सबसे अच्छी है। तो चलिए जानते हैं ग्रीन कॉफी के फायदों के बारे में।

1/7

जानिए क्या है ग्रीन कॉफी - ग्रीन कॉफी को ब्राउन कॉफी का तरह भूना नहीं जाता है। इन्हें इसके प्राकृतिक हरे रंग में ही रखा जाता है। इनमें कुछ यौगिक भुनी हुई कॉफी की तुलना में अधिक होते है। यह कॉफी पूरी तरह से कच्ची होती है। ग्रीन कॉफी का स्वाद भुनी हुई कॉफी जैसा नही होता है। क्योंकि इसका स्वाद बहुत हल्का होता है। ऐसा कहा जाता है कि इसका स्वाद कॉफी की तुलना में हर्बल चाय जैसा होता है। चित्र-अडोबी स्टॉक

2/7

पोषक तत्वों से भरपूर है ग्रीन कॉफी - कॉफी बीन्स में क्लोरोजेनिक एसिड 5-10% होता है, जो कैफीन से बड़ी मात्रा है, जो 1-2% होता है। हालाँकि, भूनने पर, इस प्रक्रिया में अधिकांश क्लोरोजेनिक एसिड नष्ट हो जाता है। चूंकि ग्रीन कॉफ़ी बिना भुनी हुई होती है, इसलिए यह लाभकारी यौगिक को बरकरार रखती है और इसलिए एंटीऑक्सिडेंट और सूजन-रोधी प्रभाव प्रदान कर सकती है। चित्र-अडोबी स्टॉक

3/7

क्या ग्रीन कॉफी से कुछ नुकसान है - ग्रीन कॉफी नियमित कॉफी की तुलना में कोई अलग प्रभाव नहीं डालती है। कॉफी में मौजूद कैफीन ही कॉफी से होने वाली समस्या के लिए जिम्मेदार होती है, और ग्रीन कॉफी और ब्राइन दोनों कॉफी मे कैफीन समान मात्रा में होता है। इसलिए आप दोनों तरह की कॉफी पीने से बेचैनी, चिंता, नींद न आना, पेट की समस्या के प्रति संवेदनशील हो सकते है। चित्र-अडोबी स्टॉक

4/7

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है ग्रीन कॉफी। चित्र- अडोबी स्टॉक

5/7

वजन प्रबंधन में मददगार - कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड वजन प्रबंधन में मदद कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह चयापचय को प्रभावित करता है और पाचन तंत्र से कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को कम कर सकता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

6/7

लिवर के लिए भी फायदेमंद है ग्रीन काॅफी - ग्रीन कॉफी का अर्क लिवर में वसा के संचय को कम करके लिवर को स्वास्थ रखने में मदद कर सकता है, जो गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग वाले व्यक्तियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। अगर आपको पाचन संबंधी दिक्कतें हो रहीं हैं या आंखों का रंग पीला पड़ता जा रहा है तो अपने डॉक्टर की सलाह पर रेगुलर चाय-कॉफी को ग्रीन कॉफी से बदलें। चित्र- अडोबी स्टॉक

7/7

बेहतर मूड और मेमोरी के लिए है फायदेमंद - ग्रीन कॉफी में कैफीन होता है, जो हल्की ऊर्जा को बढ़ाने में मदद कर सकता है और सतर्कता और संज्ञानात्मक कार्य में सुधार कर सकता है। इसके अतिरिक्त, कैफीन मूड पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। इससे आपका तनाव भी कम हो सकता है। तो अगर आप इन दिनों ज्यादा चिड़चिड़ा या चीजें भूलने का अनुभव कर रहीं हैं, तो ग्रीन कॉफी को अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं। चित्र-अडोबी स्टॉक

NEXT GALLERY